Wednesday, August 05, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
विशेष : अश्वमेध यज्ञ के समय निर्मित राम-सीता की मूर्तियाँ कुल्लू में हैं स्थापित, अयोध्या से कुल्लू का 370 साल पुराना रिश्तानाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन ने जुलाई माह के अपने पिछले सारे रिकार्ड को तोड़ते हुए सर्वाधिक मासिक विद्युत-उत्पादन का बनाया नया रिकॉर्डहिमाचल कैबिनेट : बड़ा फेरबदल, बिक्रम ठाकुर को मिला उद्योग के साथ परिवहन मंत्रालयGood News : मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व परिवार वालों की रिपोर्ट नेगेटिवGood News : मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर व परिवार वालों की रिपोर्ट नेगेटिव ब्रेकिंग : कोरोना वायरस ने मुख्यमंत्री कार्यालय में दी दस्तक, उप-सचिव निकले कोरोना पॉजिटिवआगे-पीछे दुकानें आवंटित करने पर खोखा मार्केट यूनियन ख़फ़ा, हाईकोर्ट से लगाई शीघ्र न्याय प्रदान करने की गुहारबस में भी लगातार हैंड सैनिटाईजर का प्रयोग करें यात्री : डाक्टर विवेक शर्मा
-
धर्म संस्कृति

श्रावण मास में रूद्राभिषेक का महत्त्व

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | July 17, 2020 03:46 PM

शिमला,

रुद्रार्चन और रुद्राभिषेक से हमारे कुंडली से पातक कर्म एवं महापातक भी जलकर भस्म हो जाते हैं और साधक में शिवत्व का उदय होता है तथा भगवान शिव का शुभाशीर्वाद भक्त को प्राप्त होता है और उनके सभी मनोरथ पूर्ण होते हैं।
ऐसा कहा जाता है कि एकमात्र सदाशिव रुद्र के पूजन से सभी देवताओं की पूजा स्वत: हो जाती है।
रूद्रहृदयोपनिषद में शिव के बारे में कहा गया है कि

सर्वदेवात्मको रुद्र:
सर्वे देवा: शिवात्मका:

अर्थात् :- सभी देवताओं की आत्मा में रूद्र उपस्थित हैं और सभी देवता रूद्र की आत्मा हैं।
हमारे शास्त्रों में विविध कामनाओं की पूर्ति के लिए रुद्राभिषेक के पूजन के निमित्त अनेक द्रव्यों तथा पूजन सामग्री को बताया गया है।

विभिन्न कामनाओं की प्राप्ति हेतु रुद्राभिषेक विधान

• जल से अभिषेक करने पर वर्षा होती है।
• असाध्य रोगों एवं बाधा दोष एवं ऐसी बीमारी जो पकड़ में नही आ रही हो को शांत करने के लिए कुशोदक से रुद्राभिषेक करें।
• भवन-वाहन की प्राप्ति लिए दही से रुद्राभिषेक करें।
• लक्ष्मी प्राप्ति के लिये गन्ने के रस से रुद्राभिषेक करें।
• धन-वृद्धि के लिए शहद एवं घी से अभिषेक करें।
• तीर्थ के जल से अभिषेक करने पर मोक्ष की प्राप्ति होती है।एवं बाधा शान्ति होती है।
• इत्र मिले जल से अभिषेक करने से बीमारी नष्ट होती है ।
• पुत्र प्राप्ति के लिए दुग्ध से और यदि संतान उत्पन्न होकर मृत पैदा हो तो गोदुग्ध से रुद्रा रुद्राभिषेक करें।
• रुद्राभिषेक से योग्य तथा विद्वान संतान की प्राप्ति होती है।
• ज्वर की शांति हेतु शीतल जल/गंगाजल से रुद्राभिषेक करें।
• सहस्रनाम-मंत्रों का उच्चारण करते हुए घृत की धारा से रुद्राभिषेक करने पर वंश का विस्तार होता है।
• प्रमेह रोग की शांति भी दुग्धाभिषेक से हो जातीहै।
• शक्कर मिले दूध से अभिषेक करने पर जडबुद्धि वाला भी विद्वान हो जाता है।
• सरसों के तेल से अभिषेक करने पर शत्रु पराजित होता है। एवं उसका मारण होता है।
• शहद के द्वारा अभिषेक करने पर यक्ष्मा (तपेदिक) दूर हो जाती है। लक्ष्मी प्रप्ति होती है।
• पातकों को नष्ट करने की कामना होने पर भी शहद से रुद्राभिषेक करें।
• गो दुग्ध से तथा शुद्ध घी द्वारा अभिषेक करने से आरोग्यता प्राप्त होती है।
• पुत्र की कामनावाले व्यक्ति शक्कर मिश्रित जल से अभिषेक करें।

Have something to say? Post your comment
और धर्म संस्कृति खबरें