Tuesday, March 02, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआहमीरपुर जिला में हर्षोल्लास से मनाया गया 72वां गणतंत्र दिवस समारोह, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने की जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता, राष्ट्रध्वज फहराकर मार्चपास्ट की सलामी लीसमीक्षा : वार्ड पंच से लेकर जिला परिषद तक पटक डाले जनता ने , हेकड़ी , घमंड व बड़े नेताओं की धौंस हुईं जमींदोज पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदान
-
विशेष

जनश्रुतियों से कायम है अब भी हिमाचल की पुरातन ऐतिहासिक संस्कृति

राज शर्मा आनी कुल्लू हिमाचल प्रदेश | December 29, 2019 03:13 PM

कुल्लू,

भारत वर्ष की पावन भूमि में सृष्टि के आरम्भ से ही आदि शक्ति , शिव या कोई देव हो ,सब प्रकार के अवतार हुए हैं । जिसमे से बहुधा इतिहास के पन्नो में स्वर्ण अक्षर स्वरूप पुराणों और संहिताओं में अंकित हो गए । परन्तु हिन्दू धर्म में ऐसे भी अवतार और भगवान की विशिष्ट प्रकार की लीला हुई जो पीढ़ी दर पीढ़ी जनश्रुतियों के माध्यम से चली आ रही है । जिनमें से बहुधा रामायण काल और महाभारत काल की मानी जाती है ।
हिमाचल में भी ऐसी बहुत सी ऐतिहासिक घटनाएं हुई जो आज भी पीढ़ी दर पीढ़ी जनश्रुतियों के माध्यम से यहां की संस्कृति का एक अभिन्न अंग रही है । पुरातन संस्कृति को संजोने में जनश्रुतियों का सबसे अहम योगदान रहा है । हिमाचल में ऐसे भी तीर्थ स्थल है जो पुराणों में वर्णित होने के साथ साथ जनश्रुतियों में भी अंकित है । यहां के बहुधा देव स्थल विभिन्न मान्यताओं के कारण विशेष रूप से आस्था का केंद्र रहे है । परन्तु एक ओर कलयुग के आरम्भिक काल में प्रकट हुए ऐसे भी देव विग्रह है जिनका जिक्र कहीं भी नहीं मिलता वो केवल जनश्रुतियों में ही सीमित रह गए परन्तु इसका अर्थ ये भी नहीं है कि उनका कोई मूल आधार नहीं है हो सकता है वो पुराणों एवं सहिंताओ में किसी अन्य नाम से अंकित रहे हो । जिनका अनुमान इस युग से न होकर के अन्य युगों से रहा हो अन्यथा विना अस्तित्व की कोई वस्तु का इतना चिरकालीन इतिहास न होता । यहां की प्रत्येक घटनाएं जो देव कसौटी की परक हो वो सब जनश्रीतियों के माध्यम से इतिहास के पन्नों में अंकित हो गई । जैसे पांडव कालीन ऐसे बहुत अचंभित कार्य है जिनका वर्णन कहीं भी नहीं हुआ है और पांडवों के द्वारा किए गए वो कार्य आज के युग में कोई भी शिल्पकार या महाबली नहीं कर सकता । परन्तु रामायण व महाभारत की घटनाओं के अतिरिक्त कृतयुग की सती खण्ड से विभिन्न शक्तिपीठों का भी वर्णन है जिनमें से कुछेक तो पुराणों में भी वर्णित है और इनमें से बहुधा जनश्रुतियों का अंग बन गई । कुछ भी हो परन्तु जनश्रीतियों के कारण हिमाचल की पुरातन ऐतिहासिक संस्कृति आज भी कायम है । संस्कृति को तदरूप बनाए रखने में जनश्रुतियों का अहम भूमिका रही है । हिमाचल की पुरातन संस्कृति की गरिमा को समेटने में देवस्थलों और स्थान विशेष की वास्तुकला भी अग्रणी रही है । हिमाचल के तीर्थस्थल व ऐतिहासिक घटनाक्रम को बहुत स्थानों पर वास्तुकला ने भी जीवित रखा है ।

 
Have something to say? Post your comment
और विशेष खबरें
मडावग पंचायत भवन में एक दिवसीय चिकित्सा शिविर का आयोजन रोहडू क्षेत्र की महिलाओं ने सेब की चटनी से लहराया परचम भारयुक्त जीवन को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना ने किया भारमुक्त विशेष : अश्वमेध यज्ञ के समय निर्मित राम-सीता की मूर्तियाँ कुल्लू में हैं स्थापित, अयोध्या से कुल्लू का 370 साल पुराना रिश्ता कोरोना काल में मार्गदर्शक बना गोगटा लोकमित्र केंद्र मडावग ! सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल , पवन 6 महीने बाद घर लौटे बेटियों को गले तक नहीं लगाया 8 हजार फीट पर क्वारंटीन हुए हर जगह है माँ : इंदरपाल कौर चंदेल क्वारंटीन से निकलते ही कोरोना की लड़ाई में डटे आदित्य ना केवल गांव के लिए बल्कि प्रदेश के लिए मिसाल बने मनीष