Sunday, May 31, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
अपडेट/ : हमीरपुर जिला में कोरोना संक्रमित के पांच नए मामले, अबतक ज़िले में कुल 20 मामले , 15 एक्टिव , 4 ठीक हुए , एक मौत ब्रेकिंग : हमीरपुर ज़िला में एक साथ कोरोना के पाँच मामले आए सामने, संक्रमितों में एक महिला भी शामिल ,ब्रेकिंग : हमीरपुर के नादौन उपमंडल की ग्वाल पत्थर पंचायत में दो व्यक्तियों के कोविड-19 संक्रमित होने की पुष्टिब्रेकिंग: मड़ावग में नेपाली मूल के युवक ने फंदा लगाकर दी जान सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल ,ख़ास ख़बर : ग़ाज़ियाबाद का एक ऐसा स्कूल जिसने लॉकडाउन में तीन माह की फ़ीस माफ़ की और टीचरों के खाते में डाली सेलरी, हिमाचल के लालची स्कूलों के लिए करारा सबक़चौपाल, नेरवा में कल बंद रहेगी बिजलीहिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर में ऑनलाईन फेसबुक लाइव के माध्यम से अध्ययन केंद्र का विधिवत उद्घाटन
-
दुनिया

दो भारतीयों को सुनाई 500 साल की सजा, जानिए गुनाह क्या है

April 11, 2018 04:27 PM

नई दिल्ली। गोवा के रहने वाले दो लोगों को दुबई की कोर्ट ने एक मामले में 500 साल की सजा सुनाई है। इनमें से एक का नाम सिडनी लिमोस है और यह 37 साल के है और उनके अकाउंट स्पेशलिस्ट 25 साल के रियान डिसूजा है। इन दोनों के ऊपर 200 मिलियन डॉलर का घोटाला करने और हजारों निवेशकों को धोखा देने का मामला चल रहा था। जिसके बाद कोर्ट ने ये सजा सुनाई है। सिडनी लिमोस 2015 में उस वक्त सुर्खियों में आया था जब उसने वह सुपर लीग की फ्रेंचाइजी एफसी गोवा का मुख्य स्पॉन्सर बन गया था। उस समय लिमोस की तस्वीर कई नामचीन हस्तियों के साथ आई थी जिसमें अमिताभ बच्चन से लेकर सचिन तेंदुलकर भी थे। '25 हजार डॉलर के निवेश पर 120 प्रतिशत का न्यूनतम सालाना रिटर्न देने का वादा' सिडनी लिमोस ने अपनी कंपनी की मदद से लोगों को प्रलोभन दिया था कि वह 25 हजार डॉलर के निवेश पर उन्हें 120 प्रतिशत का न्यूनतम सालाना रिटर्न देगा। लिमोस के साथ ही साथ उसकी पत्नी वलानी पर भी केस दर्ज किया गया है और उन पर गैरकानूनी रूप से सील ऑफिस में घुसने और दस्तावेज ले जाने का आरोप लगा है। लिमोस की कंपनी ने शुरूआत में लोगों को पैसे दिए लेकिन मार्च 2016 के बाद से उन्हें रिटर्न देना बंद कर दिया। दुबई की आर्थिक विभाग को जब कंपनी के फर्जीवाड़े का पता चला तो उसने उसके दफ्तर पर ताला जड़ दिया। दिसंबर 2016 में गिरफ्तार किया गया था गोवा में रहने वाले लिमोस को इससे पहले दिसंबर 2016 में गिरफ्तार किया गया था। लेकिन उसके बाद उसे जमानत पर रिहा कर दिया गया था। हालांकि पिछले साल जनवरी में भी उसे एक बार फिर से गिरफ्तार किया गया था। वहीं सजोलिम के रहने वाले रियान को पिछले साल फरवरी में दुबई एयरपोर्ट पर गिरफ्तार किया गया था। स फैसले के बाद कुछ पीड़ितों ने कोर्ट के इस फैसले के प्रति संतोष व्यक्त किया है। एक पीड़ित जिसने 50,000 डॉलर का निवेश किया था ने कहा- कोर्ट का फैसला सुखद है, न्याय किया गया है। एक्सेंशियल को हमें भुगतान करना होगा। यह निर्णय कि वे अब दुबई छोड़कर नहीं जा सकते हैं ये हमारे लिए अच्छा है। उसने कहा, हम अब अपने पैसे वापस चाहते हैं। कईयों ने उम्मीद खो दी है लेकिन हमें अभी भी अपने पैसे वापस मिलने की उम्मीद है।

Have something to say? Post your comment