Tuesday, April 07, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
हिमाचल प्रदेश के लिए बुरी खबर, कोरोना के 4 नए मामलेब्रेकिंग : पुलिस की बड़ी कार्यवाही , ठेका सील नेरवा के जलारा से 4 जमाती गिरफ्तारहिमाचल में एक दिन में कोरोना वायरस के सात नए मामले, 10 पहुंची मरीजों की संख्या(ब्रेकिंग ) हमीरपुर : दोस्तों संग खड्ड में नहाने गया प्रवासी युवक डूबा , मौत , मौक़े पर पहुँची पुलिसमोदी जी , केवल थाली बजाने और मोमबत्ती जलाने से महामारी का सामना नहीं हो सकता : प्रेम कौशल ब्रेकिंग : लॉक डाउन ( 14 अप्रैल ) तक निजी स्कूल नहीं कर सकते मासिक फ़ीस व एडमिसन फ़ीस जमा करने की डिमांड , होगी सख़्त कार्यवाही, शिक्षा विभाग ने जारी की नोटिफ़िकेशनलाकडाऊन का उल्लंघन, नशा कारोबारी सक्रिय
-
राज्य

शैमरॉक रोजेंस स्कूल ने मनाया विश्व पृथ्वी दिवस

April 20, 2018 05:42 PM
शैमरॉक रोजेंस स्कूल ने मनाया विश्व पृथ्वी दिवस    
 शिमला। राजधानी शिमला के कच्चीघाटी के समीप पत्रकार विहार शैमरॉक रोजेंस स्कूल ने दो दिन पूर्व ही विश्व पृथ्वी दिवस मनाया।  स्कूल की प्रधानाचार्य प्रीति चुट्टानी ने बताया कि स्कूल में दो दिन अवकाश होने के चलते आज  स्कूल प्रबंधक ने शुक्रवार को ही यह दिवस मनाया ताकि बच्चों को विश्व पृथ्वी दिवस का महत्व समझया जा सके। उन्होंने बताया कि  पहली बार, इसे 1970 में मनाया गया और उसके बाद से लगभग 192 देशों के द्वारा वैश्विक आधार पर सालाना इस दिन को मनाने की शुरुआत हुई।
विश्व पृथ्वी दिवस को एक वार्षिक कार्यक्रम के रुप में मनाने की शुरुआत इसके मुद्दे को सुलझाने के द्वारा पर्यावरणीय सुरक्षा का बेहतर ध्यान देने के लिये, राष्ट्रीय समर्थन प्राप्त करने के लिये के लिये की गयी। 1969 में, सैन फ्रांसिस्को के जॉन मैककोनल नाम के एक शांति कार्यकर्ता जो सक्रियता से इस कार्यक्रम को शुरु करवाने में शामिल थे, ने एक साथ मिलकर पर्यावरणीय सुरक्षा के लिये इस दिन को मनाने का प्रस्ताव रखा। 21 मार्च 1970 को वसंत विषुव में मनाने के लिये इस कार्यक्रम को जॉन मैककोनेल ने चुना था जबकि 22 अप्रैल 1970 को इस कार्यक्रम को मनाने के लिये अमेरिका के विंसकॉन्सिन सीनेटर गेलॉर्ड नेल्सन ने चुना था।
 बेहतर भविष्य के लिये अपने पर्यावरणीय मसले को सुलझाने के लिये इन्होंने लोगों को इस कार्यक्रम में एक-साथ होकर जुडऩे के लिये संपर्क किया था। विश्व पृथ्वी दिवस के पहले समारोह के दौरान लाखों लोगों ने इसमें अपनी इच्छा जताई और इस कार्यक्रम का लक्ष्य समझने के लिये भाग लिया। विश्व पृथ्वी दिवस के लिये कोई एक तारीख निर्धारित करने के बजाय, इसको दोनों दिन मनाने की शुरुआत हुयी। आमतौर पर, पूरे विश्वभर में जरुरी क्षेत्रों में नये पौधे को लगाने के आम कार्य के साथ पृथ्वी दिवस कार्यक्रम को मनाने की शुरुआत हुयी।
22 अप्रैल को पृथ्वी दिवस उत्सव की तारीख की स्थापना करने के अच्छे कार्य में भागीदारी के लिये अमेरिका के विस्कॉन्सिन सीनेटर गेलॉर्ड नेल्सन को स्वतंत्रता पुरस्कार के राष्ट्रपति मेडल से सम्मानित किया गया। बाद में लगभग 141 राष्ट्रों के बीच वर्ष 1990 में डेनिस हेज़ (वास्तविक राष्ट्रीय संयोजक) के द्वारा वैश्विक तौर पर पृथ्वी दिवस के रुप में 22 अप्रैल को केन्द्रित किया था। बहुत सारे पर्यावरणी मुद्दे पर ध्यान केन्द्रित करने के लिये पृथ्वी सप्ताह के नाम से पूरे सप्ताह भर के लिये ज्यादातर पृथ्वी दिवस समुदाय ने इसे मनाया। इस तरीके से 22 अप्रैल 1970 को आधुनिक पर्यावरणीय आंदोलन के वर्षगाँठ के रुप में चिन्हित किया गया।
इसी कड़ी में शैमरॉक रोजेंस स्कूल ने स्कूल के आस-पास पेड़ पौधे लगाए। साथ ही सांस्कृतिक कार्यक्रम समारोह ाि आयोजन किया गया।
Have something to say? Post your comment
 
और राज्य खबरें
मंडी में डिपूओं के जरिए लोगों को देंगे 1 लाख क्विंटल आटा-चावल : ऋग्वेद ठाकुर मुख्यमंत्री राहत कोष में चूड़ेश्वर सेवा समिति ने 5 लाख 51 हजार रूपये दिए 5 तारीख को रात 9 बजे बिजली बंद कर करे ये काम 1250 गरीब जरूरतमंद लोगों को बांटी गई राशन की मुफ्त किटें  दिल्ली में फंसे हिमाचलियों के लिए शेल्टर होम शुरू ब्रेकिंग : 14 कश्मीरी मज़दूर बाड़ी- फ़रनोल के पास फँसे , राशन ख़त्म , ठेकेदार नहीं कर रहा हिसाब किताब , मज़दूर घर लौटने को अड़े कोई एक भी प्रवासी मजदूर भूखा-प्यासा नहीं रहना चाहिए: गोविंद ठाकुर मंडी जिला में कर्फ्यू लागू हिमाचल प्रदेश में कफ्र्यू लागू करने का निर्णय कोरोना वायरस के संबंध ग्रामीणों को करें जागरूक-केसी चमन