Friday, February 21, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
सज गए शिवालय, महाशिवरात्रि कल ,शिव मंदिर बारीं में कल पूजा , 22 को भण्डाराहमीरपुर) गंभीर आरोप : देई का नौण पंचायत में विकास कार्य के लिए धन स्वीकृत करवाने में अनियमितता, पंचायत प्रधान पर निलंबन की तलवार लटकीबागवान के बेटे राजेश शर्मा ने संभाला डिप्टी कंट्रोलर वित्त का पदभार मुकेरियाँ का अरुण पटियाल 420 में अंदर, रैल के राजेश की शिकायत पर पुलिस की कार्यवाहीविधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा:”कांग्रेस में आई बयानवीरों की बाढ़, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के ख़िलाफ़ की जा रही छींटाकसी निंदनीय”विधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा :” कांग्रेस में आई बयानवीरों की बाढ़, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के ख़िलाफ़ की जा रही छींटाकसी निंदनीय”हिमाचल कैबिनेट: नई एक्साइज पॉलिसी को मंजूरी, श्रम एवं रोजगार विभाग में भरे जाएंगे 23 पदनरेंद्र ठाकुर के निरंतर प्रयासों से एच.पी.पी.टी.सी.एल. के संरक्षण एवं संचार विंग का मुख्यालय शिमला से हमीरपुर स्थानांतरित
-
विशेष

सराहकड़ ( हमीरपुर) : सरकार-प्रशासन से नहीं माँगी मदद, श्मशान घाट बनाने खुद उतर पड़े गांव वाले

रजनीश शर्मा | November 15, 2019 10:32 AM

हमीरपुर , 

हमीरपुर ज़िला के बमसन ब्लॉक के सराहकड़ गांव में लोग खुद ही सड़क बनाकर नया श्मशान घाट बनाने में जुट गए हैं दरअसल, जीवन की अंतिम यात्रा की क़रीब ढाई किलोमीटर लम्बी ऊबड़ खाबड़ राह को देख ग्रामीणों ने यह फैसला लिया है। कलंझड़ी माता मंदिर के ठीक नीचे क़रीब चार मरले ज़मीन पर सड़क , पार्किंग, रैनशेड, बिजली एवं पानी की उपलब्धता के साथ सराहकड़ गाँव के क़रीब 64 परिवारों ने अपने ख़र्च पर ही नया श्मशान घाट बनाने के लिए काम शुरू कर दिया है। आबादी से दूर इस नए श्मशान घाट का नाम गोबिंद घाट रखा गया है गोबिंद घाट के लिए चार मरले का खेत एन॰आई॰टी॰ में तैनात सुरक्षा गार्ड सराहकड़ गाँव के अजय कुमार रांगड़ा पुत्र जयकृष्ण ने दान किया है । इसके अलावा क़रीब साढ़े तीन लाख रुपए की राशि गाँव के लोगों ने एकत्रित कर ली है।

क्या  है समस्या
जीवन की अंतिम यात्रा को पूर्ण करवाने के लिए सराहकड़ गाँव के लोगों को क़रीब ढाई किलोमीटर दूर कराड़ा में कटियारा गाँव के श्मशान घाट तक जाना पड़ता है। यह रास्ता अत्यंत ऊबड़ खाबड़ है तथा अर्थी को ले जाने वालों के लिए भी जोखिम भरा है। इस समस्या को सराहकड़ गाँव के अजय कुमार ने समझा और 64 परिवारों के आगे बात रखी । अजय द्वारा चार मरला ज़मीन दान करते ही कैप्टन सुखदेव सिंह, भाग चंद , जसवंत सिंह , माला राम धीमान, सुनील कुमार धीमान ,विजय कुमार धीमान,बिहारी लाल धीमान, ईश्वर दास धीमान, प्रभात सिंह, राकेश कुमार, पीर चंद, मुकेश रांगड़ा, प्रीतम चंद, कर्म चंद, कुलतार सिंह, राजकमल, अंकित रांगड़ा, विपन रांगड़ा और मस्तराम ने लाखों रुपए इस पुण्य कार्य के लिए एकत्रित कर लिए।ग्रामीणों ने सरकार या प्रशासन से इस काम के लिए एक भी पैसे की मदद न लेने का प्रण भी लिया है।
अजय कुमार रांगड़ा ने बताया कि भूमि पूजन के साथ सड़क निर्माण का कार्य शुरू हो गया है। गाँव के ही एक बुज़ुर्ग स्वर्गीय गोबिंदु पुत्र जोधा राम के नाम पर घाट  का  नाम गोविंद घाट रखा गया है।यहाँ सड़क , पार्किंग, रैनशेड, बिजली एवं पानी की उपलब्धता रहेगी ।

 

 

 

Have something to say? Post your comment
 
और विशेष खबरें
बागवान के बेटे राजेश शर्मा ने संभाला डिप्टी कंट्रोलर वित्त का पदभार हमीरपुर :टौणी देवी माता जहाँ पत्थर टकराने से पूरी होती है हर मुराद आसमान की बुलंदियों पर उड़ता नजर आएगा मडावग का विक्रम ! हमीरपुर जिला में 65,632 विद्यार्थियों को निःशुल्क वर्दी योजना, 37,402 विद्यार्थियों को निःशुल्क पाठ्य पुस्तकें व 12,022 को मुफ्त स्कूल बैग का मिल रहा लाभ हिमाचल : यहाँ तो पैदल चलना भी सुरक्षित नहीं, दो साल में हो चुकी 353 पैदल यात्रियों की मौत, हिमालयी राज्यों में पहले स्थान पर हिमाचल, दूसरे पर उत्तराखंड प्लास्टिक को जीवन में ना अपनाएँ, आओ सब मिलकर इस धरती को बचाएं...... युवा दिवस और युवाओं के लिए संदेश आज है विश्व हिंदी दिवस ;जाने क्यों मनाया जाता है विश्व हिंदी दिवस मनरेगा के तहत बंगाणा में विकास कार्यों पर दो वर्ष में खर्च हुए 26.54 करोड़ हिमाचल कवियों, लेखकों एंव साहित्यकारों के लिए खास रहा विश्व पुस्तक मेला 2020