Friday, February 21, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
सज गए शिवालय, महाशिवरात्रि कल ,शिव मंदिर बारीं में कल पूजा , 22 को भण्डाराहमीरपुर) गंभीर आरोप : देई का नौण पंचायत में विकास कार्य के लिए धन स्वीकृत करवाने में अनियमितता, पंचायत प्रधान पर निलंबन की तलवार लटकीबागवान के बेटे राजेश शर्मा ने संभाला डिप्टी कंट्रोलर वित्त का पदभार मुकेरियाँ का अरुण पटियाल 420 में अंदर, रैल के राजेश की शिकायत पर पुलिस की कार्यवाहीविधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा:”कांग्रेस में आई बयानवीरों की बाढ़, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के ख़िलाफ़ की जा रही छींटाकसी निंदनीय”विधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा :” कांग्रेस में आई बयानवीरों की बाढ़, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के ख़िलाफ़ की जा रही छींटाकसी निंदनीय”हिमाचल कैबिनेट: नई एक्साइज पॉलिसी को मंजूरी, श्रम एवं रोजगार विभाग में भरे जाएंगे 23 पदनरेंद्र ठाकुर के निरंतर प्रयासों से एच.पी.पी.टी.सी.एल. के संरक्षण एवं संचार विंग का मुख्यालय शिमला से हमीरपुर स्थानांतरित
-
विशेष

हत्या के मामले में हमीरपुर कोर्ट ने दो लोगों को सुनाई उम्रक़ैद की सज़ा, 15-15 हज़ार जुर्माना भी भरने के आदेश

रजनीश शर्मा ( 9882751006) | November 28, 2019 08:31 PM

 मोबाइल लोकेशन के आधार पर वारदात के बाद क़ाबू आए थे दोषी

हमीरपुर /

हमीरपुर जिला के भोटा के पास जून 2016 में हुए एक ब्लाइंड मर्डर केस में अतिरिक्त सेशन जज हमीरपुर नरेश कुमार की अदालत ने दो दोषियों को उम्रक़ैद की सज़ा सुनाई है। दोषियों को 15-15 हज़ार रुपए जुर्माना भी भरने के आदेश दिए गये हैं।अदालत ने यूपी के दो प्रवासियों करण सिंह पुत्र परमेश्वरी जिला रामपुर यूपी उम्र 32 वर्ष और वीरेंद्र कुमार पुत्र रामप्रकाश उम्र 26 साल जिला बदायूँ को धारा 302, 201,34 आईपीसी के तहत जुर्माना के साथ आजीवन कारावास की सज़ा वीरवार को सुनाई है।

क्या था मामला
हमीरपुर पुलिस कंट्रोल रूम से 13 जून 2016 को सुबह 8:30 बजे भोटा पुलिस सहायता कक्ष में सूचना आई कि भोटा-घुमारवीं नेशनल हाईवे पर टियाले द घट जगह पर पुली के नीचे एक शव पड़ा हुआ है। एएसआई विनोद कुमार और हेड कांस्टेबल अमरनाथ मौक़े पर पहुँचे । वहाँ आधी जली हुई डेडबॉडी पड़ी थी । डेडबॉडी की बायीं भुजा और कान किसी जानवर ने खा लिया था जबकि पैरों और माथे पर कीलें ठोकी हुई थीं। मृतक की एक बाज़ू पर प्रेम राज सिंह लिखा हुआ था ।पुलिस ने इस अज्ञात शव पोस्ट्मॉर्टम टाँडा में करवाया।

मौत का कारण गर्दन को मरोड़ना और साँस घुटना बताया गया।पुलिस ने मृतक के तीन दाँत डीएनए के लिए सुरक्षित रख लिए। अज्ञात शव मिलने की जानकारी सभी पुलिस स्टेशन को दे दे गयी।

फिर क्या हुआ
15 जून 2016 को यूपी के दातिया पुलिस स्टेशन में छोटा राम ने फ़ोटो से मृतक के चेहरे की पहचान की। छोटा राम से पुलिस को पता चला कि प्रेमराज सिंह अपने भतीजे करण के साथ हिमाचल के ऊना ज़िले में रहता है।

आरोपी करण का मोबाइल नम्बर 8894615157 पुलिस के हाथ लग गया। यहीं से इस ब्लाइंड मर्डर की गुत्थी सुलझना शुरू हो गयी। मोबाइल नम्बर की सीडीआर और घटनास्थल की लोकेशन से यह तय हो गया कि हत्यारा भतीजा करण ही है। पुलिस ने पता लगा लिया कि करण होशियारपुर में है। उसे गिरफ़्तार कर पूछताछ हुई तो उसने गुनाह क़बूल कर लिया ।

करण ने बताया कि उसके साथ दूसरा आरोपी वीरेंद्र कुमार भी इस गुनाह में शामिल है। 16 जून को दोनों गिरफ़्तार कर पुलिस रिमांड पर लिया गया और घटना स्थल पर जरूरी प्रमाण एकत्रित कर लिए गये। पुलिस ने कोर्ट में चालान पेश किया और इस पर सुनवाई शुरू हुई।

क्या है फ़ैसला
अतिरिक्त सेशन जज हमीरपुर नरेश कुमार ने केस नम्बर 15/2016 में वीरवार को फ़ैसला सुनाया कि यूपी के दो प्रवासियों करण सिंह पुत्र परमेश्वरी जिला रामपुर यूपी उम्र 32 वर्ष और वीरेंद्र कुमार पुत्र रामप्रकाश उम्र 26 साल जिला बदायूँ को धारा 302, 201,34 आईपीसी के तहत 15-15 हज़ार रुपए जुर्माना के साथ आजीवन कारावास की सज़ा भुगतनी होगी ।

Have something to say? Post your comment
 
और विशेष खबरें
बागवान के बेटे राजेश शर्मा ने संभाला डिप्टी कंट्रोलर वित्त का पदभार हमीरपुर :टौणी देवी माता जहाँ पत्थर टकराने से पूरी होती है हर मुराद आसमान की बुलंदियों पर उड़ता नजर आएगा मडावग का विक्रम ! हमीरपुर जिला में 65,632 विद्यार्थियों को निःशुल्क वर्दी योजना, 37,402 विद्यार्थियों को निःशुल्क पाठ्य पुस्तकें व 12,022 को मुफ्त स्कूल बैग का मिल रहा लाभ हिमाचल : यहाँ तो पैदल चलना भी सुरक्षित नहीं, दो साल में हो चुकी 353 पैदल यात्रियों की मौत, हिमालयी राज्यों में पहले स्थान पर हिमाचल, दूसरे पर उत्तराखंड प्लास्टिक को जीवन में ना अपनाएँ, आओ सब मिलकर इस धरती को बचाएं...... युवा दिवस और युवाओं के लिए संदेश आज है विश्व हिंदी दिवस ;जाने क्यों मनाया जाता है विश्व हिंदी दिवस मनरेगा के तहत बंगाणा में विकास कार्यों पर दो वर्ष में खर्च हुए 26.54 करोड़ हिमाचल कवियों, लेखकों एंव साहित्यकारों के लिए खास रहा विश्व पुस्तक मेला 2020