Monday, February 17, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
टौणी देवी स्कूल की चारदीवारी को उपायुक्त से 25 लाख रुपए मिले, प्रिंसिपल व एसएमसी ने जताया आभारसमीरपुर की दहलीज़ से मिला देशभक्ति का पाठ आज भी याद रखते हैं अनुराग ठाकुर, मिलने वालों का लगा रहा ताँता हमीरपुर : हादसे में न सीखने वाला बचा न सिखाने वाला , पहाड़ी से लुढ़की नई इनोवा गाड़ीप्रेम कौशल ने कहा : “गाली गलौज की राजनीति बंद करने पर सीएम जयराम का स्वागत, अन्य भाजपा नेता भी लें सबक़”हमीरपुर : जेबीटी कमीशन में बीएड को शामिल करने का विरोध, धरना प्रदर्शन कर उपायुक्त के माध्यम से भेजे ज्ञापन हमीरपुर के सीआईडी इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल प्रेज़िडेंट पुलिस मेडल से सम्मानित, ऊना के चुरड़ू गाँव से हैं सम्बंधितये हाथ हमको दे दे ठाकुरआसमान की बुलंदियों पर उड़ता नजर आएगा मडावग का विक्रम !
-
राज्य

महिलाओं से जुड़े मामलों को कानूनी पहलू के साथ-साथ मानवीय पहलू से देखना भी आवश्यक

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | February 14, 2020 06:52 PM

शिमला,

 

महिला सुरक्षा विषय पर अभियोजन निदेशालय शिमला द्वारा आयोजित पांच दिवसीय कार्यशाला आज सम्पन्न हो गई। कार्यशाला का समापन निदेशक अभियोजन एन.एल. सेन ने किया। कार्यशाला में प्रदेश भर के जिला न्यायवादी, उप-जिला न्यायवादी और सहायक जिला न्यायवादियों ने हिस्सा लिया। इन्हें विभिन्न रिर्सोस पर्सन द्वारा महिला अपराध व सुरक्षा से जुड़े विभिन्न मामलों जैसे- घरेलू हिंसा, शारीरिक शोषण, पीड़िता को मुआवजा, गवाहों की सुरक्षा, साईबर क्राइम, महिला तस्करी, आॅन-लाईन क्राइम, डिजिटल सबूत एकत्र करना, फाॅरेंसिक साईंस का प्रयोग करना और डीएनए सहित अन्य विभिन्न मामलों की जानकारी दी गई।

 

हिमाचल प्रदेश राज्य विधिक सेवाएं प्राधिकरण के प्रशासनिक अधिकारी गौरव महाजन ने प्रतिभागयिों को पीड़ित मुआवजा व गवाह सुरक्षा संबंधी योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा इस कार्यशाला का लाभ न्यायलयों में महिला अपराध व सुरक्षा से जुड़े विभिन्नि मामलों को सुलझाने में मिलेगा। इसके अलावा राज्य फाॅरेंसिक विज्ञान प्रयोगशाला जुन्गा के निदेशक डाॅ. अरूण शर्मा ने कार्यशाला में हिस्सा लेने वाले प्रदेशभर के सभी प्रतिभागयिों को फाॅरेंसिक सिस्टम से अवगत करवाया।

 

कार्याशाला के समापन अवसर पर निदेशक अभियोजन निदेशालय एन.एल. सेन ने बताया कि इस कार्यशाला का आयोजन प्रदेश के सभी जिला न्यायवादी, उप-जिला न्यायवादी और सहायक जिला न्यायवादियों को कानूनों में आ रहे बदलाव से अवगत करवाना था। इस तरह की कार्यशालाएं भविष्य में भी आयोजित की जाएंगी ताकि महिलाओं के प्रति होने वाले अपराधों को रोका जा सके।  उन्होंने बताया कि महिलाओं से जुड़े विभिन्न मामलों को कानूनी पहलू के साथ-साथ मानवता के पहलू से सभी देखा जाना जरूरी है। उन्होंने कहा कि सरकारी नौकरी के साथ-साथ समाज के प्रति भी हमारी कुछ जिम्मेदारी व कत्र्तव्य है जिनका निर्वहन भी हम सभी को करना चाहिए।

 

उन्होंने कहा कि समय-समय पर कानून में बदलाव आ रहे है और हम सभी को उनसे अपडेट रहने की जरूरत है और इस तरह की कार्यशालाएं आयोजित कर जिला न्यायवादी, उप-जिला न्यायवादी और सहायक जिला न्यायवादियों को काननों में होने वाले बदलाव की जानकारी दी जा सकती है। इस तरह की कार्यशालाओं से कार्य करने का नजरिया बदलता है। कार्यक्रम के समापन के अवसर पर उन्होंने प्रतिभागयिों को प्रमाण पत्र भी वितरित किए।

Have something to say? Post your comment
 
और राज्य खबरें
सांस्कृतिक आदान-प्रदान का बेहतर मंच है क्राफ्ट मेला: दत्तात्रेय मुख्यमंत्री ने सिराज विधानसभा क्षेत्र के सरोआ में जन मंच की अध्यक्षता की रामपुर के युवाओं में आज भी राजपरिवार के नेतृत्व पर विश्वास : विशेषर लाल रिवाड़ी गाँव में महिलाओं ने डॉ, मुकेश शर्मा किया जोरदार इस्तकबाल प्रदेश सरकार घर-द्वार पर प्रदान कर रही बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं- संदीप कुमार डीसी ने साइकलिंग का रिकॉर्ड बनाने वाले गुरदेव ठाकुर को किया सम्मानित कन्या विद्यालय को कंप्यूटर प्रदान करने पर जताया स्थानीय विधायक आभार मुख्यमंत्री ने दिल्ली वल्र्ड पब्लिक स्कूल का उद्घाटन किया मुख्यमंत्री स्टार्टअप योजना से मिल रहा उद्यमियों को बढ़ावा जिले में चलेगा सघन पौधारोपण अभियान -विवेक भाटिया