Monday, May 25, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
अपडेट/ : हमीरपुर जिला में कोरोना संक्रमित के पांच नए मामले, अबतक ज़िले में कुल 20 मामले , 15 एक्टिव , 4 ठीक हुए , एक मौत ब्रेकिंग : हमीरपुर ज़िला में एक साथ कोरोना के पाँच मामले आए सामने, संक्रमितों में एक महिला भी शामिल ,ब्रेकिंग : हमीरपुर के नादौन उपमंडल की ग्वाल पत्थर पंचायत में दो व्यक्तियों के कोविड-19 संक्रमित होने की पुष्टिब्रेकिंग: मड़ावग में नेपाली मूल के युवक ने फंदा लगाकर दी जान सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल ,ख़ास ख़बर : ग़ाज़ियाबाद का एक ऐसा स्कूल जिसने लॉकडाउन में तीन माह की फ़ीस माफ़ की और टीचरों के खाते में डाली सेलरी, हिमाचल के लालची स्कूलों के लिए करारा सबक़चौपाल, नेरवा में कल बंद रहेगी बिजलीहिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर में ऑनलाईन फेसबुक लाइव के माध्यम से अध्ययन केंद्र का विधिवत उद्घाटन
-
राज्य

( साईड स्टोरी) ‘ मोर्निंग वाक’ पर निकली नैंसी राह भटक गयी और चलती गयी....।

रजनीश शर्मा ( हमीरपुर ) 9882751006 | November 30, 2019 03:57 PM


हमीरपुर , 
सुबह उठकर सोचा था कि वाक कर आऊँ लेकिन अंधेरे में राह भटकी तो चलती चली गयी” शनिवार को टौणी देवी के पास स्वाहलवा गाँव की 14 वर्षीय आठवीं की छात्रा नैंसी की छः घंटे तक चली मोर्निंग वाक ने सबकी साँसे फुला दी थी। बच्ची के अचानक घर से दूर निकलने से जहाँ परिजन परेशान थे वहीं पुलिस और गुप्तचर एजेंसियाँ भी बच्ची को तलाशने में सक्रिय रही।
सोशल मीडिया पर बेटी के अचानक गुम होने के फ़ोटो वायरल होने शुरू हो गये।

वहीं नैंसी के स्कूल के प्रिंसिपल महेंद्र डोगरा तथा स्कूल कमेटी के चेयरमेन कर्नल चेत राम चौहान भी लगातार पुलिस एवं परिजनों से अपडेट लेते रहे। नैंसी तो बस अपनी धुन में चली जा रही थी, वह आगे आगे तो उसे तलाश करने वाले पीछे पीछे चले रहे। आख़िर डुग्गा पहुँचकर नैंसी की पैदल यात्रा समाप्त हुई जब उसकी बुआ मीना बस में बैठाकर इसे गसोता ले आई।

नैंसी अब अपने घर पहुँच चुकी है। नैंसी के पिता चमन लाल ने बताया कि अक्सर उनकी दोनों बेटियाँ सुबह जल्दी उठकर पढ़ने बैठ जाती हैं। शनिवार को भी नैंसी व उसकी छोटी बहन शिप्रा सुबह पाँच बजे उठ गयी।

नैंसी ने बताया कि उसने सोचा कि चलो आज थोड़ा बाहर वाक कर आते हैं। अंधेरे में वह राह भटक गयी और घबरा गयी। फिर उसे नहीं मालूम कि वह कैसे टौणी देवी , कोट , अणु , हमीरपुर बाज़ार से निकलते हुए डुग्गा पहुँच गयी। सीसीटीवी की रिकार्डिंग बताती रही कि नैंसी सेफ़ है और पैदल ही चल रही है।

डुग्गा पहुँचकर उसे गसोता गाँव की मीना देवी मिली जो इसे बस में बैठाकर अपने घर गसोता ले आई। इस बीच क़रीब छः घंटे से नैंसी के सर्च अभियान में जुटी पुलिस को भी सूचना मिल गयी कि नैंसी सुरक्षित अपनी बुआ के पास गसोता में है।
इस बीच पुलिस टीम के साथ चमन लाल उनकी पत्नी भी गसोता पहुँच गये। नैंसी ने खाना खाया और बोली अब फिर कभी अंधेरे में वाक पर कभी नहीं निकलूँगी।

 

Have something to say? Post your comment
 
और राज्य खबरें
अप्पर पंजावर का वार्ड एक और 2 कन्टेनमेंट जोन घोषित पठानकोट से 4 बसों में लाए गए 94 लोग  मिल्कफेड अध्यक्ष ने दुग्ध उत्पादकों को कहा ‘थैंक्स’ भाजपा ने अनुसूचित जाति मोर्चा व ओ0बी0सी0 मोर्चा के प्रदेश पदाधिकारियों व जिलाध्यक्षो की घोषणा की। जिला दण्डाधिकारी सोलन के.सी. चमन ने आवश्यक आदेश किए जारी कोरोना योद्धाओं की भूमिका में एचआरटीसी के ड्राइवर-कंडक्टर अंतर जिला आवाजाही के लिए कर्यू पास अनिवार्य बाहरी प्रदेशों के श्रमिकों के लिए आत्म निर्भर भारत योजना  लाहुल स्पीति के काजा उपमंडल में गुरुवार को आतंकवाद विरोधी दिवस मनाया गया अनुराग ठाकुर ने कहा केंद्र सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश को 367.84 करोड़ रुपए जारी किए गए हैं