Friday, March 05, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/LElaOQ_7SFs मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने लगाई कारोना वैक्सीन https://youtu.be/vFVt3UOrtuQ करुणामूलक भर्ती को जल्द भरने की मांग को लेकर संघ का विधानसभा के बाहर धरना https://youtu.be/YY7cHnTDnf4 यदि मैं मुख्यमंत्री होता तो एक घंटे में सुलझ जाता विधानसभा का मसला; वीरभद्र सिंह https://youtu.be/Wk2WZmMWU2M पॉइन्ट ऑफ आर्डर पर चर्चा न मिलने पर कांग्रेस का सदन से वाकआउटhttps://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआ
-
विशेष

क्वारंटीन से निकलते ही कोरोना की लड़ाई में डटे आदित्य

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | May 09, 2020 02:44 PM

कुल्लू,


हजारों किलोमीटर दूर विदेेश में समंदर के बीच कई महीनों तक जहाज पर ड्यूटी देने के बाद अपने घर लौटने की खुशी और उत्सुकता किसे नहीं होती? अरसे बाद अपने परिजनों के बीच खुशियां बांटना आखिर किसे अच्छा नहीं लगता? लेकिन, अगर आपको घर पहुंचने के बावजूद चार हफ्तों तक अपनों से अलग रहना पड़े तो इसके लिए बहुत ही धैर्य एवं संयम की आवश्यकता होगी। आज का यह कोरोना काल विश्व के हर व्यक्ति से यही धैर्य एवं संयम मांग रहा है।
   जी हां, किन्हीं कारणों से क्वारंटीन पर रखे गए लोग अगर चंद दिनों तक थोड़ा सा धैर्य एवं संयम रखें तो वे कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने में बहुत बड़ा योगदान दे सकते हैं। कुछ ऐसा ही करके दिखाया है मर्चेंट नेवी के एक युवा अफसर आदित्य गौतम ने।
  19 मार्च को सिंगापुर से कुल्लू लौटे आदित्य ने एक जिम्मेदार एवं जागरुक नागरिक का परिचय देते हुए खुद को घर में ही 28 दिन तक क्वारंटीन करके एक मिसाल कायम की है।
 19 मार्च को जब आदित्य दिल्ली-भुंतर की फ्लाइट से कुल्लू के सुल्तानुपर स्थित अपने घर पहुंचे तो उस समय हिमाचल प्रदेश में कोरोना संक्रमण की आशंका को लेकर सख्त दिशा-निर्देश जारी नहीं हुए थे। प्रदेश में यह कोरोना संकट का शुरुआती दौर ही था, लेकिन दक्षिण-पूर्वी एशिया के देशों में कोरोना विकराल रूप धारण कर चुका था। आदित्य इस खतरे से भली-भांति परिचित थे।
  19 मार्च को ही कुल्लू के एसडीएम अनुराग चंद्र शर्मा और मुख्य चिकित्सा अधिकारी डाॅ. सुशील चंद्र शर्मा ने आदित्य को फोन करके तुरंत होम क्वारंटीन में रहने के निर्देश दिए। एक जिम्मेदार एवं जागरुक नागरिक का परिचय देते हुए आदित्य ने अपने आपको घर में ही अलग कमरे में क्वारंटीन कर लिया।
   कई महीनों के बाद विदेश से घर आए मर्चेंट नेवी के इस युवा अफसर को पत्नी आदिति, तीन वर्षीय बेटे माधव, माता-पिता, बुआ और छोटे भाई के संयुक्त परिवार के बीच खुशियां साझा करने के बजाय एक बिलकुल अलग कमरे में 28 दिनों तक रहना भावनात्मक रूप से आसान नहीं था। लेकिन, उन्होंने प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग के दिशा-निर्देशों का अक्षरशः पालन किया और क्वारंटीन की अवधि पूरी होने के बाद ही घर से बाहर निकलना शुरू किया।
  इन परिस्थितियों से एक सबक लेते हुए आदित्य ने कोरोना संकट से लड़ाई में सक्रिय योगदान देने तथा जरुरतमंद लोगों की मदद का संकल्प लिया। शहर में गरीब लोगों और प्रवासी मजदूरों के लिए राशन व भोजन मुहैया करवा रही संस्थाओं को आर्थिक योगदान के साथ-साथ उन्होंने बड़े पैमाने पर मास्क तैयार करवाने तथा आम लोगों के बीच बांटने की पहल की। अभी तक वह अन्य साथियों के सहयोग से तीन-चार हजार मास्क बांट चुके हैं।
  इस प्रकार कोरोना संक्रमण के बहुत बड़े हाॅट-स्पाॅट दक्षिण-पूर्वी एशिया से लौटे मर्चेंट नेवी अफसर ने न केवल क्वारंटीन के नियमों का पालन किया, बल्कि अब वह कोरोना विरोधी लड़ाई में सक्रिय योगदान भी दे रहे हैं।

 
Have something to say? Post your comment
और विशेष खबरें
मडावग पंचायत भवन में एक दिवसीय चिकित्सा शिविर का आयोजन रोहडू क्षेत्र की महिलाओं ने सेब की चटनी से लहराया परचम भारयुक्त जीवन को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना ने किया भारमुक्त विशेष : अश्वमेध यज्ञ के समय निर्मित राम-सीता की मूर्तियाँ कुल्लू में हैं स्थापित, अयोध्या से कुल्लू का 370 साल पुराना रिश्ता कोरोना काल में मार्गदर्शक बना गोगटा लोकमित्र केंद्र मडावग ! सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल , पवन 6 महीने बाद घर लौटे बेटियों को गले तक नहीं लगाया 8 हजार फीट पर क्वारंटीन हुए हर जगह है माँ : इंदरपाल कौर चंदेल ना केवल गांव के लिए बल्कि प्रदेश के लिए मिसाल बने मनीष धनी राम को नर्सरी ने बनाया धनवान