Friday, December 06, 2019
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
नहीं चढ़ा डंडे पर तिरंगा , लेकिन फिर भी हमीर उत्सव शुरूब्रेकिंग : हमीरपुर तकनीकी विश्वविद्यालय के विकास के लिए सीएम जय राम ठाकुर ने दिए 10 करोड़ रुपए, लंबलू को मिला उपतहसील का तौहफ़ाब्रेकिंग : हमीरपुर तकनीकी विश्वविद्यालय के विकास के लिए सीएम जय राम ठाकुर ने दिए 10 करोड़ रुपए, लंबलू को मिला उपतहसील का तौहफ़ासीएम जयराम ने हमीरपुर में कहा, “हम विधानसभा में प्रत्येक प्रश्न का उत्तर देने को तेयार”।मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने हमीरपुर में किए करोड़ों रुपए के लोकार्पण व शिलान्यासहैदराबाद केस: मडर और रेप के चारो आरोपी एनकाउंटर में ढेर हमीर उत्सव पर विशेष : बेशक सबसे छोटा लेकिन विकास में सबसे आगे है हमीरपुर, देश की सीमाओं पर तैनात हैं यहाँ के हज़ारों नौजवानहमीरपुर उत्सव में 270 जवान संभालेंगे मोर्चा, पाँच स्थानों पर लगेंगे पुलिस के नाके, शराबियों से सख़्ती से निपटेगी पुलिसब्रेकिंग : राजीव चोपड़ा की हमीरपुर कांग्रेस सेवादल के संयोजक के रूप में नियुक्ति, समर्थकों में उत्साह
-
विशेष

देव संसद से विख्यात जगती एक समृद्ध लोकतांत्रिक परंपरा

हितेंद्र शर्मा | November 26, 2019 06:01 PM

कुमारसैन,

 

जगती शब्द का अर्थ एंव सम्बन्ध मनुष्य जीवन, संसार, पृथ्वी और इस जगत् से है। देवभूमि हिमाचल के कुल्लू में देव संसद अर्थात एक मजबूत लोकतांत्रिक व्यवस्था को "जगती" के नाम से जाना जाता है। कुल्लू घाटी को हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार मनुष्य अर्थात मानव जाति का गढ़ माना जाता है। अनेक पौराणिक ग्रंथ तथा रामायण और महाभारत में कुल्लू घाटी की प्राचीनता स्पष्ट होती है।

विश्व कल्याण के उद्देश्य से जगत की खुशहाली एंव समृद्धि हेतु देवभूमि हिमाचल के देवी-देवताओं आज्ञानुसार कुल्लू घाटी में "जगती" एक अद्भुत एंव समृद्ध परंपरा है। यह देवपरंपरा वैदिक काल से चलते हुए आजतक हमारी समृद्ध संस्कृति को संजोए हुए हैं।

परम्परा के अनुसार भगवान रघुनाथ के छड़ीबरदार भगवान कि पूजा करने के बाद धर्म संसद अर्थात जगती पट पर विषय के सन्दर्भ में देवताओं के गुर के समक्ष प्रश्न रखते हैं जिसे स्थानीय भाषा में पूछ कहा जाता है। पूछ के माध्यम से ही गुर, देवताओं के वचन देव संसद में सुनाते हैं।

ऐतिहासिक गांव नग्गर प्राचीन काल में कुल्लू रियासत की राजधानी थी। ऐसी मान्यता है कि सतुयग में हजारों देवी-देवताओं ने मधुमक्खियों का रूप धारण कर यहां जगती पट स्थापित किया था। संकट की स्थिति में सभी देवी- देवता इस जगती पट में एकत्रित होकर उसका समाधान निकालते हुए आदेश जारी करते हैं। जोकि सर्वमान्य होते है।

भगवान रघुनाथ के छड़ीबरदार राजा महेश्वर सिंह से देव समाज एंव देव संस्कृति पर विस्तृत चर्चा से स्पष्ट हुआ कि जगती देव आदेश पर ही होती है।   नग्गर गांव की अराध्य देवी माता त्रिपुरा सुंदरी से आज्ञा लेकर जगती का आयोजन नग्गर में स्थित जगती पट में होता है। और भगवान रघुनाथ जी की आज्ञा के बाद जगती रघुनाथपुर में आयोजित होती है। महत्वपूर्ण निर्णय तथा न्याय की स्थापना और सम्पूर्ण जगत के कल्याण एंव सुख शांति हेतु समय-समय पर देव आदेशों पर ऐतिहासिक जगती पट पर जगती का विशेष आयोजन किया जाता है।

 

Have something to say? Post your comment
 
और विशेष खबरें
हमीर उत्सव पर विशेष : बेशक सबसे छोटा लेकिन विकास में सबसे आगे है हमीरपुर, देश की सीमाओं पर तैनात हैं यहाँ के हज़ारों नौजवान मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर हमीरपुर में करेंगे करोड़ों रुपए के लोकार्पण व शिलान्यास, इंडोर स्टेडियम समेत मिलेंगी कई सौग़ातें ब्रेकिंग) टौणी देवी ( स्वाहलवा) : सुबह 5:30 बजे पढ़ने के लिए उठी आठवीं की बच्ची, संदिग्ध हालत में ग़ायब, पूरा गाँव व पुलिस कर रही तलाश हत्या के मामले में हमीरपुर कोर्ट ने दो लोगों को सुनाई उम्रक़ैद की सज़ा, 15-15 हज़ार जुर्माना भी भरने के आदेश सराहकड़ ( हमीरपुर) : सरकार-प्रशासन से नहीं माँगी मदद, श्मशान घाट बनाने खुद उतर पड़े गांव वाले चौपाल के क़ुरग गाँव की 110 वर्षीय सुंदी देवी के निधन पर आसमान भी रोया , याददाश्त व मिलनसार स्वभाव के चलते इलाक़े में थी अलग पहचान, हमीरपुर पुलिस के फ़ेसबुक पेज पर ख़ूब शेयर हो रही ‘हिमालयन अपडेट’ की ख़बर, पुलिस को मिल रही बधाईयाँ शुभ मुहूर्त में करें करवाचौथ व्रत का पूजन देवकृपा से जड़ से उखड़े उल्टे पेड़ में भी रहती है हरियाली रामपुर के दत्तनगर हाइड्रो पावर प्रोजेक्ट 412 मेगावाट ने किया सतलुज आराधना का आयोजन