Friday, March 05, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/LElaOQ_7SFs मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने लगाई कारोना वैक्सीन https://youtu.be/vFVt3UOrtuQ करुणामूलक भर्ती को जल्द भरने की मांग को लेकर संघ का विधानसभा के बाहर धरना https://youtu.be/YY7cHnTDnf4 यदि मैं मुख्यमंत्री होता तो एक घंटे में सुलझ जाता विधानसभा का मसला; वीरभद्र सिंह https://youtu.be/Wk2WZmMWU2M पॉइन्ट ऑफ आर्डर पर चर्चा न मिलने पर कांग्रेस का सदन से वाकआउटhttps://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआ
-
कविता

*माँ सरस्वती का अर्चन हो*

प्रीति शर्मा असीम | September 20, 2020 08:07 PM

*माँ सरस्वती का अर्चन हो*

बहे भाव रचनामृत बनकर।
फैले सारे जग में बहकर।।

स्वच्छ धवल पावन रचना हो।
उत्तम जग की संरचना हो।।

पाप नष्ट हो पुण्योदय हो।
आत्म भाव का सूर्योदय हो।।

संकट मोचन बन माँ आयें।
मीठे बोल-वचन बरसायें।।

कटु वचनों का अंत समय हो।
सारी दुनिया अब निर्भय हो।।

बने सकल जग पर-उपकारी।
मन बन जाये शिष्टाचारी।।

सकल विश्व हो गुण संपन्ना।
एक दूसरे के आसन्ना।।

प्रिति परस्पर का अलाय हो।
सारा जग अब देवालय हो।।

जग में प्रेम सुधा की वर्षा।
सुंदर भाव जनित हो हर्षा।।

हों प्रसन्न अति मातृ शारदे।
माँ सरस्वती सबको वर दें।।

उर में थिरकन बनकर आयें।
नृत्य गीत साहित्य रचायें।।

माँ सरस्वती का अर्चन हो।
हंसवाहिनी का वंदन हो।।

रचनाकार बनायें माता।
बने ग्रन्थ पावन विख्याता।।

उठ जायें खुशियों की लहरें।
कष्ट शोक दु:ख सदा माँ हरें।।

रचनाकार:डॉ. रामबली मिश्र हरिहरपुरी
9838453801

 
Have something to say? Post your comment