Wednesday, January 20, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदानसाहित्य संगम संस्थान नई दिल्ली द्वारा हुआ हिमाचल इकाई का भव्य उद्घाटनबारीं पंचायत में उपप्रधानी के लिए पांच के बीच फंसा जीत का पंजा बारीं की 95 वर्षीय बोहरी देवी इस बार भी मतदान को तैयार, पिछले 60 वर्षों से हर चुनाव में किया मतदानबमसन पंचायत समिति के लिए दो दिनों में भरे 90 नामांकन, ग्राम पंचायत बारीं में प्रधान पद के लिए जबरदस्त मुकाबलाBreaking : 37.9 किलोग्राम नशीले पदार्थ का फरार आरोपी हमीरपुर पुलिस ने दबोचा अफसोस रहेगा
-
कविता

रचना .....

प्रीति शर्मा "असीम " | November 26, 2020 08:05 PM

रचना......  का सफर

वक्त और जज्बातों का जब मिलन होता है,
तभी नई रचना का उद्गम होता है।

जन्मती है वो भावनाओं के गर्भ से,
झूलती है वो शब्दों के झूले में।

बढ़ती है वो ख्वाबों की ताबीर लिए,
चलती है सुर ताल की झंकार लिए।

किन शब्दों से मैं करूँ इनकी अर्चना,
पाँव नही है पर विश्व  भ्रमण करती है रचना।

कभी प्रेमी के दिल का पैगाम बन कर,
कभी दुश्मन की तीरे -कमान बन कर ।

कभी विरह वेदना को सहलाते हुए,
कभी लहरों पर आशियाँ बनाते हुए।

नवरस की खुशबू से लिपटी हुई ,
इठलाती बलखाती चलती है रचना।

किन शब्दों से मैं करूँ इनकी अर्चना,
पाँव नही है पर विश्व भृमण करती है रचना।

हर कवि के कलम का ये उदगार है ,
उनकी जीवन नैया का ये पतवार है।

कही ओस सी मासूमियत में लिपटी हुई,
कहीं पानी मे आग लगाती हुई ।

जितना भी चाहो इन्हें पहलू में छुपाना,
कब्र में दबे अहसास कुरेद जाती है रचना।

किन शब्दों से मैं करूँ इनकी अर्चना,
पॉँव नही है पर विश्व भृमण करती है रचना।।।।।।।।।।
______________

मंजू भारद्वाज

 
Have something to say? Post your comment