Monday, September 28, 2020
Follow us on
-
पोल खोल

परेशानी : चारियाँ दी धार पंचायत में एक वार्ड का सफर 26 किमी ,पंचायत के विभाजन की माँग फिर से हुई नज़रअंदाज़, दुर्गम पंचायत के लोगों का आसान नहीं सफ़र

रजनीश शर्मा ( हमीरपुर ) 9882751006 | August 25, 2020 03:18 PM
पंचायत घर चारियाँ दी धार तथा (इनबाक्स ) प्रधान विजयपाल

 हमीरपुर / रजनीश शर्मा

बेशक प्रदेश में नई पंचायतों के गठन की शुरुआत हो चुकी है तथा हमीरपुर जिला में 9 नई पंचायतों का गठन प्रस्तावित है लेकिन चारियाँ दी धार पंचायत से फिर से बेइंसाफ़ी हुई है। यहाँ वर्षों से पंचायत के विभाजन की माँग को एक बार फिर नज़रअंदाज़ कर दिया गया है। सरकार की इस बेरूख़ी से पंचायत प्रधान विजयपाल सहित चारियाँ दी धार के लोग निराश हैं।
टौणी देवी विकासखंड के तहत पंचायत चारियां दी धार में एक वार्ड से दूसरे वार्ड तक सड़क का सफर 26 किलोमीटर है। लोग खड्डों व नालों के बीच से इसलिए पैदल नहीं चलना चाहते क्योंकि तेंदुए, सांप व अजगर जान के दुश्मन बने बैठे हैं। इसीलिए पंचायत ने ग्राम सभा में सर्वसम्मति से प्रस्ताव पास कर चारियां दी धार पंचायत को विभाजित कर अलग से पुरली पंचायत बनाने की मांग उठाईं थी जिसे पूरा न होने पर जनता में आक्रोश है।

चार धारों पर बसी है पंचायत

गौर रहे कि भराईयां दी धार, चारियां दी धार, लंबरा दी धार, रांगडेयां दी धार व पुरली वार्डो में बसी यह पंचायत दुर्गम व विकट भौगोलिक स्थिति होने के कारण सड़क व पंचायतघर से वंचित है। पंचायत की आबादी करीब 1900 है। जिनमें से 1384 मतदाता हैं। दुर्गम पंचायत के ग्रामीण आज भी मुख्य सड़क से 10 किलोमीटर से ज्यादा की चढ़ाई उबड़-खाबड़ रास्तों से चढ़कर गंतव्य तक पहुंचते हैं। लोग रोजमर्रा की जरूरतों के सामान को घर तक पहुंचाने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं।

कठिन भौगोलिक स्थिति का सामना कर रहे लोग

सबसे ज्यादा मुश्किलों का सामना किसी व्यक्ति के बीमार होने पर करना पड़ता है। ऐसी स्थिति में स्थानीय लोगों को उस व्यक्ति को पीठ या फिर चारपाई पर उठाकर मुख्य सड़क तक लाना पड़ता है। पंचायत के बीच एक सड़क बनाने का काम लंबरा दी धार से शुरू हुआ। लेकिन अदालती कार्रवाई में उलझकर रह गया। सड़क सुविधा न होने व दुर्गम रास्ते होने के कारण पंचायत में स्लेटपोश मकान अधिक हैं। शिक्षा के नाम पर पुरली व चारियां दी धार में दो मिडल स्कूल हैं। स्वास्थ्य सुविधा के लिए एक डिस्पेंसरी है। लेकिन एक वार्ड से दूसरे वार्ड तक पहुंचने के लिए लोग खतरनाक रास्ते पार कर डिस्पेंसरी तक पहुंचते हैं। पंचायत के अधिकतर युवा सेना में भर्ती हैं। कुछ युवा निजी क्षेत्र में रोजगार कर रहे हैं। तेंदुए के डर से लोग भेड़-बकरी नहीं पाल सकते हैं।

पुरली को अलग पंचायत बनाया जाए : विजयपाल

इस बारे में पंचायत प्रधान विजय पाल ने बताया कि ग्राम सभा के लिए कोरम पूरा करना मुश्किल हो जाता है क्योंकि दुर्गम पगडंडियों से लोग पंचायतघर तक नहीं पहुंच पाते। चारियाँ दी धार से पुरली वार्ड तक सड़क का सफर 26 किमी है। ऐसे में पुरली वार्ड को अलग पंचायत बनाने का प्रस्ताव पास हुआ है। सरकार को दुर्गम पंचायत के लोगों की इस मांग को प्राथमिकता के आधार पर मान लेना चाहिए।

 

Have something to say? Post your comment
और पोल खोल खबरें
अन लॉक-4 : करोना संक्रमितों की बढ़ती संख्या है एक चेतावनी ,जरूरत है और सजगता तथा सावधानी हमीरपुर जिला में 107 लोग लापता, ढूँढने के लिए एसपी ने किया स्पेशल टास्क फोर्स का गठन ब्रेकिंग : कम्पीटेंट ऑटोमोबाइल कंपनी शोरूम टिक्कर ( हमीरपुर ) में 76.29 लाख रुपयों का गबन, मामला दर्ज, छानबीन शुरू हमीरपुर : जिला प्रशासन को सौंपा ज्ञापन , शीघ्र शुरू हो खोखों के आगे फुटपाथ का काम प्रदेश में सफऱ महंगा करने के बजाय तेल सस्ता करे जय राम सरकार; राजीव राणा आगे-पीछे दुकानें आवंटित करने पर खोखा मार्केट यूनियन ख़फ़ा, हाईकोर्ट से लगाई शीघ्र न्याय प्रदान करने की गुहार बस में भी लगातार हैंड सैनिटाईजर का प्रयोग करें यात्री : डाक्टर विवेक शर्मा हमीरपुर : सहकारी सभा उटपुर में महिला कर्मचारी से छेड़छाड़ का मामला गरमाया, शिकायतकर्ता ने मजिस्ट्रेट के समक्ष दर्ज करवाए ब्यान, आरोपी की गिरफ़्तारी को लेकर बुधवार को होगा धरना प्रदर्शन ब्रेकिंग ) हमीरपुर : मानसिक परेशानी से घर से ग़ायब युवक की सातवें दिन जंगलबेरी में मिली डेड बॉडी, पोल खोल : स्वास्थ्य विभाग के बाद अब जल शक्ति विभाग में टैंडर घोटाला, मचा हड़कंप