Wednesday, April 08, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
हिमाचल में कोरोना पॉजिटिव के 9 नए मामलेहिमाचल प्रदेश के लिए बुरी खबर, कोरोना के 4 नए मामलेब्रेकिंग : पुलिस की बड़ी कार्यवाही , ठेका सील नेरवा के जलारा से 4 जमाती गिरफ्तारहिमाचल में एक दिन में कोरोना वायरस के सात नए मामले, 10 पहुंची मरीजों की संख्या(ब्रेकिंग ) हमीरपुर : दोस्तों संग खड्ड में नहाने गया प्रवासी युवक डूबा , मौत , मौक़े पर पहुँची पुलिसमोदी जी , केवल थाली बजाने और मोमबत्ती जलाने से महामारी का सामना नहीं हो सकता : प्रेम कौशल ब्रेकिंग : लॉक डाउन ( 14 अप्रैल ) तक निजी स्कूल नहीं कर सकते मासिक फ़ीस व एडमिसन फ़ीस जमा करने की डिमांड , होगी सख़्त कार्यवाही, शिक्षा विभाग ने जारी की नोटिफ़िकेशन
-
अंदर की बात

सुजानपुर होली मेले में दोनों तरफ़ से टूटा सब्र का बाँध , धूमल परिवार व राणा परिवार फिर आमने सामने

रजनीश शर्मा ( हमीरपुर ) 9882751006 | March 09, 2020 11:35 AM


हमीरपुर / रजनीश शर्मा

सुजानपुर में धूमल परिवार व राणा परिवार फिर से आमने सामने है। सब्र का बाँध दोनों तरफ़ से टूट रहा है। हालात ऐसे रहे तो 2022 में सुजानपुर की धरती एक बार फिर महायुद्ध के लिए तैयार हो रही है। मुक़ाबला धूमल परिवार और राणा परिवार के बीच होने के पूरे पूरे आसार बनने लगे हैं।

कभी समीरपुर हाउस के ख़ास मेहमान समझे जाने वाले अब कांग्रेसी विधायक राजेंद्र राणा सुजानपुर होली मेले के बीच भड़क गए। राणा का ग़ुस्सा सातवें आसमान पर दिखा और उन्होंने स्पष्ट शब्दों में कह दिया कि अब सब्र का बाँध टूट चुका है।इस बार राणा के निशने पर केंद्रीय राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर एवं समर्थक रहे।

यहाँ बताना जरूरी है कि गत विधानसभा चुनाव में भाजपा के घोषित सीएम उम्मीदवार प्रेम कुमार धूमल को हराकर हिमाचल की राजनीति में उलटफेर करने वाले राजेंद्र राणा अत्यंत शांत , मिलनसार एवं सौम्य स्वभाव के हैं। उन्होंने राजनीतिक प्रतिद्वंदीता के बावजूद प्रेम कुमार धूमल पर कभी सीधा राजनैतिक हमला नहीं किया। फिर धूमल के बेटे अनुराग व इनके समर्थकों ने ऐसा क्या कर दिया कि राजेंद्र राणा होली महोत्सव के बीच भड़क गये।

यह आग 2017 की हार जीत के बीच सुलग रही थी और सुजानपुर में राजेंद्र राणा द्वारा लगवाए गये स्वागत होर्डिंग्स के फटने से ज्वाला बाहर आ निकली । होर्डिंग्स फाड़ने वाले कौन अज्ञात हैं इनका पता लगाना पुलिस का काम है लेकिन राजेंद्र राणा का मानना है कि सुजानपुर की पुलिस दबाव में है। इससे पहले भी कई शिलान्यास के पत्थर टूटे लेकिन प्रशासन भी शिकायत के बावजूद चुप बैठा रहा।

वहीं मोदी लहर में सुजानपुर से भाजपा को मिली 25 हज़ार से अधिक लीड से भाजपा के हौसले बुलंद हैं। प्रेम कुमार धूमल एक बार फिर 2022 में राजेंद्र राणा से हार का बदला लेने की तैयारी में हैं। पिछले क़रीब 28 माह में सुजानपुर विस क्षेत्र में धूमल ने सबसे पहले उन पुराने भाजपा कार्यकर्ताओं को वापिस अपने साथ जोड़ने में कड़ी  मेहनत की जो किन्हीं कारणों से राणा के साथ चले गये थे। धूमल लगातार सुजानपुर को अपनी कर्म स्थली बनाए हुए हैं। राजनैतिक ज़मीन अरुण धूमल के लिए भी तलाश हो रही है। ऐसे में कई राजनैतिक दावपेच खेले जा रहे हैं।

सुजानपुर होली मेले में परंपरा से हटकर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर  का ना आना और उनकी जगह अनुराग ठाकुर का सुजानपुर के होली शुभारंभ समारोह में शामिल होना भविष्य की राजनैतिक तस्वीर भी साफ़ कर रहा है। ऐसे में कटोच वंश की ऐतिहासिक सुजानपुर नगरी फिर धूमल परिवार व राणा परिवार के बीच राजनैतिक द्वन्द में फँसती नज़र आ रही है। सब्र का बाँध एक तरफ़ से नहीं दोनों तरफ़ से टूटता प्रतीत हो रहा है।

Have something to say? Post your comment
 
और अंदर की बात खबरें
ट्रक रिपेयर, टायर पंक्चर दुकानें एनएच पर खुलेगी आर्मी भर्ती कोरोना के चलते स्थगित मोदी जी , केवल थाली बजाने और मोमबत्ती जलाने से महामारी का सामना नहीं हो सकता : प्रेम कौशल भाजपा के ब्यानवीर संकट के समय में सकारात्मक दृष्टिकोण का परिचय दें : प्रेम कौशल ख़बर का असर : हमीरपुर जिला में सुजानपुर सहित सभी सार्वजनिक उत्सवों, मेलों इत्यादि का आयोजन स्थगित करने के आदेश पारित , डीसी ने दिए कड़े निर्देश हैडली बने एनयूजे इंडिया के वरिष्ठ उपाध्यक्ष ( ब्रेकिंग) होर्डिंग्स मामला :सुजानपुर में लगे अनुराग ठाकुर मुर्दाबाद के नारे, राजेंद्र राणा और अभिषेक के नेतृत्व में प्रशासन की उदासीनता पर भी उठाए गये सवाल ब्रेकिंग : टूटा सब्र का बाँध , होर्डिंग फाडऩे वालों पर कार्रवाई ना होने पर भड़के विधायक राजेंद्र राणा, आज दो बजे सुजानपुर में समर्थकों सहित करेंगे विरोध प्रदर्शन हमीरपुर : महिला थाने में छेड़छाड़, पोकसो एवं जान से मारने की धमकी देने पर मामला दर्ज, एक अन्य मामला दहेज उत्पीड़न का भी हुआ दर्ज 1795 में सुजानपुर में खेली गई थी पहली बार तिलक होली, तालाब में तैयार होता था रंग, राजा और प्रजा के बीच मिटती थी दूरियाँ