Tuesday, October 20, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
-
हेल्थ और लाइफस्टाइल

मानसिक स्वास्थ्य दिवस पर सिविल जज ने लगाया जागरुकता शिविर

बालम गोगटा, जिला प्रमुख ब्यूरो, हिमालयन अपडेट | October 10, 2020 05:03 PM

चौपाल,

उपमंडल चौपाल में विश्व मानसिक स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर सिविल जज चौपाल विवेक कायस्थ ने डिजिटल मोड/वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से उपस्थित जनसमूह को संबोधित किया, उन्होंने कहा कि प्रत्येक वर्ष दस अक्तूबर को मानसिक स्वास्थ्य के बारे में जागरूकता बढ़ाने और मानसिक उपचार के बारे में जानकारी देने के लिए यह दिन मनाया जाता है। उन्होंने कहा कि जागरूकता के अभाव में मानसिक स्वास्थ्य संबंधी मामलों में लोग बात करने से हिचकते हैं और चिकित्सा मदद लेने में संकोच करते हैं।
उन्होंने कहा कि पिछले कुछ दशकों से मानसिक स्वास्थ्य समाज के लिए एक प्रमुख मुद्दा बन गया है। अभूतपूर्व वैज्ञानिक और तकनीकी विकास के कारण लोग अपने पूर्वजों की तुलना में अधिक आरामदायक और भोगविलासपूर्ण जीवन जी रहे हैं, लेकिन मानसिक शांति और संतुष्टि के बारे में भी ऐसा नहीं कहा जा सकता। दुनिया बंद आँखों के साथ शक्ति और संपत्ति के पीछे रात दिन अबाध गति से भाग रही है। परिणामस्वरूप, हम दुष्चिंता, कुंठा, तनाव, और अवसाद जैसे मानसिक विकारों के साथ जीने को विवश हैं। सामान्यतः मानसिक बीमारी से मुक्त ब्यक्ति को मानसिक रूप से स्वस्थ समझा जाता है किन्तु मानसिक विशेषज्ञों के अनुसार ‘स्वस्थ’ होना केवल बीमारी की अनुपस्थिति मात्र ही नहीं है बल्कि उससे कुछ अधिक है।
मानसिक रूप से स्वस्थ्य ब्यक्ति उत्तम शारीरिक स्वास्थ्य के साथ ही अपनी प्रेरणा, इच्छा, भाव, आकांक्षा आदि का भी पूर्ण ज्ञान रखता है। वह तटस्थ रूप से आत्म–मूल्यांकन कर सकता है । उसमें अपने तथा अपनों की सुरक्षा का भाव भी होता है । जहां उत्कृष्ट मानसिक स्वास्थ्य जीवन में समायोजन और संतुष्टि प्रदान करता है, वहीं मानसिक अस्वस्थता व्यक्ति को मानसिक और भावनात्मक रूप से कमजोर और जीवन को अस्त–ब्यस्त कर देती हैं। एक मानसिक बीमारी व्यक्ति के सोचने समझने और प्रतिक्रिया करने के तरीके को प्रभावित करती है । विभिन्न प्रकार की मानसिक बीमारियों को सामान्य मानसिक बीमारी जैसे अवसाद, चिंता, भय, भोजन सम्बन्धित विकार, निद्रा विकृति, तनाव और गंभीर मानसिक बीमारी जैसे सिजोफ्रेनिया, डिल्यूजनल डिस्आर्डर में विभाजित किया जा सकता है । मानसिक बीमारी के लक्षण उसके प्रकार और तीव्रता के अनुरूप भिन्न–भिन्न हो सकते हैं । उन्होंने लोगों को मानसिक रोगी के लिए कानून में प्रावधान की विस्तृत जानकारी दी तथा उपलब्ध मानसिक स्वास्थ्य सेवाओं का उपयोग करने की अपील की। इस अवसर पर पंजीकृत बार संघ के अध्यक्ष धिरेंदर चौहान, पैरालीगल वोलंटियर विपिन कुमार, समाज सेवी देविंदर औकटा, विनोद पनाईक, सत्या मधाईक, सुरेंदर शर्मा, चंद्रेश्वर शर्मा, हेल्थ वर्कर सुरेश लता, आशा वर्कर सोनू, प्रेम शर्मा, दीप चंद गुप्ता भी उपस्थित रहे,

Have something to say? Post your comment
और हेल्थ और लाइफस्टाइल खबरें
हिमाचल विधान सभा अध्यक्ष कोरोना पॉजिटिव प्रदेश में कोरोना संक्रमण में तेजी, मुख्यमंत्री के बाद तकनीकी शिक्षा मंत्री रामलाल मार्कण्डेय भी संक्रमण की चपेट मे हिमाचल प्रदेश में कोरोना का कहर, मुख्यमंत्री की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव प्रदेश में लगातार बढ़ रहा कोरोना का कहर,233 पहुंचा मरने वालों का आंकड़ा कोरोना संकट में अपनी बेहतरीन सेवाएं दे रहे हैं डॉ० ललित  आओ करवाये “गांधी जयंती” पर शिमला दर्शन ग्राम पंचायत जगजीत नगर, भागुड़ी, गनोल तथा कोटबेजा में 404 लोगों की एनीमियां जांच की आनी कस्बे में दो और कोरोना पॉजिटिव, 5 हुआ कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा ग्राम पंचायत ढकरियाणा में की 43 रोगियों की एनीमिया जांच ग्राम पंचायत गांगुड़ी, पट्टानाली, घड़सी तथा बनासर में की 317 रोगियों की एनीमिया जांच