Tuesday, December 06, 2022
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
शिमला के संजौली में तेज रफ्तार कार ने राहगीर को मारी टक्कर,सीसीटीवी फुटेज वायरलज्ञानवापी मामले में अब भी मुस्लिम पक्ष द्वारा लटकाव, भटकाव वाली नीति; धर्म चंद्र पोद्दार हिमाचल प्रदेश 17वीं राज्य स्तरीय समन्वय समिति - हिमाचल प्रदेश की बैठक आयोजित 30 टीबी रोगियों को पोषण आहार वितरीत हिमालयन अपडेट समाचार पत्र एवं साहित्य सृजन मंच के तत्वावधान में भव्य राष्ट्रीय कवि सम्मेलन एवं सम्मान समारोह आयोजित पुरातन परम्पराएँ पूरी तरह से वैज्ञानिक एवं सूक्ष्म प्रभावों वाली; धर्म चंद्र पोद्दारनिःशुल्क विशेष स्वास्थ्य शिविर में जांचा 118लोगों का स्वास्थ्य समाज हित के कार्यों में उत्कृष्ट योगदान देने के लिए हिमालयन अपडेट द्वार झारखण्ड के स्पूत पोद्दार को किया जाएगा सम्मानित
-
कारोबार

त्रिमंडल ने लक्ष्‍मी विलास बैंक के डीबीएस बैंक इंडिया लिमिटेड में विलय की योजना को मंजूरी दी

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | November 25, 2020 07:06 PM
 
 दिल्ली ,

प्रधानमंत्री  नरेन्‍द्र मोदी की अध्‍यक्षता में केन्‍द्रीय मंत्रिमंडल ने लक्ष्‍मी विलास बैंक लिमिटेड (एलवीबी) के डीबीएस बैंक इंडिया लिमिटेड (डीबीआईएल) में विलय की योजना को मंजूरी दे दी। जमाकर्ताओं के हित की रक्षा और वित्तीय एवं बैंकिंग स्थिरता के हित में, बैंकिंग विनियमन कानून, 1949 के सेक्‍शन 45 के तहत आरबीआई के आवेदन पर विलय की यह योजना बनाई गई है। इसके साथ ही भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने सरकार की सलाह से जमाकर्ताओं के हित की रक्षा के लिए 17.11.2020 को एलवीबी पर 30 दिन  की अवधि के लिए मोरेटोरियम लगा दिया था और उसके निदेशक मंडल के ऊपर एक प्रशासक की नियुक्ति कर दी थी।

जनता और हितधारकों से सुझाव और आपत्तियां आमंत्रित करने के बाद, भारतीय रिजर्व बैंक ने विलय की यह योजना तैयार की और उसे सरकार की मंजूरी के लिए पेश किया था। यह कार्य मोरेटोरियम की अवधि के समाप्‍त होने से काफी पहले कर लिया गया ताकि लागू मोरेटोरियम के कारण अपने धन की निकासी नहीं कर पाने की जमाकर्ताओं की परेशानी को कम किया जा सके। इस योजना के मंजूर हो जाने के बाद एलवीबी का एक उचित तिथि पर डीबीआईएल के साथ विलय हो जाएगा और तब जमाकर्ताओं पर अपना धन निकालने को लेकर किसी भी तरह की रोक नहीं रहेगी।

डीबीआईएल एक बैंकिंग कंपनी है जिसे आरबीआई का लाइसेंस प्राप्‍त है और जो पूर्ण स्वामित्व वाले सहायक मॉडल पर भारत में परिचालन करती है। डीबीआईएल की सुदृढ़ बैलेंस शीट (तुलन पत्र) है, उसके पास पर्याप्‍त पूंजी है और डीबीएस से सम्‍बद्ध होने के कारण वह अतिरिक्‍त लाभ की स्थिति में भी है। डीबीएस एशिया का एक प्रमुख वित्तीय सेवा ग्रुप है जिसकी 18 बाजारों में उपस्थिति है और जिसका मुख्‍यालय सिंगापुर में है। वह सिंगापुर के शेयर बाजार में लिस्टि‍ड भी है। विलय के बाद भी डीबीआईएल का संयुक्‍त बैलेंस शीट सुदृढ़ रहेगा और इसकी शाखाओं की संख्‍या बढ़कर 600 हो जाएगी।

एलवीबी का तेजी से विलय और उसकी समस्‍या का समाधान, सरकार की स्‍वच्‍छ बैंकिंग व्‍यवस्‍था स्‍थापित करने की प्रतिबद्धता के अनुरूप है और यह जमाकर्ताओं और आम जनता के साथ-साथ वित्तीय प्रणाली के हित में भी है।  

Have something to say? Post your comment
और कारोबार खबरें
यूको आरसेटी शिमला देगा मोमबत्ती बनाने का निःशुल्क प्रशिक्षण रामपुर एचपीएस में 73वाँ गणतंत्र दिवस समारोह विधीवत हर्षोल्लास से मनाया नाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन के नाम सीज़न का सर्वाधिक दैनिक विद्युत-उत्पादन का रिकॉर्ड बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआ टुटु व्यापार मंडल ने ऑनलाइन कंपनीयों को होम डिलीवरी की छूट देने पर सरकार को घेरा सरकार द्वारा दूध के दाम बढ़ाने पर जताया आभार एसजेवीएन ने अरुणाचल प्रदेश की संभावित जलविद्युत क्षमता के दोहन में रुचि व्‍यक्‍त एसजेवीएन सर्वश्रेष्‍ठ जलविद्युत कंपनी के सीबीआईपी अवार्ड 2020 से सम्मानित हिमाचल सरकार ने 10095 करोड़ के समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए मर्जर के खिलाफ देश भर में आज बैंक रहे बंद
Total Visitor : 1,36,70260
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy