Tuesday, April 07, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
हिमाचल प्रदेश के लिए बुरी खबर, कोरोना के 4 नए मामलेब्रेकिंग : पुलिस की बड़ी कार्यवाही , ठेका सील नेरवा के जलारा से 4 जमाती गिरफ्तारहिमाचल में एक दिन में कोरोना वायरस के सात नए मामले, 10 पहुंची मरीजों की संख्या(ब्रेकिंग ) हमीरपुर : दोस्तों संग खड्ड में नहाने गया प्रवासी युवक डूबा , मौत , मौक़े पर पहुँची पुलिसमोदी जी , केवल थाली बजाने और मोमबत्ती जलाने से महामारी का सामना नहीं हो सकता : प्रेम कौशल ब्रेकिंग : लॉक डाउन ( 14 अप्रैल ) तक निजी स्कूल नहीं कर सकते मासिक फ़ीस व एडमिसन फ़ीस जमा करने की डिमांड , होगी सख़्त कार्यवाही, शिक्षा विभाग ने जारी की नोटिफ़िकेशनलाकडाऊन का उल्लंघन, नशा कारोबारी सक्रिय
-
राज्य

शैमरॉक रोजेंस स्कूल ने मनाया पर्यावरण दिवस

June 03, 2018 08:36 PM
शैमरॉक रोजेंस स्कूल ने मनाया पर्यावरण दिवस    
शिमला।
राजधानी शिमला के कच्चीघाटी के समीप पत्रकार विहार शैमरॉक रोजेंस स्कूल ने पर्यावरण दिवस मनाया। स्कूल की प्रधानाचार्य प्रीति चुट्टानी ने बच्चों को बताया कि वो सभी प्राकृतिक चीजें जो पृथ्वी पर जीवन संभव बनाती है पर्यावरण के अंतरगर्त आती है जैसे की जल, वायु, सूर्य के प्रकाश, भूमि, अग्नि, वन, पशु, पौंधें, इत्यादि ऐसा माना जाता है की केवल पृथ्वी ही पुरे ब्रह्माण्ड में एक मात्र ऐसा गृह है जहा जीवन के अस्तित्व के लिए आवश्यक पर्यावरण है। पर्यावरण के बिना यहाँ हम जीवन का अनुमान नहीं लगा सकते इसीलिए हमें भविष्य में जीवन की संभावना सुनिश्चित करने के लिए अपने पर्यावरण को स्वस्थ्य  रखना चाहिए। यह पृथ्वी पर रहने वाले प्रत्येक व्यक्ति की जिम्मेदारी है। हर किसी को आगे आना चाहिए और पर्यावरण की सुरक्षा के अभियान में शामिल होना चाहिए।
उन्होंने बताया कि प्रकृति का संतुलन बनाए रखने के लिए पर्यावरण और जीवित चीजो के बीच नियमित रूप से विभिन्न चक्र घटित होते रहते है। हालांकि, अगर किसी भी कारण से ये चक्र बिगड़ जाते हैं तो प्रकृति का भी संतुलन बिगड़ जाता है जो की अंतत: मानव जीवन को प्रभावित करता है। हमारा पर्यावरण हजारो वर्षो से हमें और अन्य प्रकार के जीवो को धरती पर बढऩे, विकसित होने और पनपने में मदद कर रहा है। मनुष्य पृथ्वी पर प्रकृति द्वारा बनाई गई सबसे बुद्धिमान प्राणी के रूप में माना जाता है इसीलिए उनमे ब्रह्मांड के बारे में पता करने की उत्सुकता बहोत ज्यादा है जोकि उन्हें तकनीकी उन्नति की दिशा में ले जाता है।
उन्होंने बताया कि हर व्यक्ति के जीवन में इस प्रकार की तकनीकी उन्नति दिन-ब-दिन पृथ्वी पर जीवन के संभावनाओं को खतरे में डाल रहा है क्योकि हमारा पर्यावरण धीरे-धीरे नष्ट हो रहा है। ऐसा लगता है की ये एक दिन जीवन के लिए बहोत हानिकारक हो जाएगी क्योकि प्राकृतिक हवा, मिट्टी और पानी प्रदूषित होते जा रहे । हालाँकि यह इंसान, पशु, पौधे और अन्य जीवित चीजों के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव दिखाना शुरू कर दिया है। हानिकारक रसायनों के उपयोग द्वारा कृत्रिम रूप से तैयार उर्वरक जो की मिट्टी को खराब कर रहे हैं परोक्ष रूप से हमारे दैनिक खाना खाने के माध्यम से हमारे शरीर में एकत्र हो रहे हैं। औद्योगिक कंपनियों से उत्पन्न हानिकारक धुँआ दैनिक आधार पर प्राकृतिक हवा को प्रदूषित कर रहे हैं जो की काफी हद तक हमारे स्वास्थ्य को प्रभावित कर रहे हैं क्योकि इसे हम हर पल साँस लेते हैं।
इस व्यस्त, भीड़ और उन्नत जीवन में हमे दैनिक आधार पर छोटी छोटी बुरी आदतों का ख्याल रखना चाहिए। यह सत्य है की हर किसी के छोटे से छोटे प्रयास से हम हमारे बिगड़ते पर्यावरण की दिशा में एक बड़ा सकारात्मक बदलाव ला सकते हैं। हम हमारे स्वार्थ के लिए और हमारे विनाशकारी इच्छाओं को पूरा करने के लिए प्राकृतिक संसाधनों का गलत उपयोग नहीं करना चाहिए। हम हमारे जीवन को बेहतर बनाने के लिए विज्ञान और प्रौद्योगिकी विकास करना चाहिए लेकिन हमेशा यह सुनिश्चित रहे की भविष्य में हमारे पर्यावरण को इससे कोई नुकसान न हो।  स्कूल की प्रधानाचार्य व अन्य अध्यापकों ,बच्चों ने स्कूल के आसपास पेड़ पौधे लगाए।
Have something to say? Post your comment
 
और राज्य खबरें
मंडी में डिपूओं के जरिए लोगों को देंगे 1 लाख क्विंटल आटा-चावल : ऋग्वेद ठाकुर मुख्यमंत्री राहत कोष में चूड़ेश्वर सेवा समिति ने 5 लाख 51 हजार रूपये दिए 5 तारीख को रात 9 बजे बिजली बंद कर करे ये काम 1250 गरीब जरूरतमंद लोगों को बांटी गई राशन की मुफ्त किटें  दिल्ली में फंसे हिमाचलियों के लिए शेल्टर होम शुरू ब्रेकिंग : 14 कश्मीरी मज़दूर बाड़ी- फ़रनोल के पास फँसे , राशन ख़त्म , ठेकेदार नहीं कर रहा हिसाब किताब , मज़दूर घर लौटने को अड़े कोई एक भी प्रवासी मजदूर भूखा-प्यासा नहीं रहना चाहिए: गोविंद ठाकुर मंडी जिला में कर्फ्यू लागू हिमाचल प्रदेश में कफ्र्यू लागू करने का निर्णय कोरोना वायरस के संबंध ग्रामीणों को करें जागरूक-केसी चमन