Sunday, April 05, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
(ब्रेकिंग ) हमीरपुर : दोस्तों संग खड्ड में नहाने गया प्रवासी युवक डूबा , मौत , मौक़े पर पहुँची पुलिसमोदी जी , केवल थाली बजाने और मोमबत्ती जलाने से महामारी का सामना नहीं हो सकता : प्रेम कौशल ब्रेकिंग : लॉक डाउन ( 14 अप्रैल ) तक निजी स्कूल नहीं कर सकते मासिक फ़ीस व एडमिसन फ़ीस जमा करने की डिमांड , होगी सख़्त कार्यवाही, शिक्षा विभाग ने जारी की नोटिफ़िकेशनलाकडाऊन का उल्लंघन, नशा कारोबारी सक्रियभाजपा के ब्यानवीर संकट के समय में सकारात्मक दृष्टिकोण का परिचय दें : प्रेम कौशलब्रेकिंग : 14 कश्मीरी मज़दूर बाड़ी- फ़रनोल के पास फँसे , राशन ख़त्म , ठेकेदार नहीं कर रहा हिसाब किताब , मज़दूर घर लौटने को अड़ेभोरंज में रणजीत सिंह और मुख्तियार सिंह दुकानदारों पर एफ़आईआर दर्ज, वसूल रहे थे फलों और सब्ज़ियों के अधिक मूल्यनवाँ नौशहरा में 80 जरूरतमंदों को बांटा राशन
-
विशेष

देव संसद से विख्यात जगती एक समृद्ध लोकतांत्रिक परंपरा

हितेंद्र शर्मा | November 26, 2019 06:01 PM

कुमारसैन,

 

जगती शब्द का अर्थ एंव सम्बन्ध मनुष्य जीवन, संसार, पृथ्वी और इस जगत् से है। देवभूमि हिमाचल के कुल्लू में देव संसद अर्थात एक मजबूत लोकतांत्रिक व्यवस्था को "जगती" के नाम से जाना जाता है। कुल्लू घाटी को हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार मनुष्य अर्थात मानव जाति का गढ़ माना जाता है। अनेक पौराणिक ग्रंथ तथा रामायण और महाभारत में कुल्लू घाटी की प्राचीनता स्पष्ट होती है।

विश्व कल्याण के उद्देश्य से जगत की खुशहाली एंव समृद्धि हेतु देवभूमि हिमाचल के देवी-देवताओं आज्ञानुसार कुल्लू घाटी में "जगती" एक अद्भुत एंव समृद्ध परंपरा है। यह देवपरंपरा वैदिक काल से चलते हुए आजतक हमारी समृद्ध संस्कृति को संजोए हुए हैं।

परम्परा के अनुसार भगवान रघुनाथ के छड़ीबरदार भगवान कि पूजा करने के बाद धर्म संसद अर्थात जगती पट पर विषय के सन्दर्भ में देवताओं के गुर के समक्ष प्रश्न रखते हैं जिसे स्थानीय भाषा में पूछ कहा जाता है। पूछ के माध्यम से ही गुर, देवताओं के वचन देव संसद में सुनाते हैं।

ऐतिहासिक गांव नग्गर प्राचीन काल में कुल्लू रियासत की राजधानी थी। ऐसी मान्यता है कि सतुयग में हजारों देवी-देवताओं ने मधुमक्खियों का रूप धारण कर यहां जगती पट स्थापित किया था। संकट की स्थिति में सभी देवी- देवता इस जगती पट में एकत्रित होकर उसका समाधान निकालते हुए आदेश जारी करते हैं। जोकि सर्वमान्य होते है।

भगवान रघुनाथ के छड़ीबरदार राजा महेश्वर सिंह से देव समाज एंव देव संस्कृति पर विस्तृत चर्चा से स्पष्ट हुआ कि जगती देव आदेश पर ही होती है।   नग्गर गांव की अराध्य देवी माता त्रिपुरा सुंदरी से आज्ञा लेकर जगती का आयोजन नग्गर में स्थित जगती पट में होता है। और भगवान रघुनाथ जी की आज्ञा के बाद जगती रघुनाथपुर में आयोजित होती है। महत्वपूर्ण निर्णय तथा न्याय की स्थापना और सम्पूर्ण जगत के कल्याण एंव सुख शांति हेतु समय-समय पर देव आदेशों पर ऐतिहासिक जगती पट पर जगती का विशेष आयोजन किया जाता है।

 

Have something to say? Post your comment
 
और विशेष खबरें