Sunday, April 05, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
(ब्रेकिंग ) हमीरपुर : दोस्तों संग खड्ड में नहाने गया प्रवासी युवक डूबा , मौत , मौक़े पर पहुँची पुलिसमोदी जी , केवल थाली बजाने और मोमबत्ती जलाने से महामारी का सामना नहीं हो सकता : प्रेम कौशल ब्रेकिंग : लॉक डाउन ( 14 अप्रैल ) तक निजी स्कूल नहीं कर सकते मासिक फ़ीस व एडमिसन फ़ीस जमा करने की डिमांड , होगी सख़्त कार्यवाही, शिक्षा विभाग ने जारी की नोटिफ़िकेशनलाकडाऊन का उल्लंघन, नशा कारोबारी सक्रियभाजपा के ब्यानवीर संकट के समय में सकारात्मक दृष्टिकोण का परिचय दें : प्रेम कौशलब्रेकिंग : 14 कश्मीरी मज़दूर बाड़ी- फ़रनोल के पास फँसे , राशन ख़त्म , ठेकेदार नहीं कर रहा हिसाब किताब , मज़दूर घर लौटने को अड़ेभोरंज में रणजीत सिंह और मुख्तियार सिंह दुकानदारों पर एफ़आईआर दर्ज, वसूल रहे थे फलों और सब्ज़ियों के अधिक मूल्यनवाँ नौशहरा में 80 जरूरतमंदों को बांटा राशन
-
राज्य

राष्ट्रपति के सम्मान में राज्य सरकार ने किया नागरिक अभिनन्दन का आयोजन

May 22, 2018 07:29 PM
राष्ट्रपति के सम्मान में राज्य सरकार ने किया नागरिक अभिनन्दन का आयोजन 
 
राज्य सरकार ने आज यहां राष्ट्रपति  राम नाथ कोविंद के सम्मान में नागरिक अभिनन्दन का आयोजन किया। राष्ट्रपति के साथ उनकी धर्मपत्नी एवं देश की प्रथम महिला  सविता कोविंद भी मौजूद रही। उन्होंने उत्साहपूर्ण एवं गर्मजोशी से किए गए स्वागत के लिए राज्य सरकार तथा प्रदेश के लोगों का आभार व्यक्त किया। 
राष्ट्रपति को राज्यपाल तथा मुख्यमंत्री ने स्मृति चिन्ह, हिमाचली टोपी व शॉल से सम्मानित किया। राष्ट्रपति को इस अवसर पर नगर निगम शिमला की महापौर  कुसुम सदरेट ने ‘मान पत्र’ भेंट किया। 
राष्ट्रपति ने ‘एक ईंट शहीदों के नाम’ कार्यक्रम के अंतर्गत शहीदी स्मारक के निर्माण के लिए बिलासपुर के संजीव राणा को एक ईंट भेंट की। 
राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने राष्ट्रपति का स्वागत करते हुए कहा कि सादगीपूर्ण पृष्ठभूमि से संबंध रखने वाले राष्ट्रपति आम जनमानस की भावनाओं और आवश्यकताओं को समझते हैं। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश देश के सर्वाधिक शांतिपूर्ण राज्यों में से है और तेजी से विकास के पथ पर आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा कि इसका श्रेय राज्य के मेहनतकश तथा ईमानदार लोगों को जाता है। 
आचार्य देवव्रत ने कहा कि हमें अपनी समृद्ध संस्कृति व परम्पराओं पर गर्व होना चाहिए। उन्होंने कहा कि कुछ स्वार्थपूर्ण हितों तथा अनेक हस्तक्षेपों के कारण समृद्ध सांस्कृतिक विविधता तथा संस्कृति खतरे में है। उन्होंने कहा कि हमारी भारतीय परम्पराएं शांतिपूर्ण सह-अस्तित्व का संदेश देती हैं। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि आज हमारा समाज धर्म और जाति के नाम पर विभाजित है। उन्होंने युवाओं से राष्ट्र निर्माण की दिशा में कार्य करने का आग्रह किया ताकि भारत फिर से ‘विश्व गुरू’ बन सके। 
उन्होंने कहा कि युवाआें में नशे जैसी बुराई, भ्रूण हत्या तथा प्रभावी जल प्रबन्धन की कमी चिन्ता के विषय हैं। उन्होंने किसानों की आय में वृद्धि करने तथा मिट्टी की उर्वरकता को बनाए रखने के लिए शून्य लागत प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने पर बल दिया। 
 
राष्ट्रपति के सम्मान में मुख्यमंत्री द्वारा आयोजित नागरिक अभिनन्दन के दौरान राष्ट्रपति  राम नाथ कोविंद तथा उनकी धर्मपत्नी एवं देश की प्रथम महिला  सविता कोविंद का स्वागत करते हुए मुख्यमंत्री मंत्री  जय राम ठाकुर ने कहा कि हिमाचल प्रदेश को ‘देवभूमि’ के साथ-साथ वीरभूमि के नाम से भी जाना जाता है, क्योंकि राज्य के हजारों युवा समर्पण तथा प्रतिबद्धता के साथ सैन्य बलों में सेवाएं दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि  राम नाथ कोविंद का जीवन प्रेरणा का स्रोत है। हालांकि वह एक सादे परिवार में जन्में हैं और कठिन परिश्रम, समर्पण तथा ईमानदारी के कारण सर्वोच्च संवैधानिक पद तक पहुंचे हैं। 
मुख्यमंत्री ने कहा कि राष्ट्रपति की गरिमामयी उपस्थिति ने राज्य के लोगों को राष्ट्रपति के प्रति अपना स्नेह व सम्मान दर्शाने का अवसर प्रदान किया है। उन्होंने कहा कि पूर्व में भी यह प्रथा रही है कि राष्ट्रपति गर्मियों के दौरान कुछ दिनों के लिए राज्य के प्रवास पर रहते हैं, लेकिन राष्ट्रपति का यह दौरा आरामदायी कम, बल्कि अत्याधिक परिश्रम वाला है। 
श्री जय राम ठाकुर ने कहा कि छोटा राज्य होने के नाते हिमाचल प्रदेश ने विकास के विभिन्न क्षेत्रों में नई ऊंचाईयों को छुआ है और तेजी के साथ उन्नति और खुशहाली के मार्ग पर आगे बढ़ रहा है। उन्होंने कहा, हालांकि राज्य सरकार ने केवल चार महीने पहले ही कार्यभार संभाला है, लेकिन सरकार ने राज्य के विकास के लिए कुछ महत्वाकांक्षी योजनाओं और परियोजनाओं की शुरूआत की है। उन्होंने कहा कि सरकार ‘सबका साथ-सबका विकास’ उद्देश्य के साथ कार्य कर रही है। उन्होंने आशा जताई कि राज्य में राष्ट्रपति का दौरा उनके लिए तथा उनके परिवार के लिए अविस्मरणीय रहेगा।
 
शिक्षा मंत्री एवं स्थानीय विधायक  सुरेश भारद्वाज ने इस अवसर पर राष्ट्रपति तथा उनकी धर्मपत्नी  सविता कोविंद का स्वागत किया। उन्होंने वर्तमान में राज्य की राजधानी तथा ब्रिटिश शासनकाल में ग्रीष्मकालीन राजधानी शिमला के इतिहास पर संक्षिप्त प्रकाश डाला। 
इस अवसर पर राज्य के सभी ज़िलों की समृद्ध सांस्कृतिक विविधता को प्रदर्शित करते हुए रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया।
विधानसभा अध्यक्ष डॉ. राजीव बिन्दल, पूर्व मुख्यमंत्री  वीरभद्र सिंह, मंत्रिगण, विधानसभा के उपाध्यक्ष, विधायकगण, पूर्व मंत्री तथा विधायक, मुख्य सचिव विनीत चौधरी, पुलिस महानिदेशक एस.आर.मरड़ी, वरिष्ठ नागरिक, सैन्य तथा पुलिस अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे। 

 

°·¤ âæÜ ·ð¤ ¥´ÎÚU-¥´ÎÚU ç·¤Øæ Áæ°»æ ÜêãUÚUè ÂýæðÁñ€ÅU ·¤æ ·¤æØü àæéM¤ Ñ âéÚÔUàæ ÆUæ·é¤ÚU

ÌèÙ ¿ÚU‡ææð´ ×ð´ ÅUÙÜ ÚUãUèÌ ãUæð»æ ÂýæðÁñ€ÅU ·¤æ çÙ×æü‡æ ·¤æØü

ÚUæ×ÂéÚU ÕéàæãUÚU, 22 קüU ×èÙæÿæè

ÜêãÚUè ÁÜçßléÌ ÂçÚUØôÁÙæ, °âÁðßè°Ù ·¤è âÌÜéÁ ÕðçâÙ ×ð´ çÙ×æü‡æ ·¤è ÁæÙð ßæÜè ÌèâÚUè ÂçÚUØðæÁÙæ ãñÐ ÂçÚUØôÁÙæ ·Ô¤ çÙ×æü‡æ ·¤æ ·¤æØü çã×æ¿Ü ÂýÎðàæ âÚU·¤æÚU mæÚUæ °âÁðßè°Ù ·¤ô ßáü w®®} ×ð´ ¥æÕ´çÅUÌ ç·¤Øæ »Øæ Íæ ÌÍæ ÂçÚUØðæÁÙæ ·¤æ çÙ×æü‡æ °·¤ ¿ÚU‡æ ×ð´ ç·¤Øæ ÁæÙæ ÂýSÌæçßÌ Íæ çÁâ·¤è ·¤éÜ ÿæ×Ìæ ·¤æ ¥æ´·¤ÜÙ ||z ×ñ»æßæÅU ç·¤Øæ »Øæ ÍæÐ ÂçÚUØðæÁÙæ ·¤æ ̈·¤æÜèÙ  Õæ´Ï SÍÜ çÙÚUÍ ÌÍæ çßléÌ»ëã ·¤æ çÙ×æü‡æ ×ÚUôÜæ ×ð´ ç·¤Øæ ÁæÙæ ÍæÐ ÂÚU‹Ìé ÂØæüßÚU‡æ °ß´ âæ×æçÁ·¤ ·¤æÚU‡æô´ ·Ô¤ ׊ØÙÁÚU ÂçÚUØôÁÙæ ·Ô¤ SßL¤Â ×ð´ ÕÎÜæß ç·¤Øæ »Øæ ãñÐ ßÌü×æÙ ×ð´ ÜêãÚUè ÁÜçßléÌ ÂçÚUØôÁÙæ ·¤æ çÙ×æü‡æ ¥Õ ÌèÙ ¿ÚU‡æô´ ×ð´ ãô»æÐ ÌèÙô´ ¿ÚU‡æô´ ·¤æ âßüðÿæ‡æ °ß´ ¥‹ßðá‡æ ·¤æ ·¤æØü Âý»çÌ ÂÚU ãñÐ

ØãU ÁæÙ·¤æÚUè yvw ×ð»æßæÅU ·ð¤ ×ãUæÂýÕ´Šæ·¤ âéÚÔUàæ ÆUæ·é¤ÚU Ùð Âýñâ ßæÌæü ·¤ÚUÌð ãéU° ·¤ãUè Ð ÆUæ·é¤ÚU Ùð ·¤ãUæ ç·¤ °·¤ âæÜ ·ð¤ ¥´ÎÚU ÜéãUÚUè ÂçÚUØæðÁÙæ ·ð¤ ÂãUÜð ¿ÚU‡æ ·¤æ ·¤æØü àæéM¤ ç·¤Øæ Áæ°»æÐ ©U‹ãUæð´Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ÜêãÚUè ÁÜçßléÌ ÂçÚUØôÁÙæ ·Ô¤ ÁÙçãÌ ß ÂØæüßÚU‡æ ·¤ô ŠØæÙ ×ð´ ÚU¹Ìð ãé° °âÁðßè°Ù ÂýÕ‹ÏÙ Ùð Øã çÙ‡æüØ  çÜØæ ç·¤ §â ÂçÚUØôÁÙæ ·¤æ çÙ×æü‡æ ÌèÙ ¿ÚU‡æô´ ×ð´ ç·¤Øæ Áæ°»æ Ìæç·¤ ÂØæüßÚU‡æ ·¤ô ãæçÙ Ù ãôÐ

 

ÆUæ·é¤ÚU Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ¿ÚU‡æ-v ·¤æ Õæ´Ï ß çßléÌ»ëã »æò´ß çÙÚUÍ, ÌãâèÜ ÚUæ×ÂéÚU,  çÁÜæ çàæ×Üæ ×ð´ ÕÙð»æÐ §â·¤è ÿæ×Ìæ ֻܻ wv® ×ñ»æßæÅU ãô»èÐ ÂçÚUØôÁÙæ ·Ô¤ §â ¿ÚU‡æ ×ð´ çÁÜæ ·¤é„ê ß çàæ×Üæ ·¤è ·¤éÜ { ´¿æØÌð´ ÂýÖæçßÌ ãô ÚUãè ãñÐ ¿ÚU‡æ-v ×ð´ âßüðÿæ‡æ ·¤æ ·¤æØü ·¤ÚUÙð ·¤è ×´ÁêÚUè ÂØæüßÚU‡æ ×´˜ææÜØ âð ç×Ü ¿é·¤è ãñ ÌÍæ çßSÌëÌ ÂçÚUØôÁÙæ çÚUÂôÅUü Öè ÌÎæÙéâæÚU ·Ô¤‹ÎýèØ çßléÌ ÂýæçÏ·¤ÚU‡æ mæÚUæ Sßè·¤ëçÌ ÂýÎæÙ ·¤è Áæ ¿é·¤è ãñÐ §â·Ô¤ ¥çÌçÚUQ¤ âÖè ®{ ÂýÖæçßÌ Â´¿æØÌô´ âð ÂçÚUØôÁÙæ ·Ô¤ çÙ×æü‡æ ãðÌé ¥ÙæÂçÌ Âý×æ‡æ ˜æ Âýæ# ãô ¿é·Ô¤ ãñ´Ð ÂçÚUØôÁÙæ ÂýÕ´ÏÙ mæÚUæ ¥æÙè °ß´ ÚUæ×ÂéÚU ©Â-ׇÇÜ ×ð´ çSÍÌ ßÙ °ß´ çÙÁè Öêç× ·Ô¤ ¥çÏ»ýã‡æ ·Ô¤ çÜ° çßçÖóæ SÍæÙô´ ·¤ô ç¿ç‹ãÌ ·¤ÚU çÜØæ »Øæ ãñ ÌÍæ Öê-¥çÏ»ýã‡æ Âýç·¤Øæ Âý»çÌ ÂÚU ãñР 

¿ÚU‡æ-w »æò´ß ÙæòÁ ·ð¤ Âæâ ãUæðÙæ ãñ ,ÖæÚUÌèØ Öê-»Öü âßüðÿæ‡æ çßÖæ», çÙ»× ·¤æØæüÜØ ·Ô¤ Öê-çß™ææÙ ß çÇÁæ§üÙ çßÖæ» ·Ô¤ ¥çÏ·¤æÚUè ÌÍæ ÜêãÚUè ÁÜ çßléÌ ÂçÚUØôÁÙæ ·Ô¤ ¥çÏ·¤æçÚUØô´ mæÚUæ §Uâ·¤æ çÙÚUèÿæ‡æ ç·¤Øæ »Øæ ãñUÐ

¿ÚU‡æ-x ·¤æ Çñ× ß ÂæßÚUã檤⠻æò´ß ¹ñÚUæ, ÌãâèÜ âéóæè, çÁÜæ çàæ×Üæ ×ð´ ÕÙð»æ Áô ç·¤ âéóæè âð ֻܻ vy ç·¤Üô×èÅUÚU ·¤è ÎêÚUè ÂÚU âéóæè-ÜêãÚUè ×æ»ü ÂÚU ãñÐ ¿ÚU‡æ-x ·Ô¤ ·¤æØü ·¤ô àæéL¤ ·¤ÚUÙð ·Ô¤ çÜ° ÁËÎ ãè ÂØæüßÚU‡æ ×´˜ææÜØ âð Sßè·¤ëçÌ Âýæ# ·¤ÚU Üè ÁæØð»èÐ ¿ÚU‡æ-x ·¤è ¥Ùé×æçÙÌ ÿæ×Ìæ x|x ×ñ»æßæÅU ãñÐ ÌèÙô´ ¿ÚU‡æô´ ×ð´ âéÚU´» ·¤æ çÙ×æü‡æ Ùãè´ ç·¤Øæ ÁæØð»æÐ â´ÖæçßÌ ÂýÖæçßÌ Â´¿æØÌô´ âð â´ßæÎ Á¸æÚUè ãñ ÌÍæ ÂçÚUØôÁÙæ ·Ô¤ ÕÙÙð âð ÿæð˜æ ×ð´ ãôÙð ßæÜð çß·¤æâ ß âéçßÏæ¥ô´ âð Üô»ô´ ·¤ô ¥ß»Ì ·¤ÚUßæØæ Áæ ÚUãæ ãñÐ ÆUæ·é¤ÚU Ùð ·¤ãUæ ç·¤ §Uâ·¤è ÂãUÜè SÅðUÁ ·¤æ ·¤æØü ÁËÎ àæéM¤ ç·¤Øæ Áæ°»æÐ

ÆUæ·é¤ÚU Ùð ØãU Öè ·¤ãUæ ç·¤ yvw ×ð»æßæÅU ÕæØÜ ÂýæðÁñ€ÅU mUæÚUæ ÂýÖæçßÌ Â´¿æØÌæð´ ×ð´ SßæS‰Ø âðßæ°´, ÉUæ´¿æ»Ì ·¤æØü, ×çãUÜæ âàæçQ¤·¤ÚU‡æ ß ·¤æñàæÜ çß·¤æâ ÂÚU Áæð çÎØæ Áæ ÚUãUæ ãñUÐ ©U‹ãUæð´Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ÂýæðÁñ€ÅU ·ð¤ âæÍ Ü»Ìð ÕæØÜ »æ´ß ·¤æð ©U‹ãUæð´Ùð »æðÎ çÜØæ ãñU çÁâ·ð¤ çß·¤æâ ·ð¤ çÜ° ßð ·¤§üU ·¤æØü ·¤ÚU ÚUãðU ãñUÐ ©U‹ãUæð´Ùð ·¤ãUæ ç·¤ ÂýÖæçßÌ Â´¿æØÌæð´ ×ð´ ´¿æØÌ ƒæÚU, âæ×éÎæçØ·¤ ÖßÙ, ÚUæSÌð, àææñ¿æÜØ, ÁÜS˜ææðÌæð´ ·¤è ×éÚU×Ì ¥æçÎ ·¤æØü ·¤ÚUßæ ¿é·¤è ãñUÐ

ȤæðÅUæð ·ñ¤ŒàæÙ 1

ÚUæ×ÂéÚU ÕéàæãUÚU Ñ Âýñâ ßæÌæü ·¤ÚUÌð ãéU° ×ãUæÂýÕ´Šæ·¤ ß ¥‹Ø ¥çŠæ·¤æÚUèÐ

 

Have something to say? Post your comment
 
और राज्य खबरें
मुख्यमंत्री राहत कोष में चूड़ेश्वर सेवा समिति ने 5 लाख 51 हजार रूपये दिए 5 तारीख को रात 9 बजे बिजली बंद कर करे ये काम 1250 गरीब जरूरतमंद लोगों को बांटी गई राशन की मुफ्त किटें  दिल्ली में फंसे हिमाचलियों के लिए शेल्टर होम शुरू ब्रेकिंग : 14 कश्मीरी मज़दूर बाड़ी- फ़रनोल के पास फँसे , राशन ख़त्म , ठेकेदार नहीं कर रहा हिसाब किताब , मज़दूर घर लौटने को अड़े कोई एक भी प्रवासी मजदूर भूखा-प्यासा नहीं रहना चाहिए: गोविंद ठाकुर मंडी जिला में कर्फ्यू लागू हिमाचल प्रदेश में कफ्र्यू लागू करने का निर्णय कोरोना वायरस के संबंध ग्रामीणों को करें जागरूक-केसी चमन प्रदेश में देशी व विदेशी नागरिकों की बसों के प्रवेश पर होगा प्रतिबंधः मुख्यमंत्री