Monday, May 25, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
अपडेट/ : हमीरपुर जिला में कोरोना संक्रमित के पांच नए मामले, अबतक ज़िले में कुल 20 मामले , 15 एक्टिव , 4 ठीक हुए , एक मौत ब्रेकिंग : हमीरपुर ज़िला में एक साथ कोरोना के पाँच मामले आए सामने, संक्रमितों में एक महिला भी शामिल ,ब्रेकिंग : हमीरपुर के नादौन उपमंडल की ग्वाल पत्थर पंचायत में दो व्यक्तियों के कोविड-19 संक्रमित होने की पुष्टिब्रेकिंग: मड़ावग में नेपाली मूल के युवक ने फंदा लगाकर दी जान सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल ,ख़ास ख़बर : ग़ाज़ियाबाद का एक ऐसा स्कूल जिसने लॉकडाउन में तीन माह की फ़ीस माफ़ की और टीचरों के खाते में डाली सेलरी, हिमाचल के लालची स्कूलों के लिए करारा सबक़चौपाल, नेरवा में कल बंद रहेगी बिजलीहिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर में ऑनलाईन फेसबुक लाइव के माध्यम से अध्ययन केंद्र का विधिवत उद्घाटन
-
अंदर की बात

विधायक राजेंद्र राणा ने कहा : जुमले से ज्यादा कुछ नहीं इन्वेस्टर मीट , एक साल इसी इवेन्ट की तैयारी में कर दिया बर्बाद

रजनीश शर्मा | November 06, 2019 03:52 PM
राजेंद्र राणा , विधायक सुजानपुर विधानसभा क्षेत्र


हमीरपुर, 
सुजानपुर के विधायक राजेंद्र राणा ने कहा है कि वर्तमान प्रदेश सरकार ने एक साल इन्वेस्टर मीट की तैयारी में ही बर्बाद कर दिया, जबकि सबको पता है कि आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहे देश में इस इवेन्ट का कोई मतलब नहीं है तथा यह केवल भाजपा का केवल जुमला ही साबित होगा। जारी प्रेस विज्ञप्ति में उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार को सत्ता में आए हुए 2 साल होने वाले है, लेकिन अब तक सरकार ऐसा कोई काम नहीं कर पाई है जिससे जनता व प्रदेश का भला हुआ हो। इतना जरूर है कि जनता को अपनी बातों में घुमाने वाली फिरकी वाली सरकार का तमगा जरूर माथे पर लगा लिया है। उन्होंने कहा कि जनता भी इन्वेस्टर मीट का बड़ी बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं क्योंकि उसमें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व गृहमंत्री अमित शाह भी आने वाले है और उनसे प्रदेश के लिए कोई बड़ा तोहफा या राहत मिलने की आस लगाए बैठे हैं। उन्होंने कहा कि वैसे भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी हिमाचल को अपना दूसरा घर मानते हैं तो उनसे उनके परिवार को भी आशा है कि उनका मुखिया उन्हें निराश नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि जितने बड़े निवेश की बात सरकार कर रही है, अगर वैसा होता है तो प्रदेश सरकार को करोड़ों रुपए का कर्ज लेने की भी जरूरत भी नहीं पड़ेगी और जनता को विभिन्न करों में छूट देकर सरकार को राहत प्रदान करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि यह भी हैरानी की बात है कि हिमाचल में पर्यटन की अपार संभावनाएं व उसी में रोजगार का विकल्प होने के बावजूद सरकार बाहरी निवेश को महत्व दे रही है जबकि पहले ही स्थापित उद्योग तंगहाली में हैं। उन्होंने कहा कि पहले सुविधाएं जुटाने की बजाये सरकार और अधिक बोझ डाल रही है, वो भी केवल अपने चहेते 4-5 उद्योगपतियों को फायदा पहुंचाने की ही ये इन्वेस्टर मीट है।

 

Have something to say? Post your comment
 
और अंदर की बात खबरें