Friday, July 01, 2022
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
राघव पब्लिक स्कूल घैणी और बल्देंया में दसवीं कक्षा का परीक्षा परिणाम शत् प्रतिशत 10th Result : मंडी की प्रिंयका-दिवांगी टॉपर www.hpbose.org हिमालयन अपडेट समाचार- पत्र एवं साहित्य सृजन मंच की 5वीं वर्षगांठ पर 19 जून 2022 को शिमला में 'हिमालयन साहित्य महोत्सव व कवि सम्मेलन' का भव्य आयोजन संपन्न*बिना मीटर लगे दुकानों का उद्घाटन कर गए शहरी विकास मंत्री; संजीव कुठियालाराहत की खबर: कोरोना के मामले घटे, आज 6594 नए मामले, एक्टिव केस 50 हजार पारप्रदेश कांग्रेस कमेटी ने केंद्र की भाजपा सरकार के जांच एजेंसियों के दुरुपयोग के विरोध में केंद्रीय प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष धरना प्रदर्शन जो जमानत पर हैं वे कांग्रेस कार्यकर्ताओं से दिल्ली को घेरने को कह रहे हैं : कश्यप400 फीट गहरी खाई में गिरी कार, युवक की मौत
-
टूरिज्म

शशांक रोहिला एवं पंकज बिष्ट ने 15 दिन साइकिल यात्रा से किये चार धाम के दर्शन

विनोद निराश | August 19, 2020 11:40 AM

 देहरादून,

कोरोना काल में हो रही बौरियत को दूर करने की लिए अचानक दिल-दिमाग में एक ख्याल आया की क्यूँ न समय का सदुपयोग किया जाए। इस परिपेक्ष मे शशांक रोहिला और उसके मित्र ने मिलकर एक खाश यात्रा का ड्रीम एजेंडा तैयार किया। इस ड्रीम एजेंडा में उन्होंने चारधाम यात्रा को साइकिल द्वारा पूरा करने का संकल्प लिया। इस विलक्षण चारधाम यात्रा को उन्होंने साइकिल द्वारा 15 दिन में अंजाम दिया। यात्रा की शुरुआत करने से पूर्व दोनों ने उत्तराखंड शासन से यात्रा पास बनवाया ताकि कोरोना काल होने के कारण हमारी यात्रा में किसी भी प्रकार का व्यवधान उत्पन्न न हो। सफर की शुरुआत करने से पूर्व शशांक रोहिला और उसके मित्र पंकज बिष्ट ने यात्रा की शुरुआत देहरादून के गांधी पार्क से ये कहा कि ये हमारा गोल्डन ड्रीम है क्यूंकि उत्तराखंड राज्य में शायद आज तक किसी ने भी साइकिल द्वारा चारधाम यात्रा अभी तक नहीं की। शशांक रोहिला एवं पंकज बिष्ट दोनों ही देहरादून के निवासी है। शशांक रोहिला के पिता राकेश कुमार उत्तराखंड रोडवेज में सहायक महाप्रबंधक पद पर रुद्रपुर डिपो में तैनात है तथा माँ सरकारी स्कूल में अद्यापिका के पद पर तैनात है। पंकज बिष्ट के पिता एवं माता यात्रा पर जाने से पूर्व दोनों ने अपने अनुभव साझा करते हुए कहा कि इस साइकिल यात्रा को करने के हमारे दो उद्देश्य है । एक तो हम चाहते थे की साइकिल को यातायात के साधन के रूप में प्रयोग करें। क्यूंकि आज कल लोग साइकिल को व्यायाम का माध्यम समझते है, लेकिन हम चाहते है कि साइकिल यातायात के साधन के रूप में विकसित हो, ताकि सेहत और पर्यावरण दोनों ही सुरक्षित रह सके।

चारधाम साइकिल यात्रा से लौटने के उपरान्त इस यात्रा के सन्दर्भ में उन्होंने अपने खट्टे - मीठे अनुभवों को साझा करते हुए कहा कि चारधाम साइकिल यात्रा हालांकि हनारे लिए चुनौती भरा था, लेकिन हमने इसे एक खेल भावना समझ कर खेल की भाँति ये चुनौती स्वीकार करते हुए इस खेल को खेला और विजयी भी हुए।
इस चार धाम यात्रा की शुरुआत हमने देहरादून (गाँधी पार्क) से करते हुए मसूरी, कप्टीफाल, नैनबाग़, डामटा से होते हुए नौगांव पहुंचे। ये सफर लगभग 110 किलोमीटर था। उस रात नौगांव में ही हमने एक खाली प्लाट में अपना टेंट लगाकर रात्रि भोज कर विश्राम किया। पहले दिन हमें कई परेशानिया हुई जैसे की साइकिल कैरियर पर हमसे बैग ठीक प्रकार से नहीं लग रहा था। चढ़ाई बहुत अधिक थी। साइकिल चलाने में थोड़ा परेशानी हो रही थी। साथ ही हमने कविड- 19 को ध्यान में रखते हुए अपने टेंट, सीलीपिंग बेग, मैट, कपडे आदि सभी सलीके से रखे हुए थे ताकि कही भी आबादी वाले क्षेत्र में न रूककर गाँव से बाहर ही हम रुके। बैग अधिक भारी भी था। कुल मिलकर पहले दिन थोड़ी परेशानी हुई क्यूंकि सफर चुनौती भरा था, धीरे - धीरे बाद सब नार्मल होता चला गया।
दूसरे दिन नौगाँव से फूलचट्टी के लिए संकरे रास्ते से होते हुए जो यमुनोत्री धाम से लगभग ३ किलोमीटर पहले था वहाँ पर रात्रि विश्राम किया।
तीसरे दिन पूलचट्टी से जानकी चट्टी पहुँच कर अपनी साइकिल वहीँ छोड़ पैदल मार्ग से यमुनोत्री मंदिर पहुंचकर, दर्शनोपरांत वापस बड़कोट पहुँच गए।
चौथे दिन उत्तरकाशी पहुंच रात्रि विश्राम किया।
पांचवे दिन उत्तरकाशी से गंगोत्री धाम के लिए यात्रा की शुरुआत करते हुए, शाम तक भैरव घाटी पहुंचकर टैंट लगया जो गंगोत्री से 10 किलोमीटर पहले था।
छठे दिन भैरव घाटी से गंगोत्री धाम मंदिर पहुँच कर दर्शन करने के उपरान्त शाम तक उत्तरकाशी पहुँच कर रात्रि विश्राम किया।
सांतवे दिन उत्तरकाशी से केदारनाथ धाम के लिए चौरंगी खाल, लंबगांव से होते हुए जाखन्याली में विश्राम किया।
आंठवे दिन जखन्याली से फाटा की और प्रस्थान किया जो गौरी कुंड से 20 किलोमीटर पहले था फाटा में रात्रि विश्राम किया।
नोवे दिन फाटा से गौरी कुंड पहुंचकर केदारनाथ धाम के लिए 16 किलोमीटर पैदल यात्रा की। केदारनाथ मंदिर में दर्शनोपरांत वापस आकर गौरी कुंड में रात्रि विश्राम किया।
दसवे दिन गौरी कुंड से ऊखीमठ - चौपता की ओर रूख किया। ऊखीमठ से निकल कर 6 किलोमीटर आगे जाकर टैंट लगाया।
ग्याहरवे दिल गरूड़ गंगा पहुंच कर रात्रि विश्राम किया, जो जोशीमठ से 22 किलोमीटर आगे है।
बारहवें दिन गरूड़ गंगा से बदरीनाथ धाम के लिए रवना हुए मगर जैसे ही हम लम्बागढ़ चैक पोस्ट पहुंचे तो वहां पर तैनात एसडीआरएफ़ (राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल ) ने हमें देरी होने के कारण सुझाव दिया कि आप लोग कल प्रातः यहाँ से बदरीनाथ धाम के लिए प्रस्थान करे न की अब। .
तेरहवे दिन लंबगढ़ से बदरीनाथ धाम 11 बजे तक पहुँच गए। वहां बदरीनाथ मंदिर में दर्शन कर उसी दिन जोशीमठ पहुँच गये।
जोशीमठ के बाद अगले दिन यात्रा करते हुए 2 दिन में देहरादून पहुँच गये। देहरादून पहुँचने पर इनके मित्रो एवं निकट सम्बन्धियों ने फूल मालाओं से उनका अभिनन्दन किया। "यात्रा के अनुभव साझा करते हुए शशांक रोहिला एवं पंकज बिष्ट ने बताया क़ि ये एक अत्यंत साहसिक एवं रोमांचक साइकिल यात्रा थी जो सदैव हमरे लिए अविस्मरणीय रहेगी"

Have something to say? Post your comment
 
और टूरिज्म खबरें
पांगी घाटी में पंगवाल स्नो फेस्टिवल का हुआ आगाज https://youtu.be/74lqg12JhQ0 कोरोना महामारी के चलते सरकारी व निजी उपक्रम झेल रहे घाटे की मार सूरजकुंड अंतर्राष्ट्रीय शिल्प मेला के लिए हिमाचल प्रदेश द्वारा 'Theme State' के प्रबंधों की समीक्षा रघुपुर घाटी को जलोड़ी दर्रे से सीधा सड़क मार्ग से जोड़ने की मांग श्वेत वर्ण में लिपटी आनी जलोडी दर्रे पर 3 फुट ताजा हिमपात प्रदेश सरकार पर्यटन उद्योग को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध आनी में रिमझिम बरसे बदरा;जलोडी दर्रे पर थमी गाड़ियों की रफ्तार मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने हिमाचल एप्पल फेस्टिवल का शुभारम्भ किया ऐतिहासिक पर्यटन स्थल तत्तापानी में सुविधाओं का टोटा शैक्षणिक उपलब्धियों के साथ-साथ उद्यमिता विकसित करें छात्र-छात्राएः मंडलायुक्त
 
 
 
Total Visitor : 1,27,96689
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy