Sunday, September 27, 2020
Follow us on
-
अंदर की बात

हमीरपुर : हाईकोर्ट से मिली खोखाधारकों को अंतरिम राहत, 15 दिन तक प्रशासन नहीं गिरा सकता खोखे

रजनीश शर्मा | December 02, 2019 06:14 PM

हमीरपुर ,

बस स्टैंड हमीरपुर के बाहर सड़क किनारे बने खोखों को हटाने के लिए फ़िलहाल 15 दिन के लिए अंतरिम रोक लग गयी है। जिला प्रशासन एवं लोकनिर्माण विभाग के दख़ल के बाद नगर परिषद हमीरपुर से दुकानें खाली करने के नोटिस के बाद खोखा धारकों ने प्रदेश उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाया। जिसके बाद न्यायालय ने खोखाधारकों को पहले 25 नवंबर तक और अब पंद्रह दिन की और मोहल्लत प्रदान की है।

इसी तरह कुछ दुकानदारों ने जिला न्यायालय हमीरपुर से स्टे ले लिया है। जिसके बाद खोखाधारकों ने राहत की सांस ली है।प्रदेश उच्च न्यायालय से महज दो दुकानदारों वीरेंद्र मल्होत्रा और हुकम चंद को ही अस्थायी तौर पर राहत मिली है। जबकि, बस स्टैंड के बाहर कुल 58 खोखे हैं। खोखाधारकों ने नगर परिषद को इस मामले में पार्टी बनाया है। चूंकि सालों से खोखाधारकों से मासिक किराया नगर परिषद ही वसूल रही है। जिसके चलते प्रदेश उच्च न्यायालय ने नगर परिषद हमीरपुर को न्यायालय में अपना पक्ष रखने के निर्देश दिए हैं।

हालांकि, बताया जा रहा है कि कुछ दुकानदारों ने जिला न्यायालय में भी अर्जी दी है। जिसके चलते अब प्रशासन की ओर से खोखों को हटाने की मुहिम कुछ समय के लिए ठंडे बस्ते में पड़ गई है।

प्रशासन ने बस स्टैंड के बाहर सड़क किनारे बने खोखों को हटाने और दुकानदारों को बाल स्कूल परिसर में बनी पक्की दुकानों में शिफ्ट करने के निर्देश दिए थे। जिसके बाद नगर परिषद, राजस्व और लोनिवि विभाग ने भूमि की निशानदेही कर खोखाधारकों को नोटिस भेजे थे। प्रशासन बस स्टैंड के बाहर मुख्य मार्ग के विस्तारीकरण और फुटपाथ बनाने जा रहा है।

क्या कहते हैं खोखाधारक वीरेंद्र मल्होत्रा


इस बारे में वीरेंद्र मल्होत्रा, अध्यक्ष जिला उद्यमी संघ हमीरपुर ने कहा कि नगर परिषद ने करीब 40 साल पूर्व शहर में रेहड़ी-फड़ी लगाने वाले दुकानदारों से अग्रिम राशि लेकर बस स्टैंड के बाहर टीन के खोखे बनाकर दिए थे। यहां पर करीब 56 खोखे हैं। सभी लोग अपने परिवार का पालन पोषण इन खोखों से होने वाली आमदन से कर रहे हैं। लेकिन, कुछ समय पहले नगर परिषद ने पंद्रह दिन के भीतर इन खोखों को खाली करने के निर्देश दिए हैं, जोकि जिला प्रशासन की तानाशाही को दर्शाता है। प्रदेश उच्च न्यायालय से पंद्रह दिनों की मोहलत मिली है। सभी खोखाधारक प्रशासन से आग्रह करते हैं कि उन्हें न उजाड़ा जाए।

 

Have something to say? Post your comment
और अंदर की बात खबरें
पूर्व सीएम धूमल ने कहा : चारियाँ दी धार व पुरली पंचायत का पुनर्गठन प्रासंगिक,कैबिनेट मंत्री वीरेंद्र कँवर को पत्र लिख जनहित में उचित निर्णय लेने को कहा BDS डॉक्टर से IPS अफसर तक: मिलिये, हमीरपुर के नए SP कार्तिकेयन गोकुलचंद्रन से पिछले एक सप्ताह से समीरपुर की गलियों में लौटी रौनक़ , प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सुरेश कश्यप, मंत्रियों राकेश पठानिया व राजेंद्र गर्ग ने धूमल से लिया आशीर्वाद , नाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन ने जुलाई माह के अपने पिछले सारे रिकार्ड को तोड़ते हुए सर्वाधिक मासिक विद्युत-उत्पादन का बनाया नया रिकॉर्ड नादौन पुलिस स्टेशन हिमाचल का सर्वश्रेष्ठ थाना घोषित , 47 पंचायतों की क़रीब एक लाख जनता को बेहतर सुरक्षा, व 19 मानकों पर तय हुई रैंकिंग जिंदगी सड़कों पर : प्रीति शर्मा "असीम " मां ने ऐसेे - बेटी को पाला था : प्रीति शर्मा असीम महाराणा प्रताप जयंती विशेष मैं आज भी वही हूं : राजीव डोगरा 'विमल' कोरोना हारेगा, भारत जीतेगा :अजय वशिष्ट