Tuesday, August 16, 2022
Follow us on
-
लेख
एक आंदोलन कारी व्यक्तित्व मैथिलीशरण गुप्त ;शीतल शैलेन्द्र "देवयानी"

यहां की भूमि धन्य हुई जिसने भारत मां के सपूत को 3 अगस्त 1886 में जन्म दिया

दूसरों में कमी और खुद को क्लीन चिट; शीतल शैलेन्द्र"देवयानी"

ठीक उसी प्रकार होता है। ब्लेम गेम या दोषारोपण का खेल। हम सदैव हर बात हर गलती या फिर किसी कार्य के बिगड़ जाने पर सदैव एक ही पल में जाने बिना कुछ भी बस मौका मिलते ही दूसरों पर दोष लगा देते हैं। चाहे गलती के हकदार हम क्यों खुद ही क्यों ना हो ?

बसंत पंचमी विशेष ;डॉ अर्चना मिश्रा शुक्ला

नौमी तिथि मधुमास पुनीता ।

सकल पुच्छ अभिजित हरिप्रीता 

संवाद का......... अभाव

अबूझ पहेलियो और रहस्यमय शब्द जालो , व्यवहारों और विचित्र से प्रस्तावों के मध्य

कोविड़ -19 एक युद्ध

डा ० अर्चना मिश्रा शुक्ला#आर्थिक मुश्किलें विश्व स्तर पर प्रत्येक देश भुगत रहा है । पूरी दुनिया आर्थिक मंदी की गिरफ्त में रही है इसकी क्षतिपूर्ति में कई वर्ष लग जाएगें ।

आखिर रोजगार के सृजन कब होंगें नव भारत का निर्माण संसद भवन के निर्माण से शुरू ?

सामाजिक विषय #राम भगत नेगी किन्नौर
हिमाचल प्रदेश#अब नया संसद भवन बन कर देश में नव भारत का सृजन होगा फिर सांसदो के वेतन बड़ा कर देश नव भारत की ओर अग्रसर होगा किन्तु देश में मजदूर, किसान,मध्यमवर्ग ,जैसे थे वैसे ही रहेंगे

.बढ़ती आर्थिक - असमानताएं और आम - आदमी की पीड़ा

विश्वव्यापी कोरोना - त्रासदी पर आपका एक काव्य - संग्रह " त्रासदियों का दौर " और एक विश्लेषण पूर्ण किताब " वैश्विक त्रासदी और भारत की अर्थव्यवस्था " प्रकाशित हो रही हैं .

गुरु नानक देव जी के संदेश

प्रकाश पर्व#30 नवंबर 2020- श्री गुरु नानक जनमोत्सव विशेष #डॉक्टर अमिताभ शुक्ल द्वारा प्रकाश पर्व पर गुरु नानक देव जी की शिक्षाओं से समाज को जागरुक करते विचार

भारत में लोकतंत्र , राजतंत्र और अर्थ - तंत्र की दिशा और आम आदमी का जीवन : - +

अमिताभ शुक्ला


भारत में लोकतंत्र , राजतंत्र और अर्थ - तंत्र की दिशा और आम आदमी का जीवन : -

कोरोना का वार महंगाई से हाहाकार

 कोरोना  का वार  महंगाई से हाहाकार प्रीति शर्मा असीम

काव्य - संग्रह " त्रासदियों का दौर " पर मंतव्य

किताबी दुनिया के बीच रहकर किताबी कीट बन जाने वाली नियति से बचे रहे और समाज के प्रत्येक चाल चलन के प्रति प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए अपनी संवेदनात्मक सजगता का परिचय देते रहे .

अप्रतिम जीवनी-शक्तिवाली और संघर्षशील भाषा : हिन्दी*

 *है भव्य भारत ही हमारी मातृभूमि हरी-भरी ।*
*हिन्दी हमारी राष्ट्रभाषा और लिपि है नागरी ।।*

हिंदी दिवस पर हिंदी का महत्व हिंदी दिवस पर हिंदी का महत्व स्वतंत्रता के मायने की समीक्षा 3 अगस्त रक्षाबंधन पर इस बार ऐसे विशेष योग 29 साल बाद और श्रावण पूर्णिमा विशेष महाकवि तुलसीदास #नारी निंदा के आरोप को खारिज करता शोध मानव -प्रकृति और कोरोना, हमारे जीवन , हमारी धारणाएं, सब संवेदनशून्य होती जा रही; प्रीति शर्मा "असीम" प्यार की परिभाषा बच्चों में भाषा विकारों की शुरुआती पहचान अनलॉक दो को सामान्य स्थिति समझने की भूल ना करें अनलॉक दो को सामान्य स्थिति समझने की भूल ना करें गुरु के महत्व को अवलोकित करता पर्व-- गुरु पूर्णिमा  हिमाचल पर्यटन पर कोरोना का आघात अनलॉक एक का मतलब है और अधिक सावधानी, एतिहात
Total Visitor : 1,30,17216
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy