Thursday, April 09, 2020
Follow us on
-
हेल्थ और लाइफस्टाइल

मास्क-सेनेटाइज़र्स की जमाखोरी एवं मुनाफाखोरी पर होगी दंडात्मक कार्रवाई

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | March 16, 2020 07:04 PM

शिमला

 

हिमाचल प्रदेश सरकार ने कोरोना वायरस (कोविड-19) को फैलने से रोकने के उद्देश्य से एहतियाती कदम उठाने का निर्णय लिया है। प्रदेश सरकार के एक प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि केंद्र सरकार ने आवश्यक वस्तु अधिनियम, 1955 में संशोधन करते हुए 2 परत, 3 परत वाले और एन-95 मास्क तथा हाथों के सेनेटाइज़र्स को अनिवार्य वस्तुएं घोषित किया है। केंद्र सरकार के इस निर्णय के दृष्टिगत, प्रदेश सरकार ने भी 30 जून, 2020 तक इन वस्तुओं को हिमाचल प्रदेश जमाखोरी एवं मुनाफाखोरी रोकथाम आदेश, 1977 के अंतर्गत शामिल करने का फैसला किया है। अतः इन वस्तुओं की जमाखोरी और मुनाफाखोरी करने वाले व्यक्ति पर आवश्यक वस्तु अधिनियम, 1955 के अंतर्गत दंडात्मक कार्रवाई की जाएगी।  

 

प्रवक्ता ने कहा कि खाद्य, नागरिक आपूर्ति और उपभोक्ता मामले विभाग के अधिकारियों और फील्ड अधिकारियों के साथ-साथ अतिरिक्त, उप एवं सहायक दवा नियंत्रकों, मुख्य चिकित्सा अधिकारियों, खंड चिकित्सा अधिकारियों, चिकित्सा अधिकारियों   (स्वास्थ्य) और दवा निरीक्षकों को भी इस आदेश के अंतर्गत उनके कार्यक्षेत्र में निरीक्षण, तलाशी और अधिग्रहण की शक्तियां प्रदान की गई हैं।

Have something to say? Post your comment
 
और हेल्थ और लाइफस्टाइल खबरें
डॉक्टर सोनम नेगी ने संभाला जिला स्वास्थ्य अधिकारी शिमला का कार्यभार कैंसर मरीजों को फोन पर निशुल्क मिलेगी डॉक्टरी सलाह हिमाचल प्रदेश के लिए बुरी खबर, कोरोना के 4 नए मामले आनी में खाद्य एवं आपूर्ति निगम ने खाद्यान्न भंडारण स्थल को किया सेनाटाइज महिला मंडल पावी की महिलाओं ने वैश्विक आपदा कोविड-19 से निपटने के लिए मुख्यमंत्री राहतकोष में ज़मा किए 3100 की राशि मुख्यमंत्री ने राज्य औषधी नियंत्रक को दिए आवश्यक दवाइयां उपलब्ध करवाने के निर्देश चवाई बाज़ार में किया सेनिटाइजर का छिड़काव भाजपा अपने स्थापना दिवस पर कोरोना पर करेगी प्रहार: डा. बिन्दल हिमाचल में एक दिन में कोरोना वायरस के सात नए मामले, 10 पहुंची मरीजों की संख्या स्वास्थ्य विभाग की 431 टीमें घर-घर जाकर करेंगी स्क्रीनिंग