Monday, March 01, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआहमीरपुर जिला में हर्षोल्लास से मनाया गया 72वां गणतंत्र दिवस समारोह, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने की जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता, राष्ट्रध्वज फहराकर मार्चपास्ट की सलामी लीसमीक्षा : वार्ड पंच से लेकर जिला परिषद तक पटक डाले जनता ने , हेकड़ी , घमंड व बड़े नेताओं की धौंस हुईं जमींदोज पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदान
-
लेख

जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं ?:राम भगत नेगी

राम भगत नेगी | October 21, 2020 07:30 PM

किन्नौर,

आज कल मोबाईल में कॉल करते ही सुनने को मिलता है जब तक दवाई नहीं तब तक ढिलाई नहीं दो गज की दूरियां बना कर रखें । आखिर ये दवाई आएगी कब ढिलाई मिलेगी कब
अर्थव्यवस्था लुढ़क गई दवाई के चक्र में महंगाई आसमां छू गई
शिक्षा का स्तर छूट गया मजदूरी नौकरी छूट गई ।
कई कंपनियां बंद हो गई । रोजगार के साधन खत्म हो गये
कुछ लोगों के कोरोना वायरस के आने से लॉटरी जरूर लगी है
लाखों करोडो कमा गये ।
कोरोना ने जीना सीखा दिया कई लोगों को लेकिन इसी कोरोना ने लूटना भी सीखा दिया । सभी कह गये कोरोना ने इन्सान को जीना सीखा गया हाँ ये तो सच है जो ईमानदार थे । वे जीना सीख गये जो बेईमान थे वे भी कैसे धंधा करना है सीख गये ।
कोरोना दोनों तरह के लोगों को जीना सीखा गया ।
इस काल में हमनें उन मंदिर,मस्जिद,गुरुद्वारे ,चर्च आदि भी बंद दिखे ।हमने सीख लिया कैसे विपत्ति में सभी पीछे हट जाते है
वे भविष्यवाणी करने वाले वे झाड़ फूंक करने वाले
कोई भी इस कोरोना को मात नहीं दे सका ।हाँ हमारी पुरानी संस्कृति नमस्ते इसे जरूर दूरियां बनाने में कामयाब हुई है ।

जब तक दवाई नहीं तब तक कोई ढिलाई नहीं इस नियम को सभी अपनायें और बस जीते रहें । सामने कितने ही अजीज हमारे होंगे अब तो उनसे भी हमें डर लगता है। कहीं कोरोना संक्रमित तो नहीं । कितनी अजीब दुनियाँ हो गई । हवा,पानी सब शुद्ध हो गये इन्सान मुंह में मास्क के साथ घूम रहा है ।
वक्त बलवान है । कभी भी कुछ भी हो सकता है । अपने पराये हो सकते है पराये अपने हो सकते हैं । जीवन में दुःख कभी भी आ सकता हैं । आप इस कोरोना से सीख लें दो गज कई दूरी
मास्क लगना अब मजबूरी ।
आइये सुनते रहें जब तक दवाई नहीं तब तक कोई ढिलाई नहीं

 
Have something to say? Post your comment