Wednesday, April 08, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
हिमाचल में कोरोना पॉजिटिव के 9 नए मामलेहिमाचल प्रदेश के लिए बुरी खबर, कोरोना के 4 नए मामलेब्रेकिंग : पुलिस की बड़ी कार्यवाही , ठेका सील नेरवा के जलारा से 4 जमाती गिरफ्तारहिमाचल में एक दिन में कोरोना वायरस के सात नए मामले, 10 पहुंची मरीजों की संख्या(ब्रेकिंग ) हमीरपुर : दोस्तों संग खड्ड में नहाने गया प्रवासी युवक डूबा , मौत , मौक़े पर पहुँची पुलिसमोदी जी , केवल थाली बजाने और मोमबत्ती जलाने से महामारी का सामना नहीं हो सकता : प्रेम कौशल ब्रेकिंग : लॉक डाउन ( 14 अप्रैल ) तक निजी स्कूल नहीं कर सकते मासिक फ़ीस व एडमिसन फ़ीस जमा करने की डिमांड , होगी सख़्त कार्यवाही, शिक्षा विभाग ने जारी की नोटिफ़िकेशन
-
विशेष

हमीरपुर :टौणी देवी माता जहाँ पत्थर टकराने से पूरी होती है हर मुराद

बालम गोगटा, जिला प्रमुख, ब्यूरो हिमालयन अपडेट | February 17, 2020 10:36 AM

शिमला,

चौहान वंश की कुल देवी माता टौणी देवी का मंदिर लगभग 300 वर्ष पूर्व जब दिल्ली पर मुगलों का अधिपत्य हो गया तो उन्होंने राजपूतों की मां-बहनों पर अत्याचार करना प्रारंभ कर दिया और राजपूतों को जनेऊ उतार कर धर्म परिवर्तन करवाने लगे तो चौहान वंश के 12 भाइयों ने इस पहाड़ी दुर्गम क्षेत्र में शरण ली थी ताकि अपने धर्म व परिजनों की रक्षा कर सकें। उनके साथ उनकी बहन भी थी जिसे सुनाई नहीं देता था। परिवार के मुखिया ने बाकर कुनाह व पुंग खड्ड के केंद्र पर भवन की योजना बनाई मगर जिस स्थान पर आधारशिला रखी गई वहां पर खून की धारा निकलने पर सव अचंभित हो गए। इस पर कुल पुरोहित से मश्वरा लिया गया और उन्होंने इसके लिए घर की कुंवारी कन्या को दोषी बताया । घर की महिलाओं ने माता टौणी देवी पर आरोप लगाए जिस पर क्षुब्ध माता ने इस स्थान पर घोर तपस्या की और आषाढ़ मास के 10 प्रविष्टे को अंतध्र्यान हो गई । उसी की याद में उसके भाइयों ने यहां छोटे से मंदिर की स्थापना की जो कि आज भव्य रूप धारण कर चुका है। माता की याद में यहां हर वर्ष मेले का आयोजन होता है। नवरात्र में भी श्रद्धालु दूर-दूर से यहां पहुंचते हैं। माता टौणी देवी को सुनाई नहीं देता था इसलिए जब भी कोई मन्नत मांगता है तो वहां रखे पत्थरों को आपस में टकराता है और उसकी हर मनोकामना पूर्ण होती है।

चौहान वंश की कुलदेवी
माता के दरबार में पंजाब हरियाणा, दिल्ली, राज्यस्थान, जम्मू कश्मीर व उत्तर प्रदेश व अन्य राज्यों से भी चौहान वंश के लोग दर्शन करने आते हैं। स्थानीय लोगों का कहना है कि टौणी देवी का मंदिर 300 वर्ष पुराना है और यह चौहान वंश की कुल देवी है। यहां पर दूर-दूर से श्रद्धालु माथा टेकने के लिए आते हैं। यहां पर आने से हर आदमी की मनोकामना पूर्ण होती है। यहां पर कई वर्ष से कमेटी काम कर रही है। श्रद्धालुओं को रहने के लिए हर प्रकार की सुविधा उपलब्ध है।

Have something to say? Post your comment
 
और विशेष खबरें
नवाँ नौशहरा में 80 जरूरतमंदों को बांटा राशन विशेष :आपदाएं और हम संस्मरण - ऐतिहासिक शाम 22 मार्च 2020 22 मार्च विश्व जल संरक्षण दिवस विशेष ब्रेकिंग : इस बार होली नहीं मनाएंगे विधायक राजेंद्र राणा , जानिये क्यों और क्या है दिल में बात ? पुलवामा शहीदों को गाने में याद किया नादौन के प्यार चंद ने, सीएम जयराम ठाकुर ने किया विमोचन आशा और मीना के जीवन में मुस्कान लेकर आई हिमाचल गृहिणी सुविधा योजना बागवान के बेटे राजेश शर्मा ने संभाला डिप्टी कंट्रोलर वित्त का पदभार आसमान की बुलंदियों पर उड़ता नजर आएगा मडावग का विक्रम ! हमीरपुर जिला में 65,632 विद्यार्थियों को निःशुल्क वर्दी योजना, 37,402 विद्यार्थियों को निःशुल्क पाठ्य पुस्तकें व 12,022 को मुफ्त स्कूल बैग का मिल रहा लाभ