Monday, November 30, 2020
Follow us on
-
राज्य

आसमानी चांद

प्रीति शर्मा असीम | November 12, 2020 06:55 PM

आसमानी चाँद
।।।।।।।।।।।।।।।


करने लगी हूँ खुदा का शुक्र अदा ,
जिसने चाँद को आसमानी जमीं देदी,
प्रेमियों के दिल की धड़कन बना कर,
उसे सूरत इतनी हसीन दे दी।

आज चाँद चाँदनी की खूबसूरती पर
मदहोश हो इस कदर इतराता है,
कभी हिंदुओं का करवाचौथ बन,
कभी मुसलमानों की ईद बन जाता है।

न सर पर पल्लू है न तन पर है बुरखा,
फिर भी बन बैठा है प्रेमियों का सखा ,
आज चाँद यदि इस जमीं पर होता,
तो मैं कविता में कुछ और पिरोता।

वह न आज वाह वाही का दावेदार होता
न उसे किसी तबज्जो का अख्तियार होता।
हिन्दू मुस्लिम के विवादों में बीच फंसे चाँद पर
कोर्ट की हजारों दलीलों का अम्बार होता।

तब न वह आशिकों की शायरी होता,
न उसे कभी प्रेमियों का दीदार होता।
गंदी राजनीति के दलदल में फंस कर
चाँद अपनी शख्सियत से बेजार होता।

आज दिल फना होगया आसमां को चूम कर
जिसने धरती को खूब सूरत गजल देदिया।
चाँद के हुश्न से अपनी महफ़िल सजा ,
हुश्न प्रेमियोँ को जीने का सबब दे दिया।।।।।

मंजू भारद्वाज

 
Have something to say? Post your comment
और राज्य खबरें
त्योहारों में की ढिलाई...कोरोना ने फिर हाहाकार मचाई हरिहरपुरी की कुण्डलिया* सविंधान में निहित अधिकार के साथ-साथ मौलिक कर्तव्यों का पालन प्रत्येक व्यक्ति को करना अत्यन्त अवश्यक मीडिया सरकार एवं समाज के बीच सेतुः मुख्यमंत्री फोटोयुक्त मतदाता सूचियों का विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण 16 नवम्बर, 2020 से मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने प्रधानमंत्री के गतिशील नेतृत्व की सराहना अधिक संवेदनशीलता एवं कर्तव्य भावना ही शिकायत निवारण की गारंटी-डाॅ. सैजल जखेड़ा ग्राम पंचायत में सतपाल सिंह सत्ती ने किए 5 उद्घाटन व 2 शिलान्यास आनी पुलिस ने ननखड़ी खण्ड के दो युवकों से पकड़ी 750 ग्राम चरस  ऑनलाइन आवेदनों को दें प्राथमिकता, लोकमित्र केंद्रों के लिए सेवा शुल्क निर्धारित