Tuesday, July 07, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
ब्रेकिंग: कलयुगी दादा ने अपनी 9 साल की पोती को बनाया हवस का शिकारशहादत : तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश के पार्थिव शरीर को देख बिलख उठे हमीरपुरवासी, आसमान भी रोया, राजकीय सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई , सीएम कल मिलेंगे परिजनों से तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश का पार्थिव शरीर ले आज 10 बजे लेह से चण्डीगढ़ के लिए उड़ान भरेगा विशेष विमान, क़ड़ोहता के बरसेला नाला में होगी राष्ट्रीय सम्मान के साथ अंतिम विदाईअंकुश की शहादत से हमीरपुर गमगीन, हमीरपुर जिला के कड़ोहता ( भोरंज उपमंडल)का वीर सैनिक अंकुश शहीद हुआ , कड़ोहता में बेसब्री से हो रहा शहीद के पार्थिव देह का इंतज़ार ब्रेकिंग ) हमीरपुर : मानसिक परेशानी से घर से ग़ायब युवक की सातवें दिन जंगलबेरी में मिली डेड बॉडी,ब्रेकिंग : जिला सोलन के अर्की में कोरोना का पहला मामला आने से हड़कंप ब्रेकिंग: कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति गुरुग्राम से सीधे पहुंचा अस्पताल, मेडिकल कॉलेज नेरचौक में मची अफरातफरी अनलॉक एक का मतलब है और अधिक सावधानी, एतिहात
-
राज्य

जिला सिरमौर में पहली बार सरकारी एजेंसियों द्वारा स्ट्राॅबेरी की खरीद से स्ट्राॅबेरी उत्पादकों को मिली राहत

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | May 30, 2020 05:52 PM
 
शिमला,
 
 
स्ट्राॅबेरी फल मानव शरीर के लिए कई प्रकार से लाभकारी हैं खासकर मनुष्य में प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाती है, जो कई प्रकार की बीमारियों से लड़ने में सहायक सिद्व होते है। स्ट्राॅबेरी अत्यन्त गुणकारी फल है, जिसमें भरपूर मात्रा में पोषक तत्व विद्यमान होते है, जोकि मनुष्य की प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के साथ-साथ पांचन तंत्र में भी कारगर सिद्व होती है ।
 
जिला सिरमौर के किसान देश में आड़ू, आलू बुखारा, खुमानी के उत्पादन के लिए जाने जाते हैं, लेकिन पिछले कुछ वर्षों के दौरान, स्ट्राॅबेरी ने मैदानी क्षेत्रों में बड़ी संख्या में किसानों का ध्यान आकर्षित किया है, जहाँ यह एक प्रमुख नकदी फसल के रूप में उत्पादित किया जा रहा है। बाजार में स्ट्राॅबेरी की अच्छी कीमत और मांग के कारण, लोग अब आड़ू, आलू बुखारा, खुमानी के साथ-साथ स्ट्राॅबेरी की खेती में गहरी दिलचस्पी ले रहे हैं, जो किसानों के लिए अच्छी आय का स्रोत बन रहा है।
 
स्ट्राॅबेरी उन फसलों में से एक है, जो जल्दी नष्ट हो जाती हैं, लेकिन साथ ही यह किसानों के लिए एक अच्छी नकदी फसल है। जिले में कोविड-19 महामारी से पहले, किसान राष्ट्रीय राजमार्गों के किनारे पर्यटकों और अन्य लोगों को स्ट्राॅबेरी की फसल बेचते थे या इसे अन्य राज्यों के बाजारों में बेचकर अच्छी कीमत कमाते थे। लेकिन लाॅकडाउन के कारण जिले के किसान स्ट्राॅबेरी की फसल बेचने के लिए बाहर नहीं जा सके, जिसके कारण जिले के किसानों को डर था कि उनकी फसल खेतों में ही खराब हो सकती है। इस बीच जिले के किसानों को नुकसान से बचाने के लिए स्ट्राॅबेरी की फसल को बचाने के लिए राज्य सरकार के दिशा-निर्देशों के अनुसार बागवानी विभाग सिरमौर और जिला प्रशासन द्वारा ठोस कदम उठाए गए। समय पर निर्णय लेते हुए, राज्य सरकार ने बागवानी विभाग और एचपीएमसी के माध्यम से किसानों की फसलों को खरीदने का फैसला किया।
 
राज्य सरकार के निर्णय के उपरान्त बागवानी विभाग और एचपीएमसी ने खरीद केंद्र खोल कर किसानों से सीधे 38 रुपये प्रति किलोग्राम की दर सेे 120 क्विंटल से अधिक स्ट्राॅबेरी की खरीद की। बागवानी विभाग ने किसानों को नकद भुगतान कर कैनिंग यूनिट में प्रसंस्करण के लिए 84 क्विंटल और एचपीएमसी द्वारा 36 क्विंटल से अधिक स्ट्राॅबेरी खरीदी ।
 
 
 
लाॅकडाउन के दौरान, बागवानी विभाग ने किसानों व बागवानों को समय पर अपनी फसलों  को बचाने के लिए कीटनाशक और फफंूदनाशक दवाइयां जिला के कृषि उत्पादों को बेचने वाली दुकानों के माध्यम से उपलब्ध करवाई  जिसके लिए विभाग ने समय-समय पर इन दुकानदारों को कफ्र्यू पास जारी किए। इसके अलावा, विभाग के अधिकारियों ने इन दुकानों पर जाकर स्टाॅक का निरीक्षण भी किया, ताकि दुकानदार एक्सपायर अवधि की कृषि दवाइयां न बेच सकें। जिला प्रशासन और बागवानी विभाग सिरमौर द्वारा जिले के 200 से अधिक किसानों के साथ-साथ मधुमक्खी पालन व्यवसाय करने वालों के लिए कफ्र्यू पास जारी किए गए थे, ताकि वे गर्मी के मौसम में मधुमक्खियों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर स्थानांतरित कर सकें। इसके अलावा, जिले के मशरूम उत्पादकों को खाद खरीदने के लिए तथा पोल्ट्री फार्मों के मालिकों को बाजार में आवाजाही के लिए परिवहन पास भी जारी किए गए।
 
जिला सिरमौर में बड़ी मात्रा में उत्पादित अन्य फलों में खुमानी, आलू बुखारा, आड़ू आदि प्रमुख हैं। सिरमौर के राजगढ़ क्षेत्र को आड़ू के उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादन के कारण पीच घाटी के रूप में भी जाना जाता है। उत्पदकों को अपने उत्पादों को बाजार तक पहुँचाने में किसी प्रकार की असुविधा और कठिनाइयों का सामना न करना पड़ें इसके लिए बागवानी विभाग द्वारा उचित व्यवस्था की गई है। विभाग द्वारा वितरकों के माध्यम से उत्पादको को खाली पेटियां और जिला के फल उत्पादकों को सभी प्रकार के कीटनाशक और फफूंदनाशक दवाईयां भी उपलब्ध करवाई जा रही है।
 
इसके अलावा, लाॅकडाउन के दौरान राजगढ़, बागथन, चाड़ना नर्सरी में 1.50 लाख से अधिक सेब रूट स्टाक लगाए गए हैं, जो भविष्य में जिले के बागवानों को उपलब्ध करवाए जाएंगे ताकि ऊपरी क्षेत्रों में अच्छी गुणवत्ता वाले सेब का उत्पादन किया जा सके।
 
 
Have something to say? Post your comment
और राज्य खबरें
लोक व्यवहार राष्ट्र स्तरीय संस्थानों पर लग रहे भ्रष्टाचार के आरोपों पर केंद्र से बात करें मुख्यमंत्री : राणा वंदे भारत मिशन के अंतर्गत 39 देशों/शहरों से अब तक 444 व्यक्तियों को हिमाचल प्रदेश वापिस लाया जा चुका है। जिका के अंतर्गत पौधरोपण व ग्रामीण आजीविका सुधार पर खर्च होंगे 41.78 करोड़ रुपयेः वन मंत्री बिजली उपभोक्ताओं को प्रदान किए जाने वाले उपदान का युक्तिकरण प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के हाथों में सुरक्षित है देशः मुख्यमंत्री प्रदेष के लोगों ने पाई पाई जोड़कर राहत कोष में दिया पैसा और नेताओं ने भरी अपनी जेबें कुठियाड़ी का वार्ड नंबर 4 कंटेनमेंट जोन बना, बौट व बाथू हॉटस्पॉट क्षेत्र से बाहर पुलिस थाना बद्दी में विश्राम कक्ष का शुभारम्भ कौशल विकास निगम ऑनलाइन प्रशिक्षण पर कर रहा है विचार: रोहन चंद ठाकुर