Monday, September 28, 2020
Follow us on
-
कविता

हिंदी दिवस पर हिंदी के प्रति प्रेम को दर्शाती रचनाएं

प्रीति शर्मा असीम | September 14, 2020 12:09 AM

 1.भारत की है बोली हिंदी
हम सब की हमजोली हिंदी,
हिंदी की है बात निराली
यह है हर भाषा से प्यारी,
पुरखों की है ये सौगात
सब करते इसकी ही बात,
अनपढ़ हो या शिक्षक
इससे है हर कोई परिचित
हम सब की है
यह अभिलाषा
हिंदी हो हम सब की भाषा
सदा करें इसका सम्मान
इससे है भारत का मान

#पूजा
नौवीं कक्षा की छात्रा
राजकीय उच्च विद्यालय ठाकुरद्वारा कांगड़ा हिमाचल प्रदेश

 

2. हिन्दी से है हिंदूस्तान ,
हिन्दी से है हमारी शान ,
जब हिंदी का होता अपमान,
तो घटता है भारत का मान
पूरे विश्व में ज्ञान फ़ेलाएंगे,
हिन्दी का महत्व समझाएंगे,
देश की यह आशा है,
हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है,
इसे समझना सब की अभिलाषा है,
हिंदी भाषा का करेंगे सम्मान,
इससे बढ़ेगा देश का नाम,
हिंदी दिवस मनाएंगे ,
हिंदी भाषा ही अपनाएंगे,
हिंदी दिवस एक पर्व है,
हमें अपनी राष्ट्रीय भाषा पर गर्व है


आकृति
कक्षा = आठवीं
राजकीय उच्च विद्यालय
ठाकुरद्वारा

 

3. हिंदी हमारी शान है,
देश का अभिमान है।
देश की शान है हिंदी,
हर भारतवासी की पहचान है हिंदी।
हर जन का यह नारा है,
हिंदी भारत देश हमारा है।।
जिसने काल को जीत लिया है,
ऐसी कालजयी भाषा है हिंदी।
सरल शब्दों में कहा जाए तो
जीवन की परिभाषा है हिंदी।

राशि
आठवीं कक्षा की छात्रा
राजकीय उच्च विद्यालय ठाकुरद्वारा कांगड़ा हिमाचल प्रदेश


4. हमारी प्यारी हिंदी है,
भारत माता की बिंदी है।
हिंदी हिंदुस्तान की भाषा ,
यही दिखाना दुनिया की आशा।
हम हिंदी भाषा का
सम्मान बढ़ाते हैं ,
हर वर्ष
हम हिंदी दिवस मनाते हैं।
हिंदी भारत की एकता है,
एहि हर व्यक्ति को देखना है|
इसमें हमारे हमारे प्राण है,
यही जन-जन की शान है|

खुशबू
दसवीं कक्षा की छात्रा
राजकीय उच्च विद्यालय ठाकुरद्वारा
कांगड़ा,हिमाचल प्रदेश।

5: जन गण की भाषा है हिंदी।
भारत की आशा है हिंदी
जिसने पूरे देश को जोड़ रखा है
, वो मजबूत धागा है हिंदी
क्षमता में कहा जाये तो
जीवन की परिभाषा है हिंद
स्कूल में बोलते है हम एक भाषा
हिंदी है हमारी राज्यभाषा
हिन्दुस्तान की है शान हिंदी
और हिंदुस्तान की, पहचान, हिंदी
अगर हिंदी है तो हम
बिना हिन्दी के हम कुछ नहीं
जन गण की है एक भाषा
हिंदी है हमारी राष्ट्रीय भाषा।

गौरव
नौवीं कक्षा का छात्र
राजकीय उच्च विद्यालय
कांगड़ा हिमाचल

 

6.हिंदी थी वह भाषा,
जो दिलों में उमंग भरा करती थी।
हिंदी थी वह भाषा ,
जो लोगों के दिलों में बसा करती थी।
हिंदी तो थी
जन-जन की भाषा और क्रांति की परिभाषा ।
हिंदी तो थी संचार का साधन ,
यही तो थी लोगों की अभिलाषा
आओ मिलकर सब प्रण ले ,
हम करेंगे हिंदी का सम्मान।
पूरी करेंगे हिंदी की अभिलाषा ,
देंगे उसे दिलों में विशेष स्थान ।
साक्षी
कक्षा छठी
राजकीय उच्च विद्यालय ठाकुरद्वारा।

 

7. हिंदुस्तान की शान है हिंदी,
हर हिंदुस्तानी की पहचान है हिंदी।
एकता की जान है ,
देश की शान है।
सिर्फ 14 सितंबर को ही करते हैं ,
हम अपनी मातृभाषा का सम्मान।
हर पल हर दिन करते हैं ,
हम हिंदी बोलने वालों का अपमान।
जन-जन की आशा है ,
हिंदी भारत की भाषा है हिंदी।
हिंदी का सम्मान करें ,
दुनिया में नाम करें।
हिंदी भाषा को आगे बढ़ाना है ,
हम को हिंदी दिवस मनाना है।
हम सब की यही अभिलाषा ,
हिंदी बने हमारी राष्ट्रीय भाषा।
संजना
कक्षा दसवीं
राजकीय उच्च विद्यालय ठाकुरद्वारा।


8: हिंदी दिवस
हिंदी है हिंदुओं की भाषा,
इससे जुड़ी है हर एक आशा|
हिंदी है हमारी शान ,
यह है हमारी पहचान |
14 सितंबर को
हम हिंदी दिवस मनाते हैं ,
इसकी शान को बढ़ाते हैं।
हिंदी हमारी मातृभाषा है,
यह हम लोगों की आशा है।
इसने हिंदुओं की शान बढ़ाई ,
इसने देश में रोनक लाई।

कशिश कौंडल
आठवीं कक्षा की छात्रा
राजकीय उच्च विद्यालय ठाकुरद्वारा कांगड़ा हिमाचल


9. मोहब्बत की जो भाषा है
वह हमें हिंदी सिखाती है,
हिंदी भाषा का जो न्याय है
उसे पूरा देश जानता है।
हिंदी जन-जन की
जान पहचान की भाषा है,
आज वह दिन आया है
14 दिसंबर को
हिंदी दिवस मनाना है,
हिंदी भाषा का मान
हमें बढ़ाना है।

सुहानी
आठवीं कक्षा की छात्रा
राजकीय उच्च विद्यालय ठाकुरद्वारा कांगड़ा हिमाचल प्रदेश

Have something to say? Post your comment