Saturday, July 04, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग: कलयुगी दादा ने अपनी 9 साल की पोती को बनाया हवस का शिकारशहादत : तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश के पार्थिव शरीर को देख बिलख उठे हमीरपुरवासी, आसमान भी रोया, राजकीय सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई , सीएम कल मिलेंगे परिजनों से तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश का पार्थिव शरीर ले आज 10 बजे लेह से चण्डीगढ़ के लिए उड़ान भरेगा विशेष विमान, क़ड़ोहता के बरसेला नाला में होगी राष्ट्रीय सम्मान के साथ अंतिम विदाईअंकुश की शहादत से हमीरपुर गमगीन, हमीरपुर जिला के कड़ोहता ( भोरंज उपमंडल)का वीर सैनिक अंकुश शहीद हुआ , कड़ोहता में बेसब्री से हो रहा शहीद के पार्थिव देह का इंतज़ार ब्रेकिंग ) हमीरपुर : मानसिक परेशानी से घर से ग़ायब युवक की सातवें दिन जंगलबेरी में मिली डेड बॉडी,ब्रेकिंग : जिला सोलन के अर्की में कोरोना का पहला मामला आने से हड़कंप ब्रेकिंग: कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति गुरुग्राम से सीधे पहुंचा अस्पताल, मेडिकल कॉलेज नेरचौक में मची अफरातफरी अनलॉक एक का मतलब है और अधिक सावधानी, एतिहात
-
अंदर की बात

एसिड प्रकरण : राम भरोसे सरकारी स्कूलों की विज्ञान प्रयोगशालाएँ , चपड़ासी से प्रोमोट हो लैब अटेंडेंट दे रहे सेवाएँ, हाई स्कूलों में नहीं है लैब अटेंडेंट की पोस्ट

रजनीश शर्मा ( हमीरपुर ) 9882751006 | February 23, 2020 10:59 AM

हमीरपुर / रजनीश शर्मा

टौणी क्षेत्र के उटपुर सरकारी स्कूल में दसवीं की तीन छात्राओं पर एसिड हमले को लेकर सरकारी स्कूलों की विज्ञान प्रयोगशालाओं की पोल भी खुली है। सरकारी स्कूलों की ये विज्ञान प्रयोगशालाएँ राम भरोसे चल रही हैं जहाँ चपड़ासी से प्रोमोट होकर लैब अटेंडेंट बने लोग अपनी सेवाएँ दे रहे हैं।
हिमालयन अपडेट द्वारा की गयी पड़ताल में पता चला है कि विज्ञान शिक्षा को लेकर सरकारी स्कूलों को जितना फ़ंड आता है, उस हिसाब से विज्ञान प्रयोगशालाओं की सुरक्षा व्यवस्था में कई कमियाँ हैं।
राम भरोसे चली यह विज्ञान की पढ़ाई शिवांगी जैसी होनहार छात्राओं के लिए कभी भी ख़तरा बन सकती हैं। दिलचस्प बात यह है कि दसवीं के लिए साईँस प्रेक्टिकल ज़रूरी हैं, स्कूलों में लैब भी हैं लेकिन लैब अटेंडेंट की पोस्ट ही नहीं है। ऐसे में सारी ज़िम्मेदारी साईँस टीचर पर आ जाती है।

वहीं जमा दो स्कूलों में चपड़ासी से प्रोमोट होकर लैब अटेंडेंट बने लोग बिना प्रशिक्षण के ही लैब सम्भाले हुए हैं। इन लैब में कई ख़तरनाक एसिड केमिकल एवं ज़हरीले रासायनिक तत्व भरे पड़े हैं। छोटी सी चूक भी उटपुर हादसे को जन्म दे सकती है। इस बारे में कोई निर्देशिका शिक्षा विभाग से जारी न होने से स्कूलों में ज़िम्मेदारी को लेकर असमंजस की स्थिति बनी रहती है।नौसीखिए स्टूडेंट और प्रोमोटी लैब अटेंडेंट हमेशा लैब के अंदर ख़तरे में रहते हैं।
विज्ञान अध्यापक संघ के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मनोज परिहार ने उटपुर स्कूल की घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया है। उन्होंने माँग की है कि सुरक्षा की दृष्टि से सभी विज्ञान प्रयोगशालाओं में केवल प्रशिक्षित लैब अटेंडेंट ही लगाए जाने चाहिए।इससे हज़ारों बेरोज़गार प्रशिक्षित लैब अटेंडेंट को रोज़गार भी मिलेगा।

 

 

Have something to say? Post your comment
और अंदर की बात खबरें