Saturday, March 06, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/2l5VOv6hbT0 हिमाचल विधानसभा में 6 दिन से चला आ रहा गतिरोध टूटा;विपक्ष के नेता सहित 5 कांग्रेसी सदस्यों का निलबंन रदद। https://youtu.be/LElaOQ_7SFs मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने लगाई कारोना वैक्सीन https://youtu.be/vFVt3UOrtuQ करुणामूलक भर्ती को जल्द भरने की मांग को लेकर संघ का विधानसभा के बाहर धरना https://youtu.be/YY7cHnTDnf4 यदि मैं मुख्यमंत्री होता तो एक घंटे में सुलझ जाता विधानसभा का मसला; वीरभद्र सिंह https://youtu.be/Wk2WZmMWU2M पॉइन्ट ऑफ आर्डर पर चर्चा न मिलने पर कांग्रेस का सदन से वाकआउटhttps://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा
-
राज्य

मीडिया सरकार एवं समाज के बीच सेतुः मुख्यमंत्री

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | November 16, 2020 06:37 PM
 
शिमला,
 
 
मीडिया सरकार व समाज के बीच एक सेतु के रूप में कार्य करता है और कोविड-19 महामारी के दौरान मीडिया ने लोगों को जागरुक करने और इस दौरान सकारात्मक कार्य करने के लिए प्रोत्साहित करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई है। यह बात मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने राष्ट्रीय प्रेस दिवस के अवसर पर शिमला में आयोजित वेबिनार के माध्यम से कही।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी ने विश्व की अर्थव्यवस्था को बुरी तरह से प्रभावित किया है और लोकतंत्र का चैथा स्तम्भ भी इससे अछूता नहीं रहा। उन्होंने कहा कि लाॅकडाउन की सबसे बड़ी क्षति प्रिंट मीडिया को पहुुंची है। उन्होंने कहा कि यहां तक कि बड़े प्रकाशन घराने भी अपने कर्मचारियों को नौकरी से निकालने के लिए विवश हो गए और कुछेक को अपने कर्मचारियों के वेतन में कटौती करनी पड़ी। उन्होंने कहा कि इसके बावजूद भी मीडिया ने इस महामारी के दौरान लोगों को जागरूक करने में अह्म भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि इस महामारी से बहुत से पत्रकार संक्रमित हुए और कुछ ने अपनी जान भी गंवाई। उन्होंने कहा कि डिजिटल व प्रिंट मीडिया ने जमीनी स्तर पर बहुत सी कठिनाइयों का सामना करने के बावजूद भी पूरे देश में लोगों तक सही जानकारी पहुंचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
 
जय राम ठाकुर ने कहा कि परस्पर विश्वास पैदा करने के लिए सरकारी एजेंसियों, मीडिया और लोगों के बीच में प्रभावी संवाद स्थापित करना सुनिश्चित किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि कभी-कभी सोशल मीडिया के माध्यम से अफवाहें फैलाई जाती हैं, जिसका प्रमुख कारण लोगों तक सबसे पहले खबरें पहुंचाने के लिए कड़ी प्रतिस्पर्धा हो सकती है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी सरकार, यहां तक कि मीडिया के लिए भी एक नया अनुभव था। जब भारत में पहली बार कोरोना वायरस पाया गया था, उस समय देश में एक भी पी.पी.ई. किट व एन.-95 मास्क उपलब्ध नहीं थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश के पास केवल 60 वंेटिलेटर उपलब्ध थे, लेकिन आज प्रदेश में 600 वेंटिलेटर हैं। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपनी पहली वीडियो कांफ्रेंस में कहा था कि यह आपत्ति की घड़ी नई सम्भावनाओं को खोजने का भी समय है। उन्हांेने कहा कि आज देश प्रतिदिन 5 लाख पी.पी.ई. किट तैयार कर रहा है और अन्य देशों को भी निर्यात कर रहा है।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि मीडिया ने हमेशा ही रचनात्मक भूमिका निभाई है और न केवल प्रदेश व केन्द्र सरकार द्वारा उठाए गए कदमों बल्कि मीडिया की खामियों पर भी पर प्रकाश डाला है। उन्होंने कहा कि यह केवल मीडिया के सहयोग से ही संभव हो पाया है कि प्रदेश सरकार बाहरी राज्यों में फंसे 2.50 लाख लोगों को हिमाचल लाने में सफल रही। उन्होंने कहा कि कोविड के प्रभाव कुछ वर्षों तक ही रहेंगे और पिं्रट मीडिया भी इसके प्रभावों से जल्द उबर जाएगा।
 
जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रदेश सरकार वैब मीडिया के लिए नीति तैयार करने जा रही है, जिससे वैब पोर्टलों के उचित प्रबन्धन में सुविधा होगी।
 
मुख्यमंत्री ने कहा कि अगर सोशल मीडिया का उपयोग बुद्धिमानी और विवेकपूर्ण ढंग से किया जाए तो यह लोगों के व्यवहार परिवर्तन करने और कल्याण में प्रभावशाली साबित हो सकता है। उन्होंने कहा कि मीडिया कर्मियों को विश्वसनीयता बनाए रखने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए तभी वे समाज में सम्मान और आदर अर्जित कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि लोग मीडिया का सम्मान तभी करेंगे जब उन्हें लगेगा कि मीडिया उन तक बिना किसी तोड़-मरोड़ के सही सूचना पहुंचा रहा है।
 
सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के सचिव रजनीश ने वैबिनार में मुख्यमंत्री और अन्य गणमान्य व्यक्तियों का स्वागत करते हुए कहा कि कोविड महामारी के कारण अधिक से अधिक पत्रकारों की भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए विभाग ने राष्ट्रीय प्रेस दिवस को वेबिनार के माध्यम से आयोजित करने का निर्णय लिया।
 
उत्तम हिन्दु के प्रमुख सम्पादक इरविन खन्ना ने कहा कि कोविड महामारी के दौरान सोशल मीडिया सूचना के आदान-प्रदान के लिए एक सशक्त माध्यम बनकर उभरा है, क्योंकि लाॅकडाउन के कारण समाचार पत्र लोगों तक नहीं पहुंच रहे थे। उन्होंने कहा कि अन्य व्यवसायों की तरह इस महामारी से मीडिया उद्योग विशेषकर प्रिंट मीडिया भी बुरी तरह प्रभावित हुआ है। उन्होंने कहा कि प्रिंट मीडिया एक बार फिर अपना खोया हुआ स्थान हासिल कर रहा है। उन्होंने कहा कि मीडिया को सही परिप्रेक्ष्य की ओर सकारात्मक खबरों पर भी प्रकाश डालना चाहिए। उन्होंने कहा कि मीडिया को इस महामारी के संक्रमण को फैलने से रोकने के दृष्टिगत उठाए जाने वाले कदमों के प्रति भी लोगों को जागरूक करना चाहिए।
 
इरविन खन्ना ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान मीडिया की भूमिका रचनात्मक रही है, क्योंकि इसने दो मोर्चों पर सफलतापूर्वक लड़ाई लड़ी। उन्होंने कहा कि इसने एक तरफ अपने अस्तित्व के लिए आर्थिक संकट की लड़ाई लड़ी और दूसरी ओर जनता को उचित और तथ्यात्मक समाचार प्रदान करने के लिए कड़ा परिश्रम किया। उन्होेंने कहा कि मीडिया को मर्यादा में रहना चाहिए तभी हम सम्मान अर्जित कर सकते हैं। इसके लिए प्रत्येक पत्रकार को पत्रकारिता की उच्च नैतिकता को बनाए रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि भारत को एक मजबूत और जीवंत राष्ट्र बनाने में मीडिया की अहम भूमिका है और सोशल मीडिया ने प्रत्येक स्मार्ट फोन उपभोक्ता को जनता का पत्रकार बना दिया है, जिससे मीडिया की भूमिका कई गुणा बढ़ गई है।
 
दिव्य हिमाचल के प्रधान संपादक अनिल सोनी ने कहा कि मीडिया टैक्नोलोजी में परिवर्तन के साथ मीडिया की भूमिका भी बदल गई है। मीडिया ने महामारी के दौरान लाॅकडाउन से अनलाॅक तक कई बदलाव देखे हैं। उन्होंने कहा कि इस महामारी के कारण, प्रिंट मीडिया पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा और अस्तित्व के लिए अपनी कार्यनीति में परिवर्तन करने के लिए मजबूर होना पड़ा। उन्होंने कहा कि अब डिजिटल मीडिया का समय आ चुका है और इसके लिए विशेष नीतियों को तैयार करने की जरूरत है। उन्होंने कहा कि कोरोना के दौरान कई मीडियाकर्मियों ने न केवल अपनी नौकरी खोयी, बल्कि कुछ ने इस महामारी में अपनी जान भी गंवाई है।
 
सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के निदेशक हरबंस सिंह ब्रसकोन ने धन्यवाद प्रस्ताव रखा।
 
वरिष्ठ पत्रकार धनंजय शर्मा, संजीव शर्मा, रविन्द्र मखैक, जे.एम. शर्मा और आरती शर्मा ने भी संवाद सत्र में भाग लिया।
 
सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के संयुक्त निदेशक प्रदीप कंवर ने वेबिनार का संचालन किया।
 
हिमफैड के अध्यक्ष गणेश दत्त, शिमला प्रैस क्लब के अध्यक्ष अनिल हेडली, पत्रकार पराक्रम चन्द, सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के संयुक्त निदेशक आरती गुप्ता और महेश पठानिया भी इस अवसर पर उपस्थित थे।
 
Have something to say? Post your comment
और राज्य खबरें
स्वयं सहायता समूह रईबाग की महिलाओं ने पकड़ी आत्मनिर्भर की राह तहसीलदार ने किया विस्फोट वाली जगह का दौरा सड़क सुरक्षा को बनाएं आदत: श्रवण मांटा आदित्य नेगी की अध्यक्षता में राष्ट्रीय बांस मिशन के अंतर्गत जिला शिमला के लिए गठित जिला स्तरीय बांस विकास एजेंसी की बैठक का आयोजन किया गया पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधि लोगों को सड़क सुरक्षा नियमों के बारे शिक्षित करे वर्तमान में ऊना विस में हो रहा 1000 करोड़ की परियोजनाओं पर काम: सत्ती एसडीएम माह में कम से कम दो पटवार वृतों का निरीक्षण करें: डीसी ग्रामीण बैंक द्वारा 9वां स्थापना दिवस आयोजित अगले वित्त वर्ष में 96,855 क्विंटल गेहूं बीज उत्पादित करने का लक्ष्य सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा में सब बनें भागीदार: वीरेन्द्र कंवर