Monday, November 18, 2019
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
पंचायत उपचुनाव परिणाम : रणबीर ज्योली देवी तो सुरजीत बने सौर पंचायत के प्रधान, सतीश (दाँदड़ू) संजीव (बफड़ी)प्रकाश ( चमनेड) बामदेव (नौहगी) राकेश बने मण पंचायत के उपप्रधान क़ाज़ा से उठी नशीले पदार्थों के ख़िलाफ़ आवाज़, एडीएम ज्ञान सागर ने दिलाई शपथ समाज सेवा का सशक्त माध्यम है पत्रकारिता, पत्रकार स्वस्थ पत्रकारिता को अपनायें : हरिकेश मीणाब्रेकिंग : वृद्ध महिला से क्रूरता मामले में एसएचओ सरकाघाट और एक हेड कांस्टेबल लाइन हाजिरअसली डायन/ भूत कौन - 81 वर्षीय राजदेई, 71 वर्षीय कृष्णा देवी , 70 वर्षीय जयगोपाल या फिर 28 वर्षीय पुजारिन निशु असली डायन/ भूत कौन - 81 वर्षीय राजदेई, 71 वर्षीय कृष्णा देवी , 70 वर्षीय जयगोपाल या फिर 28 वर्षीय पुजारिन निशु हमीरपुर : उपायुक्त की पहल पर सज़ा साप्ताहिक बाजार, हाथों हाथ बिकी 5 क्विंटल हरी सब्जियांसराहकड़ ( हमीरपुर) : सरकार-प्रशासन से नहीं माँगी मदद, श्मशान घाट बनाने खुद उतर पड़े गांव वाले
-
कारोबार

मर्जर के खिलाफ देश भर में आज बैंक रहे बंद

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | October 22, 2019 04:28 PM

 

हिमाचल में भी देखा गया हड़ताल का असर
वेज रिवीजन, एनपीए और रिक्त पदों को भरने की कर्मचारियों की मांग
भविष्य में अनिश्चितकालीन हड़ताल की केंद्र सरकार को दी चेतावनी


शिमला,
देश भर में राष्ट्रीय बैंको में आज हड़ताल रही जिसका असर हिमाचल प्रदेश में देखने को मिला।सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के विलय के विरोध में मंगलवार को हिमाचल प्रदेश बैंक एंप्लाइज फेडरेशन के आह्वान पर बैंक कर्मचारी हड़ताल पर रहे। कर्मचारी केंद्र सरकार से मांग कर रहे हैं कि बैंकों का विलय रोका जाए। खराब ऋण की वसूली सुनिश्चित कर ऋण नहीं चुकाने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने का प्रावधान किया जाए। फेडरेशन ने मांग की है कि बैंकों की तरफ से दी जा रही ग्राहकों की सेवाओं पर सेवा शुल्क में वृद्धि न की जाए और जमा रकम पर ब्याज दर बढ़ाई जाए।इसके अलावा एटीएम से तीन बार से ज्यादा ट्रांसक्शन करने पर शुल्क लगाने की कंडीशन को हटाया जाए।फेडरेशन के अस्सिस्टेंट जनरल सेक्रेटरी रंजीत शर्मा ने बताया कि बैंक कर्मचारी ने नोटबन्दी और सरकार की योजनाओं को लोग तक पहुंचाने के लिए दिन रात काम किया है बावजूद इसके सरकार कर्मचारियों की मांगों पर गौर नहीं कर रही।बैंको में रिक्त पदों को भरने के लिए सरकार कोई कदम नहीं उठा रही है जिससे कर्मचारियों पर काम का बोझ पड़ रहा है।कर्मचारियों का वेज रिवीजन दो साल से नहीं हुआ है।फेडरेशन ने सरकार को चेताया है कि अगर कर्मचारियों की मांगों पर सरकार ने कोई निर्णय नहीं लिया तो कर्मचारी आने वाले समय मे अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जायेंगे।
बैंकों में तृतीय आउट चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारी हड़ताल रहे जबकि अधिकारियों की ओर से कामकाज चलता रहा। दीवाली और धनतेरस से पहले बैंक बंद होने से कारोबारी के साथ आम लोगों को भी थोड़ी परेशानी हड़ताल के कारण उठानी पड़ी।

Have something to say? Post your comment
 
और कारोबार खबरें
हिमाचल सरकार ने 10095 करोड़ के समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए बंजार के बागबान पदम देव ने अनार से की आर्थिकी सुदृढ़ हाईब्रीड मक्की बीज ने मालामाल किए किसान,सुदृड़ हुई आर्थिकी उद्योग मंत्री ने जीएसटी परिषद की 37वीं बैठक में भाग लिया कॉर्पोरेट टैक्स को घटाकर 22 प्रतिशत किए जाने का निर्णय सराहनीयः मुख्यमंत्री कार्यशाला के बाद प्रतिष्ठित महिलाओं ने सूरज स्वीट्स एवं रेस्टोरेंट में किया लंच , जमकर की तारीफ केसीसी बैंक ने बरोहा में लगाया वित्तिय साक्षरता शिवि आज़ादी दिवस और रक्षा बंधन के लिए बाज़ारों में दिखा जोश टाटा ग्रुप ने हिमाचल में चुनिंदा क्षेत्रों में निवेश की इच्छा जताई सेब सीजन को लेकर प्रशासन ने कसी कमर