Wednesday, June 03, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
पोल खोल : स्वास्थ्य विभाग के बाद अब जल शक्ति विभाग में टैंडर घोटाला, मचा हड़कंपकोरोना काल में मार्गदर्शक बना गोगटा लोकमित्र केंद्र मडावग !अपडेट/ : हमीरपुर जिला में कोरोना संक्रमित के पांच नए मामले, अबतक ज़िले में कुल 20 मामले , 15 एक्टिव , 4 ठीक हुए , एक मौत ब्रेकिंग : हमीरपुर ज़िला में एक साथ कोरोना के पाँच मामले आए सामने, संक्रमितों में एक महिला भी शामिल ,ब्रेकिंग : हमीरपुर के नादौन उपमंडल की ग्वाल पत्थर पंचायत में दो व्यक्तियों के कोविड-19 संक्रमित होने की पुष्टिब्रेकिंग: मड़ावग में नेपाली मूल के युवक ने फंदा लगाकर दी जान सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल ,ख़ास ख़बर : ग़ाज़ियाबाद का एक ऐसा स्कूल जिसने लॉकडाउन में तीन माह की फ़ीस माफ़ की और टीचरों के खाते में डाली सेलरी, हिमाचल के लालची स्कूलों के लिए करारा सबक़
-
शिक्षा

प्रदेश सरकार के ‘हर घर पाठशाला’ कार्यक्रम से बच्चों के जीवन में फैल रहा ज्ञान का उजाला

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | May 09, 2020 09:13 PM

मंडी,

 

मंडी जिला में ‘हर घर पाठशाला’ कार्यक्रम से 88 हजार से अधिक विद्यार्थी डिस्टेंस लर्निंग कार्यक्रम का लाभ उठा रहे हैं। ये आंकड़ा पहली से 12वीं तक के विद्यार्थियों का है जो इन कक्षाओं में पढ़ रहे बच्चों की कुल संख्या के 77 प्रतिशत के करीब है।
काबिलेजिक्र है कि हिमाचल सरकार ने कोरोना संकट के बीच स्कूल बंद होने के चलते बच्चें के लिए ई-लर्निंग और टीचिंग आरंभ की है। ताकि कोरोना काल हमारे ‘कल’ यानि बच्चों के भविष्य को न लील सके। विद्यार्थियों को घर पर ही शिक्षा की सुविधा मिले और उनकी पढ़ाई जारी रहे।
10वीं व 12वीं के बच्चों के लिए डीडी शिमला चैनल पर हर रोज सुबह 10 से 1 बजे तक 3 घंटे की क्लास लगार्ह जा रही है।इसे विभिन्न विषयों पर निरंतर तीन घंटे समयसारिणी के अनुसार चलाया जा रहा है। डीडी शिमला सभी केबल नेटवर्क के साथ साथ एयरटेल डीटीएच के चैनल नंबर 406 पर भी उपलब्ध है।
वहीं इसके अलावा अध्यापक अन्य कक्षाओं के विद्यार्थियों को व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर पढाई करवा रहे हैं। जिन बच्चों के अभिभावकों के पास समार्ट फोन नहीं है, उनका फोन पर ही पढ़ाई को लेकर मार्गदर्शन कर रहे हैं।
शिक्षा विभाग मंडी के अधिकारियों का कहना है कि सरकार की ‘हर घर पाठशाला’ की यह पहल बच्चों के लिए बेहद कारगर सिद्ध हो रही है। विभाग ने अध्यापकों और बच्चों के बीच समन्वय का प्रभावी तंत्र विकसित किया है। दूर दराज के क्षेत्रों में नेटवर्क की समस्या और कई अभिभावकों के पास स्मार्ट फोन न होने के चलते डिस्टेंस लर्निंग कार्यक्रम से शत प्रतिशत बच्चों को जोड़ पाना संभव नहीं हो सका है। उनकी मदद के लिए अन्य माध्यमों का सहारा लिया जा रहा है।
अध्यापक ऑन लाईन पढ़ाने के अलावा अपने आस पास के घरों में खुद जाकर निरीक्षण और पढ़ाई को लेकर बच्चों का मार्गदर्शन भी कर रहे हैं। इस सबमें सोशल डिस्टेंसिंग और कोरोना से बचाव को लेकर अन्य निर्देशों का पूरा पालन किया जा रहा है।

Have something to say? Post your comment
 
और शिक्षा खबरें
ग्रामीण विकास मंत्री ने कुटलैहड़ में विकास कार्यों पर अधिकारियों के साथ की समीक्षा छात्रों को प्रमोट करे सरकार - एनएसयूआई विभिन्न ट्रेडों में दो वर्षीय आईटीआई कोर्स करने वाले प्रशिक्षुओं पहले वर्ष से दूसरे वर्ष में होंगे प्रमोट महाविद्यालयों से विश्वविद्यालय को दी जाने वाली एफिलेशन, इंस्पेक्शन व कॉन्टिनुशन फीस पर 18% GST थोपने पर पोस्टरों व प्लेकार्ड के माध्यम से किया विरोध डी ए वी पब्लिक स्कूल चौपाल ने चलाई ऑनलाइन क्लासें। मुख्यमंत्री ने विद्यार्थियों के लिए घर से अध्ययन कार्यक्रम की घोषणा की शैमरॉक रोजेंस स्कूल ने विडियो कांफ्रेंस के माध्यम से मनाया हिमाचल दिवस राजकीय आदर्श जमा दो विद्यालय आनी का ऑनलाइन होम एजुकेशन सफलता की ओर अग्रसर कैंब्रिज स्कूल कुल्लू ने बच्चों को पढ़ाने के लिए शुरू की ऑनलाइन क्लास। राष्ट्रीय सेवा योजना के स्वयंसेवी जनता को कर रहे हैं कोरोना वायरस के प्रति जागरूक