Monday, July 06, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग: कलयुगी दादा ने अपनी 9 साल की पोती को बनाया हवस का शिकारशहादत : तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश के पार्थिव शरीर को देख बिलख उठे हमीरपुरवासी, आसमान भी रोया, राजकीय सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई , सीएम कल मिलेंगे परिजनों से तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश का पार्थिव शरीर ले आज 10 बजे लेह से चण्डीगढ़ के लिए उड़ान भरेगा विशेष विमान, क़ड़ोहता के बरसेला नाला में होगी राष्ट्रीय सम्मान के साथ अंतिम विदाईअंकुश की शहादत से हमीरपुर गमगीन, हमीरपुर जिला के कड़ोहता ( भोरंज उपमंडल)का वीर सैनिक अंकुश शहीद हुआ , कड़ोहता में बेसब्री से हो रहा शहीद के पार्थिव देह का इंतज़ार ब्रेकिंग ) हमीरपुर : मानसिक परेशानी से घर से ग़ायब युवक की सातवें दिन जंगलबेरी में मिली डेड बॉडी,ब्रेकिंग : जिला सोलन के अर्की में कोरोना का पहला मामला आने से हड़कंप ब्रेकिंग: कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति गुरुग्राम से सीधे पहुंचा अस्पताल, मेडिकल कॉलेज नेरचौक में मची अफरातफरी अनलॉक एक का मतलब है और अधिक सावधानी, एतिहात
-
धर्म संस्कृति

बड़ादेव कमरूनाग पहुंचे मंडी, देव ध्वनियों से गूंजा शहर

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | February 20, 2020 07:22 PM
 
मंडी,
 
 
बड़ादेव कमरूनाग के वीरवार को मंडी पहुंचने के साथ ही शिवरात्रि महोत्सव के कारज शुरू हो गए हैं। अंतर्राष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव के लिए देव कमरूनाग सहित छह और देवी-देवता वीरवार को छोटी काशी पहुंचे। देवताओं के आगमन से पूरा शहर देव ध्वनियों के मंगलमय संगीत से गूंज उठा । देवताओं के साथ आए देवलु वाद्ययंत्रों की धुनों पर नाचते-गाते, आनंद मनाते हुए मंडी पहुंचे।
 सबसे पहले पुल घराट के पास जिला प्रशासन की ओर से तहसीलदार गणेश ठाकुर और सर्व देवता समाज समिति के अध्यक्ष शिवपाल शर्मा ने बड़ादेव कमरूनाग का स्वागत किया। वहां से देव कमरूनाग राज माधोराय मंदिर पहुंचे, जहां उपायुक्त मंडी एवं अंतर्राष्ट्रीय शिवरात्रि महोत्सव समिति के अध्यक्ष ऋग्वेद ठाकुर ने देव कमरूनाग का स्वागत किया। उसके बाद देवता ने माधोराय मंदिर में माथा टेका। वहां से देव कमरूनाग देवलुओं संग राजमहल पहुंचे, जहां राजपरिवार के सदस्यों ने पारंपरिक विधि विधान से उनका स्वागत किया।
बड़ादेव के बाद शुकदेव ऋषि शारटी, शुकदेव ऋषि थट्टा, देवी बगलामुखी बाखली व देवी बुढी भैरवा, देव बुढा बिंगल व बजीर झाथी वीर ने राज माधो राव मंदिर में उपस्थिति दर्ज करवाई। वहां से सभी देवता देवलुओं के साथ अपने ठहरने के तय स्थानों को गए।
Have something to say? Post your comment