Monday, April 19, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
मुख्य सचिव ने सूखे जैसी स्थिति से निपटने के लिए कृषि व बागवानी विभागों को कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिएहिमाचल में फ़र्ज़ी गाड़ियों के पंजीकरण को लेकर सीबीआई करे जाँच, मुख्यमंत्री कांग्रेस के नेताओं को धमकाना करें बन्द :अग्निहोत्री।प्रदेश में करोड़ो रूपये की गाड़ियों की रजिस्ट्रेशन मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने मुख्यमंत्री से मांगा श्वेतपत्र।हिमालयन अपडेट साहित्य सृजन की झारखंड इकाई के सफल नेतृत्व में विराट काव्य आयोजन हर्ष और उल्लास के साथ संपन्न आने वाले समय में नाइट कर्फ्यू और लॉक डाउन की संभावनाएं; मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर https://youtu.be/DuPN5b7gdiQ नीजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ अभिभावक मंच ने जिला प्रशाशन को सौंपा ज्ञापन,कार्यवाही की की मांग https://youtu.be/_2J8oLo8-jo कोरोना महामारी के चलते प्रदेश में सादगी से मनाया गया 73वा हिमाचल दिवस ।हि.प्र. स्कूल शिक्षा बोर्ड और विश्वविद्यालय स्नातक स्तर की परीक्षाएं स्थगित
-
धर्म संस्कृति

सत्संग अर्थात् सत् का संग ।

पंडित मोहिंद्र शर्मा | May 06, 2020 05:34 PM

शिमला,

सत् अर्थात् ईश्वर अथवा ब्रह्मतत्त्व । सत्संग अर्थात् ईश्वर के अथवा ब्रह्मतत्त्व की अनुभूति की दृष्टि से. अध्यात्म के लिए पोषक वातावरण । कीर्तन अथवा प्रवचन के लिए जाना, तीर्थक्षेत्र में निवास करना, संतलिखित आध्यात्मिक ग्रंथों का वाचन, अन्य साधकों के सान्निध्य में रहना, संत अथवा गुरु के पास जाना इत्यादि से अधिकाधिक उच्च स्तर का सत्संग प्राप्त होता है ।

सत्संग का महत्त्व

एक बार वसिष्ठ तथा विश्वामित्र ऋषियों में विवाद हुआ था कि, सत्संग श्रेष्ठ या तपश्चर्या ? वसिष्ठ ऋषि ने बताया कि, ‘‘सत्संग’’; तो विश्वामित्र ऋषि ने बताया कि, ‘‘तपश्चर्या ।’’ विवाद का निर्णय करने हेतु वे ईश्वर के पास गए । ईश्वर ने बताया कि, ‘शेष के पास ही तुम्हें तुम्हारे इस प्रश्न का उत्तर प्राप्त होगा !’’ अतः दोनों शेषनाग के पास गए । उन्होंने प्रश्न पूछने के पश्चात् शेष ने उत्तर दिया कि, ‘‘मेरे सिर पर जो पृथ्वी का वजन है, वह तुम कुछ मात्रा में हल्का करों । पश्चात् मैं विचार करूंगा तथा उत्तर दूंगा ।’’ इस बात पर विश्वामित्र ने संकल्प किया कि, ‘मेरे सहस्त्र वर्ष की तपश्चर्या का फल मैं अर्पण करूंगा । पृथ्वी शेष के सिर से कुछ ऊपर ऊठें ।’ किंतु पृथ्वी बिलकुल बाजू नहीं हुई । पश्चात् वसिष्ठ ऋषि ने संकल्प किया, ‘आधे घटका का (बारह मिनटों का) सत्संग का फल मैं अर्पण करूंगा । पृथ्वी अपना वजन न्यून करें ।’ पृथ्वी त्वरित ऊपर ऊठ गई ।

Have something to say? Post your comment
और धर्म संस्कृति खबरें
मंजीत शर्मा की अध्यक्षता में जाखू में मंदिर न्यास सदस्य समिति की बैठक का आयोजन किया गया https://youtu.be/qA4yu0-24Yc हिमाचल कला संस्कृति भाषा अकादमी एवं हिमाचल प्रदेश शिक्षक महासंघ द्वारा काव्य सम्मेलन आयोजित https://youtu.be/g3eAQpGciUg शिवरात्रि पर शिवालयों में दिखी भक्तों की लंबी कतारें, शिमला में शिव जी की निकाली गई बारात शिवरात्रि पर शिवालयों में दिखी भक्तों की लंबी कतारें, शिमला में शिव जी की निकाली गई बारात लोगों की आकांक्षाओं पर खरा उतरें जनप्रतिनिधिः राज्यपाल 15 दिनों के स्वर्ग प्रवास के बाद देवालय लौटे देवता, मंदिरों में पूजा अर्चना शुरू चिंतपूर्णी नव वर्ष मेला के दौरान जिला में 31 दिसंबर, 2020 व 1 जनवरी, 2021 को लागू रहेगी धारा 144 -डीसी अकादमी के मंच पर निर्गुण पद, गणगौर एवं निमाड़ी लोकगीतों का गायन देवठन के बाद शिरगुल देवता मंदिर के कपाट पाँच माह के लिए बंद। माँ की महिमा