Monday, July 26, 2021
Follow us on
-
हिमाचल

शहादत : तिरंगे में लिपटे अमर शहीद अंकुश के पार्थिव शरीर को देख बिलख उठे हमीरपुरवासी, आसमान भी रोया, राजकीय सम्मान के साथ दी गई अंतिम विदाई , सीएम कल मिलेंगे परिजनों से

रजनीश शर्मा ( हमीरपुर ) 9882751006 | June 19, 2020 08:07 PM

हमीरपुर / रजनीश शर्मा 

गलवान घाटी में जिला हमीरपुर के क़ड़ोहता गांव के रहने वाले जवान अंकुश ठाकुर को पूरे राजकीय सम्मान के साथ अंतिम विदाई दे दी गई। शहीद के अंतिम दर्शन करने के बाद हमीरपुरवासी बिलख उठे और आसमान भी रो पड़ा।  शुक्रवार को शहीद जवान के पार्थिव शरीर को सेना की एक टुकड़ी ने पूरे सम्मान के साथ उनके पैतृक गांव पहुंचाया। राजकीय सम्मान के साथ शहीद के पार्थिव शरीर का अंतिम संस्कार किया गया। सेना की टुकड़ी ने शहीद के पार्थिव शरीर पर राष्ट्रीय ध्वज चढ़ाया तो साथ ही इस टुकड़ी ने श्मशानघाट पर हवा में फायर कर अपने इस जवान को सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी।शहीद को छोटे भाई आदित्य ने मुखाग्नि भेंट की ।इस मौके पर हमीरपुर जिला के विभिन्न भागों से आए लोग भी अपने इस शहीद बेटे को अंतिम विदाई देने के लिए भारी संख्या में मौजूद रहे।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर शनिवार को हेलीकपटर से भोटा आएँगे और फिर सड़क मार्ग से क़ड़ोहता पहुँच शहीद अंकुश के परिजनों से मिलेंगे। वह क़रीब एक घंटा क़ड़ोहता में रुकेंगे।

बता दें कि तिरंगे में लिपटे शहीद अंकुश ठाकुर के पार्थिव देह को लेकर विशेष विमान शुक्रवार सुबह 10 बजे लेह से चण्डीगढ़ पहुँचा ।चण्डीगढ़ से सड़क मार्ग से शहीद की पार्थिव देह हमीरपुर जिला के भोरंज उपमंडल के क़ड़ोहता गाँव लाई गई । यहाँ शहीद अंकुश ठाकुर के अंतिम दर्शनों के बाद बरसेला में पूरे राष्ट्रीय सम्मान के साथ पार्थिव देह को मुखाग्नि दी गई। उपायुक्त हमीरपुर हरिकेश मीणा ने बताया कि अमर शहीद अंकुश की पार्थिव देह आज सायं 5 बजे इनके पैतृक गाँव पहुँची
शहीद जवान को सलामी देकर अंतिम सम्मान दिया गया। वहीं प्रशासन की ओर से उपायुक्त , एसपी, एसडीएम भोरंज, हिमाचल पुलिस ने अंतिम संस्कार में शामिल होकर शहीद को श्रद्धांजलि दी।

आपको बता दें कि चीन के साथ हुई हाल ही में हुई झड़प में हमीरपुर जिला के कड़ोहता गाँव का वीर सैनिक अंकुश ठाकुर पुत्र अनिल ठाकुर (21) शहीद हो गए। वह 3 पंजाब रेजिमेंट में तैनात थे । शहीद का पार्थिव शरीर लेह से चण्डीगढ़ होते हुए घर लाया जा रहा है । अंकुश ठाकुर 2018 में सेना में भर्ती हुए थे । अत्यंत शांत एवं मिलनसार युवक अंकुश गाँव में सबके दुलारे थे। मेडिकल की पढ़ाई छोड़ उसने देश सेवा को प्राथमिकता दी और चीन सीमा पर शहीद हो गए।

अंकुश ठाकुर के पिता अनिल कुमार और दादा सीता राम भी भारतीय सेना में सेवाएं दे चुके हैं। शहीद का छोटा भाई कक्षा छह में पढ़ाई कर रहा है। माँ उषा देवी बेटे के अचानक बिछुड़ने से सदमे में है तथा गुमसुम है ।

Have something to say? Post your comment
 
और हिमाचल खबरें
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगत प्रकाश नड्डा की ओर से जारी शोक - संदेश  18 हजार से अधिक बेसहारा गौवंश को सरकार ने दिया संरक्षणः वीरेंद्र कंवर  अंतरराष्ट्रीय मिंजर मेले का सदर विधायक पवन नैयर ने किया शुभारंभ… कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश ने किया अर्की में न्यायालय परिसर का शिलान्यास अनुराग ठाकुर के केंद्रीय खेल मंत्री बनने से हिमाचल प्रदेश को मिलेगा लाभः कंवर सतपाल सिंह सत्ती ने मैहतपुर में 17 लाख से निर्मित वन निरीक्षण चौकी का किया लोकार्पण कोरोना से अनाथ हुए जिला ऊना के चार बच्चों की मदद को आगे आई सरकार मुख्यमंत्री ने द्रंग दौरे के दौरान दिया मानवीय संवेदना का परिचय, गरीब परिवार के घर पहुंच कर जानी बीमार बेटे की स्वास्थ्य स्थिति 26 जुलाई से शाम 8 से 10 बजे तक स्थानीय प्रतिभावान कलाकारों को मिलेगा मंच - उपायुक्त  चीयर फॉर इंडिया कार्यक्रम पर युवा स्वयंसेवियों ने की चर्चा