Thursday, May 28, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
अपडेट/ : हमीरपुर जिला में कोरोना संक्रमित के पांच नए मामले, अबतक ज़िले में कुल 20 मामले , 15 एक्टिव , 4 ठीक हुए , एक मौत ब्रेकिंग : हमीरपुर ज़िला में एक साथ कोरोना के पाँच मामले आए सामने, संक्रमितों में एक महिला भी शामिल ,ब्रेकिंग : हमीरपुर के नादौन उपमंडल की ग्वाल पत्थर पंचायत में दो व्यक्तियों के कोविड-19 संक्रमित होने की पुष्टिब्रेकिंग: मड़ावग में नेपाली मूल के युवक ने फंदा लगाकर दी जान सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल ,ख़ास ख़बर : ग़ाज़ियाबाद का एक ऐसा स्कूल जिसने लॉकडाउन में तीन माह की फ़ीस माफ़ की और टीचरों के खाते में डाली सेलरी, हिमाचल के लालची स्कूलों के लिए करारा सबक़चौपाल, नेरवा में कल बंद रहेगी बिजलीहिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर में ऑनलाईन फेसबुक लाइव के माध्यम से अध्ययन केंद्र का विधिवत उद्घाटन
-
राज्य

संजीव कुमार विद्युत विभाग में बने सहायक अभियंता 

गुरदास जोशी | March 19, 2020 09:15 AM
रामपुर,
 
 
मंज़िले उन्हीं को मिलती है जिनके सपनों में जान होती है ,पँख से कुछ नहीं होता हौसलों से उड़ान होती है , इन पंक्तियों को चरितार्थ किया है जिला कुल्लू के निरमण्ड के गांव पोशना के संजीव कुमार ने । 
 
संजीव कुमार ने विद्युत विभाग में सहायक अभियंता की परीक्षा उत्तीर्ण कर क्षेत्र के लिए एक नया गौरव स्थापित किया है । 
संजीव कुमार का जन्म एक साधारण परिवार में हुआ । संजीव के पिता हाइड्रो प्रोजेक्ट में कुक का काम करते हैं जबकि माता जालपा देवी गृहणी है । उनकी बहन पढ़ाई कर रही है। 
बचपन से ही संजीव कुमार बहुत कुशाग्र बुद्धि का छात्र रहा है । माता जालपा देवी बताते हैं कि उस समय संजीव कुमार दूसरी-तीसरी कक्षा में था जब कहा करता था कि मैं इंजीनियर बनूँगा । हालांकि घर परिवार की आर्थिक स्थिति ज़्यादा अच्छी नहीं थी लेकिन फिर भी माता-पिता ने किसी चीज़ की कोई कमी नहीं होने दी। 
संजीव कुमार ने अपनी प्राथमिक शिक्षा राजकीय माध्यमिक विद्यालय लारजी से ग्रहण की । उसके बाद दसवीं कक्षा की परीक्षा में 83 फ़ीसदी और बारहवीं कक्षा में 90 फ़ीसदी अंक राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय ढालपुर(बॉयज) से ग्रहण की । 
बारहवीं के बाद जेईई मेन कि परीक्षा उत्तीर्ण की और एनआईटी हमीरपुर के लिए चयन हुआ जहां से वर्ष 2018 में 82 फ़ीसदी अंकों के साथ इलेक्ट्रिकल और इलेक्ट्रॉनिक में बीटेक किया। इस दौरान संजीव कुमार का निजी कंपनियों के लिए भी प्लेसमेंट हुआ लेकिन उन्हें सरकारी क्षेत्र में जाने का शौक था । इसलिए तैयारियां शुरू कर दी । संजीव ने जिला की लाइब्ररी व घर पर ही पढ़ाई करते हुए सहायक अभियंता की परीक्षा पास करके क्षेत्र के युवाओं के लिए एक उदाहरण पेश किया है। पिता बहादुर सिंह बेटे की उपलब्धि ओर बेहद खुश है । उन्होंने कहा कि बेटे का सपना एक इंजीनियर बनने का था जो उसने कड़े परिश्रम से हासिल किया।  
Have something to say? Post your comment
 
और राज्य खबरें