Friday, February 21, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
सज गए शिवालय, महाशिवरात्रि कल ,शिव मंदिर बारीं में कल पूजा , 22 को भण्डाराहमीरपुर) गंभीर आरोप : देई का नौण पंचायत में विकास कार्य के लिए धन स्वीकृत करवाने में अनियमितता, पंचायत प्रधान पर निलंबन की तलवार लटकीबागवान के बेटे राजेश शर्मा ने संभाला डिप्टी कंट्रोलर वित्त का पदभार मुकेरियाँ का अरुण पटियाल 420 में अंदर, रैल के राजेश की शिकायत पर पुलिस की कार्यवाहीविधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा:”कांग्रेस में आई बयानवीरों की बाढ़, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के ख़िलाफ़ की जा रही छींटाकसी निंदनीय”विधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा :” कांग्रेस में आई बयानवीरों की बाढ़, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के ख़िलाफ़ की जा रही छींटाकसी निंदनीय”हिमाचल कैबिनेट: नई एक्साइज पॉलिसी को मंजूरी, श्रम एवं रोजगार विभाग में भरे जाएंगे 23 पदनरेंद्र ठाकुर के निरंतर प्रयासों से एच.पी.पी.टी.सी.एल. के संरक्षण एवं संचार विंग का मुख्यालय शिमला से हमीरपुर स्थानांतरित
-
विशेष

देव संसद से विख्यात जगती एक समृद्ध लोकतांत्रिक परंपरा

हितेंद्र शर्मा | November 26, 2019 06:01 PM

कुमारसैन,

 

जगती शब्द का अर्थ एंव सम्बन्ध मनुष्य जीवन, संसार, पृथ्वी और इस जगत् से है। देवभूमि हिमाचल के कुल्लू में देव संसद अर्थात एक मजबूत लोकतांत्रिक व्यवस्था को "जगती" के नाम से जाना जाता है। कुल्लू घाटी को हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार मनुष्य अर्थात मानव जाति का गढ़ माना जाता है। अनेक पौराणिक ग्रंथ तथा रामायण और महाभारत में कुल्लू घाटी की प्राचीनता स्पष्ट होती है।

विश्व कल्याण के उद्देश्य से जगत की खुशहाली एंव समृद्धि हेतु देवभूमि हिमाचल के देवी-देवताओं आज्ञानुसार कुल्लू घाटी में "जगती" एक अद्भुत एंव समृद्ध परंपरा है। यह देवपरंपरा वैदिक काल से चलते हुए आजतक हमारी समृद्ध संस्कृति को संजोए हुए हैं।

परम्परा के अनुसार भगवान रघुनाथ के छड़ीबरदार भगवान कि पूजा करने के बाद धर्म संसद अर्थात जगती पट पर विषय के सन्दर्भ में देवताओं के गुर के समक्ष प्रश्न रखते हैं जिसे स्थानीय भाषा में पूछ कहा जाता है। पूछ के माध्यम से ही गुर, देवताओं के वचन देव संसद में सुनाते हैं।

ऐतिहासिक गांव नग्गर प्राचीन काल में कुल्लू रियासत की राजधानी थी। ऐसी मान्यता है कि सतुयग में हजारों देवी-देवताओं ने मधुमक्खियों का रूप धारण कर यहां जगती पट स्थापित किया था। संकट की स्थिति में सभी देवी- देवता इस जगती पट में एकत्रित होकर उसका समाधान निकालते हुए आदेश जारी करते हैं। जोकि सर्वमान्य होते है।

भगवान रघुनाथ के छड़ीबरदार राजा महेश्वर सिंह से देव समाज एंव देव संस्कृति पर विस्तृत चर्चा से स्पष्ट हुआ कि जगती देव आदेश पर ही होती है।   नग्गर गांव की अराध्य देवी माता त्रिपुरा सुंदरी से आज्ञा लेकर जगती का आयोजन नग्गर में स्थित जगती पट में होता है। और भगवान रघुनाथ जी की आज्ञा के बाद जगती रघुनाथपुर में आयोजित होती है। महत्वपूर्ण निर्णय तथा न्याय की स्थापना और सम्पूर्ण जगत के कल्याण एंव सुख शांति हेतु समय-समय पर देव आदेशों पर ऐतिहासिक जगती पट पर जगती का विशेष आयोजन किया जाता है।

 

Have something to say? Post your comment
 
और विशेष खबरें
बागवान के बेटे राजेश शर्मा ने संभाला डिप्टी कंट्रोलर वित्त का पदभार हमीरपुर :टौणी देवी माता जहाँ पत्थर टकराने से पूरी होती है हर मुराद आसमान की बुलंदियों पर उड़ता नजर आएगा मडावग का विक्रम ! हमीरपुर जिला में 65,632 विद्यार्थियों को निःशुल्क वर्दी योजना, 37,402 विद्यार्थियों को निःशुल्क पाठ्य पुस्तकें व 12,022 को मुफ्त स्कूल बैग का मिल रहा लाभ हिमाचल : यहाँ तो पैदल चलना भी सुरक्षित नहीं, दो साल में हो चुकी 353 पैदल यात्रियों की मौत, हिमालयी राज्यों में पहले स्थान पर हिमाचल, दूसरे पर उत्तराखंड प्लास्टिक को जीवन में ना अपनाएँ, आओ सब मिलकर इस धरती को बचाएं...... युवा दिवस और युवाओं के लिए संदेश आज है विश्व हिंदी दिवस ;जाने क्यों मनाया जाता है विश्व हिंदी दिवस मनरेगा के तहत बंगाणा में विकास कार्यों पर दो वर्ष में खर्च हुए 26.54 करोड़ हिमाचल कवियों, लेखकों एंव साहित्यकारों के लिए खास रहा विश्व पुस्तक मेला 2020