Monday, March 30, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
उपायुक्त ने की रेड क्रॉस को दान देने की अपील  विशेष :आपदाएं और हमखबर का असर : हरकत में आया प्रशासन, मौके का बीडीओ नारकंडा ने किया मुआयनाराजधानी के दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल में कोरोना वायरस के दो संदिग्ध भर्तीकोरोना वायरस: हिमाचल प्रदेश में कोरोना वायरस के दो पॉजीटिव मामले सामने आए , हाई अलर्ट ।पोल खोल :कोरोना से कैसे बचेगा किंगलख़बर का असर : हमीरपुर जिला में सुजानपुर सहित सभी सार्वजनिक उत्सवों, मेलों इत्यादि का आयोजन स्थगित करने के आदेश पारित , डीसी ने दिए कड़े निर्देश एक दूसरे का मुँह ताक रहे विभाग, सुजानपुर में चल रहा अनाधिकृत मेला, दुकानों में गंदगी की भरमार, डबल्यू॰एच॰ओ॰ एवं सरकार की गाइड लाइन की कोई परवाह नहीं।
-
अंदर की बात

जिथि अड़ा फड़ा उथि धूमल खड़ा , आख़िर हर बार धूमल ही क्यों, नाम उछाल कर खींचने वाले कौन ??

रजनीश शर्मा ( हमीरपुर ) 9882751006 | February 28, 2020 12:37 PM

हमीरपुर / रजनीश शर्मा

प्रदेश में पहली बार ग़ैर कांग्रेस सरकार को पाँच साल चलाने और दूसरी बार पूर्ण बहुमत से पूर्णकाल सत्ता चलाने वाले प्रेम कुमार धूमल एक बार बार फिर चर्चा में हैं। जब 2017 में हिमाचल में भाजपा की डगर डगमग़ा रही थी तो विधानसभा चुनावों के आख़िरी दिनों में धूमल को मुख्यमंत्री का चेहरा घोषित कर चुनाव लड़े गये। धूमल के नेतृत्व में चुनाव लड़ भाजपा 44 सीटें लेकर सत्तारूढ़ हुई लेकिन धूमल स्वयं चुनाव हार गए। धूमल की हार पर कई किंतु परंतु हुए और निष्कर्ष यही निकला कि भाजपा अंदर की काली भेड़ों ने मिलकर धूमल को हरवाने में अहम भूमिका निभाई। यह भी सच है कि राजनीति कभी स्थिर नहीं रहती। धूमल के प्रति  भाजपा कार्यकर्ताओं की निष्ठा कम होने की अपेक्षा पहले से ज़्यादा मज़बूत होती चली गई।

भाजपा को सत्तासीन कर धूमल स्वयं सत्ता से बाहर हो गए। धूमल बेशक चुनाव हार गए लेकिन उन्होंने पार्टी के प्रति अपनी निष्ठा कभी नहीं छोड़ी। धूमल नई ऊर्जा से फिर से फ़ील्ड में उतरे और से रूठे कार्यकर्ताओं को मनाया।

वक़्त बदलता गया और समीरपुर में धीरे धीरे रौनक़ बढ़ने लगी। इसी बीच मोदी मंत्रीमंडल में अनुराग ठाकुर की राज्यमंत्री के रूप में एंट्री से धूमल और मज़बूत हो गए।धूमल के साथ ही अनुराग में भी हिमाचल का भविष्य देखने वालों की क़तार लंबी होने लगी।

धूमल को मिलने सुजानपुर , हमीरपुर से ही नहीं प्रदेश भर से कार्यकर्ता समीरपुर पहुँचना शुरू हो गए। हिमाचल भाजपा में जयराम ठाकुर मुख्यमंत्री के रूप में तो शांता एवं धूमल क़द्दावर नेताओं के रूप में आज भी लोकप्रिय हैं। उधर भाजपा नेता सत्ती व बिंदल जब भी किसी राजनैतिक संकट में फँसे , हमेशा धूमल को याद करते नज़र आए। काँगड़ा में ओबीसी नेता धवाला हो या गद्दी नेता किशन कपूर , ये भी अब धूमल को ही अपना गुरु मानते हैं। सिरमौर में भाजपा को अंकुरित कर बड़ा पेड़ बनाने वाले धूमल को आज भी याद किया जाता है।

धूमल का नाम ही काफ़ी

प्रदेश में धर्मशाला उपचुनाव हो या फिर किसी राज्य में राज्यपाल की नियुक्ति धूमल का नाम सबसे आगे करने वाला एक गुट चर्चाओं को जन्म देता रहा है।यही नहीं , मोदी मंत्रीमंडल के विस्तार के वक़्त भी धूमल का नाम केंद्र में मंत्री बनने के लिए उछाला गया।

हाल ही में प्रदेश भाजपा अध्यक्ष की नियुक्ति के वक़्त पार्टी हाई कमान ने जब यह कहा कि प्रदेश भाजपा  का अध्यक्ष ऐसा हो जो 2022 में हिमाचल में भाजपा को रिपीट करवा सके। उस वक़्त भी प्रेम कुमार धूमल का नाम सबसे पहले लिया गया।
अब जैसे ही हिमाचल में राज्यसभा की खाली सीट पर चुनाव की बात सामने आई तो प्रेम कुमार धूमल फिर चर्चा में आ गए। धूमल को राज्यसभा भेज प्रदेश की राजनीति से दूर करने वाला भाजपा के अन्दर ही एक गुट सक्रिय हो गया है।

आख़िर हर बार धूमल ही क्यों ? भाजपा के अंदर धूमल के प्रति प्रबल निष्ठा रखने वाले कार्यकर्ताओं का मानना है कि हर बार धूमल का नाम उछालकर हाथ पीछे खींच लेने से इतना तो तय है कि धूमल का नाम ही काफ़ी है।इसीलिए नियुक्ति कोई भी होनी हो धूमल के नाम की चर्चा ज़ुबान पर आ जाती है

 

 

Have something to say? Post your comment
 
और अंदर की बात खबरें
ख़बर का असर : हमीरपुर जिला में सुजानपुर सहित सभी सार्वजनिक उत्सवों, मेलों इत्यादि का आयोजन स्थगित करने के आदेश पारित , डीसी ने दिए कड़े निर्देश हैडली बने एनयूजे इंडिया के वरिष्ठ उपाध्यक्ष सुजानपुर होली मेले में दोनों तरफ़ से टूटा सब्र का बाँध , धूमल परिवार व राणा परिवार फिर आमने सामने ( ब्रेकिंग) होर्डिंग्स मामला :सुजानपुर में लगे अनुराग ठाकुर मुर्दाबाद के नारे, राजेंद्र राणा और अभिषेक के नेतृत्व में प्रशासन की उदासीनता पर भी उठाए गये सवाल ब्रेकिंग : टूटा सब्र का बाँध , होर्डिंग फाडऩे वालों पर कार्रवाई ना होने पर भड़के विधायक राजेंद्र राणा, आज दो बजे सुजानपुर में समर्थकों सहित करेंगे विरोध प्रदर्शन हमीरपुर : महिला थाने में छेड़छाड़, पोकसो एवं जान से मारने की धमकी देने पर मामला दर्ज, एक अन्य मामला दहेज उत्पीड़न का भी हुआ दर्ज 1795 में सुजानपुर में खेली गई थी पहली बार तिलक होली, तालाब में तैयार होता था रंग, राजा और प्रजा के बीच मिटती थी दूरियाँ सुजानपुर होली : सुरक्षा व्यवस्था के लिए छः सेक्टरों में बँटा सुजानपुर का ऐतिहासिक चौग़ान, 400 पुलिस व होमगार्ड के जवान तैनात , चप्पे चप्पे पर रहेगी नज़र हिमाचल बजट : विधायक निधि 1 करोड़ 50 लाख से बढ़ाकर 1 करोड़ 75 लाख रुपए हुई , नौकरियां, न्यू पेंशन स्कीम, अनुबंध कर्मचारी, दिहाड़ीदारों , किसानों बागवानों, दुकानदारों की बल्ले-बल्ले ( ब्रेकिंग ) हमीरपुर : पांच वर्षीय नेपाली मासूम बच्ची दुष्कर्म केस में बहस पूरी , 28 मार्च को आ सकता है बड़ा फ़ैसला, अर्जीनवीस पर लगे हैं दुष्कर्म के गंभीर आरोप