Wednesday, February 24, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
नगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआहमीरपुर जिला में हर्षोल्लास से मनाया गया 72वां गणतंत्र दिवस समारोह, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने की जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता, राष्ट्रध्वज फहराकर मार्चपास्ट की सलामी लीसमीक्षा : वार्ड पंच से लेकर जिला परिषद तक पटक डाले जनता ने , हेकड़ी , घमंड व बड़े नेताओं की धौंस हुईं जमींदोज पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदान
-
कविता

मनोदशा कुछ ऐसी है .?मंजू भारद्वाज

मंजू भारद्वाज | October 21, 2020 07:15 PM
मंजू भारद्वाज

मनोदशा

मनोदशा कुछ ऐसी है कैसे ,पल में विवरण कर दूं,
चालीस वर्षों की पट कथा का कैसे ,पल में चित्रण कर दूँ।

विरह वेदना के पाश में बंधा , कुंठित मेरा मन है ,
विरहाग्नि में झुलस रहा , मेरा कोमल तन है ।

यौवन के चढ़ते सूरज पर , मेरा सिंदूर दान हुआ,
यौवन के ढलते सूरज पर , सूना मेरा माँग हुआ।

ये कैसा चक्र है जीवन का ,ये कैसी लीला तेरी है,
हर साँसों पर कब्जा तेरा , एक अनबुझ पहेली है।

पल पल भ्रम में जीता मानव , भ्रम में ही मर जाता है,
वेद पुराणों में यह गति , काल चक्र कहलाता है।

न प्यार तुम्हारा है बन्दे , न बन्धो नफरत के पाश में,
इस बंधन से बंध कर इन्सा , जीता है किस आस में।

ये चंद पलों के मेला है फिर , मानव यहां अकेला है,
जन्म मृत्य ने धरा पर हमसे , आँख मिचौली खेला है।

शतरंज के विसात पर बैठा , खिलाड़ी एक अकेला है,
हमे माया में उलझा कर , उसने खेल अकेला खेला है।

 
Have something to say? Post your comment