Friday, February 21, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
हमीरपुर : विधायक नरेन्द्र ठाकुर ने 11 पंचायतों के 552 लाभार्थियों को बांटे इंडक्शन हीटर, लैंप व साईकिलेंशिवालयों में शिवरात्रि की धूम , सुबह से मंदिरों में उमड़ा शिव भक्तों का सैलाबसज गए शिवालय, महाशिवरात्रि कल ,शिव मंदिर बारीं में कल पूजा , 22 को भण्डाराहमीरपुर) गंभीर आरोप : देई का नौण पंचायत में विकास कार्य के लिए धन स्वीकृत करवाने में अनियमितता, पंचायत प्रधान पर निलंबन की तलवार लटकीबागवान के बेटे राजेश शर्मा ने संभाला डिप्टी कंट्रोलर वित्त का पदभार मुकेरियाँ का अरुण पटियाल 420 में अंदर, रैल के राजेश की शिकायत पर पुलिस की कार्यवाहीविधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा:”कांग्रेस में आई बयानवीरों की बाढ़, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के ख़िलाफ़ की जा रही छींटाकसी निंदनीय”विधायक नरेंद्र ठाकुर ने कहा :” कांग्रेस में आई बयानवीरों की बाढ़, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के ख़िलाफ़ की जा रही छींटाकसी निंदनीय”
-
विशेष

जनश्रुतियों से कायम है अब भी हिमाचल की पुरातन ऐतिहासिक संस्कृति

राज शर्मा आनी कुल्लू हिमाचल प्रदेश | December 29, 2019 03:13 PM

कुल्लू,

भारत वर्ष की पावन भूमि में सृष्टि के आरम्भ से ही आदि शक्ति , शिव या कोई देव हो ,सब प्रकार के अवतार हुए हैं । जिसमे से बहुधा इतिहास के पन्नो में स्वर्ण अक्षर स्वरूप पुराणों और संहिताओं में अंकित हो गए । परन्तु हिन्दू धर्म में ऐसे भी अवतार और भगवान की विशिष्ट प्रकार की लीला हुई जो पीढ़ी दर पीढ़ी जनश्रुतियों के माध्यम से चली आ रही है । जिनमें से बहुधा रामायण काल और महाभारत काल की मानी जाती है ।
हिमाचल में भी ऐसी बहुत सी ऐतिहासिक घटनाएं हुई जो आज भी पीढ़ी दर पीढ़ी जनश्रुतियों के माध्यम से यहां की संस्कृति का एक अभिन्न अंग रही है । पुरातन संस्कृति को संजोने में जनश्रुतियों का सबसे अहम योगदान रहा है । हिमाचल में ऐसे भी तीर्थ स्थल है जो पुराणों में वर्णित होने के साथ साथ जनश्रुतियों में भी अंकित है । यहां के बहुधा देव स्थल विभिन्न मान्यताओं के कारण विशेष रूप से आस्था का केंद्र रहे है । परन्तु एक ओर कलयुग के आरम्भिक काल में प्रकट हुए ऐसे भी देव विग्रह है जिनका जिक्र कहीं भी नहीं मिलता वो केवल जनश्रुतियों में ही सीमित रह गए परन्तु इसका अर्थ ये भी नहीं है कि उनका कोई मूल आधार नहीं है हो सकता है वो पुराणों एवं सहिंताओ में किसी अन्य नाम से अंकित रहे हो । जिनका अनुमान इस युग से न होकर के अन्य युगों से रहा हो अन्यथा विना अस्तित्व की कोई वस्तु का इतना चिरकालीन इतिहास न होता । यहां की प्रत्येक घटनाएं जो देव कसौटी की परक हो वो सब जनश्रीतियों के माध्यम से इतिहास के पन्नों में अंकित हो गई । जैसे पांडव कालीन ऐसे बहुत अचंभित कार्य है जिनका वर्णन कहीं भी नहीं हुआ है और पांडवों के द्वारा किए गए वो कार्य आज के युग में कोई भी शिल्पकार या महाबली नहीं कर सकता । परन्तु रामायण व महाभारत की घटनाओं के अतिरिक्त कृतयुग की सती खण्ड से विभिन्न शक्तिपीठों का भी वर्णन है जिनमें से कुछेक तो पुराणों में भी वर्णित है और इनमें से बहुधा जनश्रुतियों का अंग बन गई । कुछ भी हो परन्तु जनश्रीतियों के कारण हिमाचल की पुरातन ऐतिहासिक संस्कृति आज भी कायम है । संस्कृति को तदरूप बनाए रखने में जनश्रुतियों का अहम भूमिका रही है । हिमाचल की पुरातन संस्कृति की गरिमा को समेटने में देवस्थलों और स्थान विशेष की वास्तुकला भी अग्रणी रही है । हिमाचल के तीर्थस्थल व ऐतिहासिक घटनाक्रम को बहुत स्थानों पर वास्तुकला ने भी जीवित रखा है ।

Have something to say? Post your comment
 
और विशेष खबरें
आशा और मीना के जीवन में मुस्कान लेकर आई हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना बागवान के बेटे राजेश शर्मा ने संभाला डिप्टी कंट्रोलर वित्त का पदभार हमीरपुर :टौणी देवी माता जहाँ पत्थर टकराने से पूरी होती है हर मुराद आसमान की बुलंदियों पर उड़ता नजर आएगा मडावग का विक्रम ! हमीरपुर जिला में 65,632 विद्यार्थियों को निःशुल्क वर्दी योजना, 37,402 विद्यार्थियों को निःशुल्क पाठ्य पुस्तकें व 12,022 को मुफ्त स्कूल बैग का मिल रहा लाभ हिमाचल : यहाँ तो पैदल चलना भी सुरक्षित नहीं, दो साल में हो चुकी 353 पैदल यात्रियों की मौत, हिमालयी राज्यों में पहले स्थान पर हिमाचल, दूसरे पर उत्तराखंड प्लास्टिक को जीवन में ना अपनाएँ, आओ सब मिलकर इस धरती को बचाएं...... युवा दिवस और युवाओं के लिए संदेश आज है विश्व हिंदी दिवस ;जाने क्यों मनाया जाता है विश्व हिंदी दिवस मनरेगा के तहत बंगाणा में विकास कार्यों पर दो वर्ष में खर्च हुए 26.54 करोड़