Saturday, July 11, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
नादौन पुलिस स्टेशन हिमाचल का सर्वश्रेष्ठ थाना घोषित , 47 पंचायतों की क़रीब एक लाख जनता को बेहतर सुरक्षा, व 19 मानकों पर तय हुई रैंकिंगब्रेकिंग: कलयुगी दादा ने अपनी 9 साल की पोती को बनाया हवस का शिकारशहादत : तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश के पार्थिव शरीर को देख बिलख उठे हमीरपुरवासी, आसमान भी रोया, राजकीय सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई , सीएम कल मिलेंगे परिजनों से तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश का पार्थिव शरीर ले आज 10 बजे लेह से चण्डीगढ़ के लिए उड़ान भरेगा विशेष विमान, क़ड़ोहता के बरसेला नाला में होगी राष्ट्रीय सम्मान के साथ अंतिम विदाईअंकुश की शहादत से हमीरपुर गमगीन, हमीरपुर जिला के कड़ोहता ( भोरंज उपमंडल)का वीर सैनिक अंकुश शहीद हुआ , कड़ोहता में बेसब्री से हो रहा शहीद के पार्थिव देह का इंतज़ार ब्रेकिंग ) हमीरपुर : मानसिक परेशानी से घर से ग़ायब युवक की सातवें दिन जंगलबेरी में मिली डेड बॉडी,ब्रेकिंग : जिला सोलन के अर्की में कोरोना का पहला मामला आने से हड़कंप ब्रेकिंग: कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति गुरुग्राम से सीधे पहुंचा अस्पताल, मेडिकल कॉलेज नेरचौक में मची अफरातफरी
-
क्राइम

देवदूत बनकर सामने आए थे परिवहन निगम के ड्राइवर, कंडक्टर

रजनीश शर्मा  | November 13, 2019 07:30 AM


भीड़ से छुड़ा बस में बिठा ले आए थे बुज़ुर्ग राजदेई को बरछबाड़
हमीरपुर ,
सरकाघाट उपमंडल के गोपालपुर विकासखंड के समाहल गाँव में मानवता को शर्मसार कर देने वाले वृद्ध महिला क्रूरता मामले में एच॰आर॰टी॰सी॰ के ड्राइवर और कंडक्टर भीड़ के आगे असहाय 80 वर्षीय राजदेई के लिए देवदूत बनकर सामने आ गये थे। जैसे जैसे बुज़ुर्ग अम्माँ सदमें से उभर रही है , वह 6 नवंबर की घटना के हर पल को एक एक कर सुनाना नहीं भूलती। मंगलवार को जब बुज़ुर्ग राजदेई से पूछा गया कि अम्माँ क्रुद्ध भीड़ से आख़िर कैसे जान बची तो उन्होंने अपनी हल्की ज़ुबान से परिवहन निगम के ड्राइवर कंडक्टर की हिम्मत की दाद देते इस वृतांत को यूँ सुना दिया -
“ जब भीड़ मुझे जान से मारने पर पूरी तरह से आमादा थी और मुझे लग रहा था कि ये लोग अब मुझे किसी भी सूरत में मुझे नहीं छोड़ेंगे तो दोपहर को वहाँ परिवहन निगम की एक बस चंदैश से मंडप रूट पर आ पहुँची ।भीड़ की प्रताड़ना और अमानवीय व्यवहार को देख मैंने सोचा कि इस भीड़ के हाथों मरने से अच्छा है कि बस के टायर के नीचे आकर जान दे दूँ।मैं बस के आगे लेट गयी। ड्राइवर ने झटके से ब्रेक लगाई और कंडक्टर ने बस के आगे से मुझे उठा लिया । इतने में मेरी मदद को बस में बैठी सवारियाँ भी उतर आई। मैंने ज़ोर से एक ही बात बोली या तो मुझे मार दो या फिर इस भीड़ से छुड़ा कहीं दूर ले चलो। सारा माजरा समझकर ड्राइवर कंडक्टर ने मुझे बस में बैठाया , इस बीच कुछ लोग मुझे बस से उतारने को बस में भी चढ़े लेकिन यात्रियों के विरोध के चलते उनको बस से उतार दिया गया। कण्डक्टर को मैंने सारी बात बताई और कहा कि मेरे पास टिकट लेने को भी पैसे नहीं है। कंडक्टर ने टिकट तो काटा लेकिन मुझसे पैसे की माँग नहीं की। एच॰आर॰टी॰सी॰ की बस मुझे सरकाघाट के पास बरछबाड़ तक ले आई जहाँ मेरी बड़ी बेटी का घर है। यहाँ पहुँच मैंने अपने चेहरे पर पुति कालिख को साफ़ किया। एक पड़ोसन को बुलाकर मैंने कहा कि मुझे गर्म दूध और शिलाजीत मिलाकर दे दो , मेरे शरीर में बहुत दर्द हो रहा है। पड़ोसन ने पूछा क्या हुआ तो मैंने उसे झूठ ही बोल दिया कि आज मैंने खेतों में बहुत काम किया शरीर टूट रहा है। मैं गर्म दूध पीकर बेटी के घर के लैंटर पर धूप में सो गयी.....।”
आख़िर देवआस्था के नाम पर हुए इस हृदयविदारक घटना में भीड़ के आगे एच॰आर॰टी॰सी॰ के ड्राइवर कंडक्टर की दिलेरी भी कम सराहनीय नहीं है।

⚫️🔴 यह है मामला
सरकाघाट की गाहर पंचायत में ग्रामीणों ने एक बुजुर्ग महिला पर जादूटोना करने और डायन होने का आरोप लगाते हुए उसके साथ अमानवीय व्यवहार किया। महिला के बाल काटे, उसके चेहरे पर कालिख पोती और गले में जूतों की माला पहनाकर देवता के रथ के आगे घसीटा गया। इस पूरे घटनाक्रम का वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस ने मामले की गंभीरता को समझा। इसी बीच सीएम जयराम ने भी मामले की जांच के आदेश दिए।

⚫️🔴 हाईकोर्ट ने सरकार से एक सप्ताह के भीतर जवाब तलब किया
सरकाघाट की गाहर पंचायत में वृद्ध महिला से क्रूरता का मामला हिमाचल हाईकोर्ट पहुंच गया है। प्रदेश हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश एल नारायण स्वामी और न्यायाधीश ज्योत्सना रेवाल दुआ की खंडपीठ ने भी अमर उजाला सहित अन्य समाचार पत्रों में छपी खबरों पर संज्ञान लेते हुए राज्य सरकार से एक सप्ताह के भीतर जवाब तलब किया है।

🔴वृद्ध महिला से क्रूरता में सभी 24 आरोपियों की जमानत याचिका रद्द, न्यायिक हिरासत में भेजे⚫️
हिमाचल के सरकाघाट की गाहर पंचायत में वृद्ध महिला से क्रूरता मामले में पुलिस ने आरोपियों को कोर्ट में पेश किया। कोर्ट ने सभी 24 आरोपियों की जमानत की याचिका रद्द कर उन्हें 14 दिन न्यायिक हिरासत में मंडी स्थित जेल में भेज दिया है। बता दें नौ नवंबर को सरकाघाट की गाहर पंचायत में ग्रामीणों ने एक बुजुर्ग महिला पर जादूटोना करने और डायन होने का आरोप लगाते हुए उसके साथ अमानवीय व्यवहार किया।

माहूंनाग देवता कमेटी के खिलाफ एक और मामला दर्ज

उधर, सोमवार को गांव के रिटायर्ड शिक्षक जय गोपाल ने पुलिस थाने में माहूंनाग देवता कमेटी के खिलाफ शिकायत दी है कि उनके घर भी 7 नवम्बर को आस्था के नाम पर लोगों ने तोडफ़ोड़ की थी। इस संबंध में भी पुलिस ने विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है। डी.एस.पी. चंद्रपाल सिंह ने इसकी पुष्टि की है।

Have something to say? Post your comment
और क्राइम खबरें