Tuesday, April 07, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
हिमाचल प्रदेश के लिए बुरी खबर, कोरोना के 4 नए मामलेब्रेकिंग : पुलिस की बड़ी कार्यवाही , ठेका सील नेरवा के जलारा से 4 जमाती गिरफ्तारहिमाचल में एक दिन में कोरोना वायरस के सात नए मामले, 10 पहुंची मरीजों की संख्या(ब्रेकिंग ) हमीरपुर : दोस्तों संग खड्ड में नहाने गया प्रवासी युवक डूबा , मौत , मौक़े पर पहुँची पुलिसमोदी जी , केवल थाली बजाने और मोमबत्ती जलाने से महामारी का सामना नहीं हो सकता : प्रेम कौशल ब्रेकिंग : लॉक डाउन ( 14 अप्रैल ) तक निजी स्कूल नहीं कर सकते मासिक फ़ीस व एडमिसन फ़ीस जमा करने की डिमांड , होगी सख़्त कार्यवाही, शिक्षा विभाग ने जारी की नोटिफ़िकेशनलाकडाऊन का उल्लंघन, नशा कारोबारी सक्रिय
-
अंदर की बात

ये हाथ हमको दे दे ठाकुर

हितेंद्र शर्मा | February 13, 2020 09:58 AM

शिमला,

हिमाचल की राजनीति आज शोले फ़िल्म के किरदारों जय, वीरू और ठाकुर की पक्की दोस्ती और विश्वास की डगर पर चलती दिख रही है। ठाकुर को अपने जय और वीरू पर भरोसा है। ठाकुर ने जय और वीरू की क़ाबलियत, हिम्मत और ईमानदारी को पहचान लिया है। जब अपनों ने ठाकुर को धोखा देने की कोशिश की तो यहाँ जय और वीरू साथ हो लिए ।

पहाड़ो की सर्द फिजाओं में हाथ न मिलाने की खबरों की गर्माहट से भारतीय सिनेमा की सर्वश्रेष्ठ फिल्म शोले का स्मरण हो आया। फिल्म का डायलॉग ये हाथ मुझे दे दे ठाकुर वर्तमान परिदृश्य में भी प्रासंगिक है। आम जनमानस पर शोले फिल्म का गहरा असर रहा। फिल्म में नायकों की पक्की दोस्ती बेहद प्रसिद्ध हुई, आज भी घनिष्ठ मित्रता जय और वीरु की जोड़ी के नाम से प्रचलित है।

पहाड़ो के मुखिया से प्रदेश के गांवों का हर खासों-आम स्वयं का जुड़ाव महसूस करता है। शोले फिल्म की तरह ही प्रदेश का हर आम आदमी भी जय का पक्का दोस्त वीरु हैं, जोकि स्वस्थ लोकतांत्रिक व्यवस्था का संकेत है। भले ही जय का हाथ थामने में बड़े घरानों के लोगों को रुचि न हो, लेकिन आम आदमी (वीरु) हमेशा हाथ मिलाने और साथ निभाने के लिए तत्पर है। जय का हाथ प्रदेश के सभी वीरु को सौभाग्य एंव संजीवनी के समान है।

प्रदेश की राजनीति में कई युगों का अंत हो चुका है, लेकिन विविधताओं का भी अपना अंदाज है। देश में उगते सूरज के साथ-साथ डूबते हुए सूरज की भी पूजा की जाती है। राजनीतिक परिदृश्य में यह कहावत सटीक बैठती है कि जब तक साँस है, तब तक आस है। राजनैतिक माहौल में जनभावनाओं को नजरअंदाज करना घातक होता है, हाल-फिलहाल यह राजधानी ने भी समझाया है। शोले फिल्म भी शुरुआती दौर में सफल नहीं‍ हुई थी, इसलिए समीक्षकों का आलोचना करना भी स्वाभाविक था।

पहाड़ो में जय और वीरु की दोस्ती फिलहाल दिलो-दिमाग तक ही सीमित है। पहाड़ों के वीरु अपने जय से कह रहे हैं कि ये हाथ हमको दे दे ठाकुर, सिर्फ दोस्ती में साथ निभाने के लिए। भले ही शोले की पटकथा में जय और ठाकुर दो अलग-अलग किरदार है, लेकिन हमारी कहानी में जय और ठाकुर एक ही किरदार का नाम है। हमारी दिलचस्पी शोले के एक डायलॉग को वर्तमान संदर्भ से देखने में है जिसमें जय और वीरु को कहा जाता है कि लोहा गरम है, मार दो हथौड़ा।

Have something to say? Post your comment
 
और अंदर की बात खबरें
आर्मी भर्ती कोरोना के चलते स्थगित मोदी जी , केवल थाली बजाने और मोमबत्ती जलाने से महामारी का सामना नहीं हो सकता : प्रेम कौशल भाजपा के ब्यानवीर संकट के समय में सकारात्मक दृष्टिकोण का परिचय दें : प्रेम कौशल ख़बर का असर : हमीरपुर जिला में सुजानपुर सहित सभी सार्वजनिक उत्सवों, मेलों इत्यादि का आयोजन स्थगित करने के आदेश पारित , डीसी ने दिए कड़े निर्देश हैडली बने एनयूजे इंडिया के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सुजानपुर होली मेले में दोनों तरफ़ से टूटा सब्र का बाँध , धूमल परिवार व राणा परिवार फिर आमने सामने ( ब्रेकिंग) होर्डिंग्स मामला :सुजानपुर में लगे अनुराग ठाकुर मुर्दाबाद के नारे, राजेंद्र राणा और अभिषेक के नेतृत्व में प्रशासन की उदासीनता पर भी उठाए गये सवाल ब्रेकिंग : टूटा सब्र का बाँध , होर्डिंग फाडऩे वालों पर कार्रवाई ना होने पर भड़के विधायक राजेंद्र राणा, आज दो बजे सुजानपुर में समर्थकों सहित करेंगे विरोध प्रदर्शन हमीरपुर : महिला थाने में छेड़छाड़, पोकसो एवं जान से मारने की धमकी देने पर मामला दर्ज, एक अन्य मामला दहेज उत्पीड़न का भी हुआ दर्ज 1795 में सुजानपुर में खेली गई थी पहली बार तिलक होली, तालाब में तैयार होता था रंग, राजा और प्रजा के बीच मिटती थी दूरियाँ