Tuesday, April 07, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
हिमाचल प्रदेश के लिए बुरी खबर, कोरोना के 4 नए मामलेब्रेकिंग : पुलिस की बड़ी कार्यवाही , ठेका सील नेरवा के जलारा से 4 जमाती गिरफ्तारहिमाचल में एक दिन में कोरोना वायरस के सात नए मामले, 10 पहुंची मरीजों की संख्या(ब्रेकिंग ) हमीरपुर : दोस्तों संग खड्ड में नहाने गया प्रवासी युवक डूबा , मौत , मौक़े पर पहुँची पुलिसमोदी जी , केवल थाली बजाने और मोमबत्ती जलाने से महामारी का सामना नहीं हो सकता : प्रेम कौशल ब्रेकिंग : लॉक डाउन ( 14 अप्रैल ) तक निजी स्कूल नहीं कर सकते मासिक फ़ीस व एडमिसन फ़ीस जमा करने की डिमांड , होगी सख़्त कार्यवाही, शिक्षा विभाग ने जारी की नोटिफ़िकेशनलाकडाऊन का उल्लंघन, नशा कारोबारी सक्रिय
-
शिक्षा

युवा समाजिक कार्यकर्ता ने कहा बच्चो के भविष्य हो रहा खराब !

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | December 12, 2019 12:33 PM

शिमला,

जिला शिमला मॆ इस समय सरकारी विद्यालय मॆ शिक्षकॊ की भारी कमी खल रही है ! वही दर्जनों ऐसे विद्यालय है जहाँ स्टाफ की कमी के कारण बच्चो का भविष्य दाव पर लगा है ! जिसकी ना तो सरकार कॊ कोई चिंता है ना ही प्रशासन कॊ ! बात यदि शिक्षा विभाग की की जाये तो सरकार मॆ शिक्षा मंत्री भी इसी जिले से है शिमला जिला के भीतर कई ऐसे विद्यालय है जहाँ पर कई वर्षों से अध्यापक ही नही है ! वही इस विषय मॆ युवा समाजिक कार्यकर्ता विशाल चौहान ने प्रारम्भिक शिक्षा निर्देशालय से सूचना माँगी तो प्रारम्भिक शिक्षा निर्देशालय द्वारा दी गई सूचना के अनुसार 442 पद जिला शिमला मॆ शिक्षकों के खाली चल रहे है ! जिसमे भाषा अध्यापक 39 , शास्त्री 138, कला अध्यापक 121, शारारिक शिक्षक 119, गृह विज्ञान 14, पंजाबी भाषा अध्यापक 1, उर्दू अध्यापक 10 पद रिक्त चले है ! वही इस विषय मॆ विशाल चौहान का केहना है की इसके अतिरिक्त उच्च शिक्षा निर्देशालय के अन्तर्गत जो पद आते है उसकी संख्या भी सेंकडो मॆ हो सकती है ! यदि जिला शिमला के रामपुर , चौपाल , रोहडू की की जाये तो यहाँ पर दर्जनों ऐसे विद्यालय है जहाँ शिक्षकों की कमी चल रही है ! कई ऐसे भी विद्यालय है जहाँ एक दो अध्यापकॊ के साहरे विद्यालय चल रहे है ! शिक्षकों की कमी के विषय मॆ ना तो शिक्षा विभाग के उच्च अधिकारी ध्यान देते है ना ही कोई अध्यापक संघ ! इसका मुख्य कारण ये है की आज सरकारी विद्यालय मॆ केवल गरीब लोगो के बच्चे पढ़ रहे है ! सरकारी विद्यालय मॆ कार्यरत अध्यापक भी अपने बच्चो कॊ शिक्षकों की कमी के कारण निजी विद्यालय मॆ पढ़ाते है सरकारी विद्यालय मॆ वही बच्चे पढ़ते है जो निजी विद्यालय का खर्च नही उठा सकते यहाँ तक !
गरीब बच्चो की शिक्षा बिना अध्यापक के भगवान भरोसे चल रही है ! वही विशाल चौहान ने शिक्षा मंत्री व मुख्यमंत्री से माँग की है की प्रदेश मॆ सरकारी स्कूलों मॆ पड़े शिक्षकों के पदों कॊ जल्द भरा जाये ताकि बच्चो का भविष्य अध्यापकों की कमी के कारण खराब ना हो

Have something to say? Post your comment
 
और शिक्षा खबरें
राजकीय आदर्श जमा दो विद्यालय आनी का ऑनलाइन होम एजुकेशन सफलता की ओर अग्रसर कैंब्रिज स्कूल कुल्लू ने बच्चों को पढ़ाने के लिए शुरू की ऑनलाइन क्लास। राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवी जनता को कर रहे हैं कोरोना वायरस के प्रति जागरूक हिमाचल प्रदेश में अब सरकारी स्कूल और सरकारी दफ्तर 14 अप्रैल तक बंद निजी स्कूलों में फीस जमा कराने की अन्तिम तिथि 30 अप्रैल  तक बढ़ाई गई बोर्ड की वार्षिक परिक्षाओ में बर्फ भारी और बारिश में आने जाने वाले स्कूली बच्चों को परेशानी का करना पड़ रहा है सामना प्रदेश सरकार की शिक्षा विरोधी नीतियो के खिलाफ 25 मार्च को एसएफआई विधानसभा का कर रही है घेराव परीक्षाओं पर निगरानी रखने के लिए बनाए गए उपमंडल स्तरीय उड़न दस्ते ने धरे 11 नक़लची। छात्र मांगों को लेकर प्रदेश व्यापी जत्था हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय से रवाना हुआ जो मंडी कुल्लू सोलन और सिरमौर से होते हुए 25 मार्च हिमाचल प्रदेश विधानसभा घेराव के साथ खत्म होगा। एसएफआई पूरे हिमाचल के अंदर छात्रों को लामबंद करते हुए 25 मार्च को विधानसभा का घेराव करने जा रही है