Monday, April 19, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
मुख्य सचिव ने सूखे जैसी स्थिति से निपटने के लिए कृषि व बागवानी विभागों को कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिएहिमाचल में फ़र्ज़ी गाड़ियों के पंजीकरण को लेकर सीबीआई करे जाँच, मुख्यमंत्री कांग्रेस के नेताओं को धमकाना करें बन्द :अग्निहोत्री।प्रदेश में करोड़ो रूपये की गाड़ियों की रजिस्ट्रेशन मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने मुख्यमंत्री से मांगा श्वेतपत्र।हिमालयन अपडेट साहित्य सृजन की झारखंड इकाई के सफल नेतृत्व में विराट काव्य आयोजन हर्ष और उल्लास के साथ संपन्न आने वाले समय में नाइट कर्फ्यू और लॉक डाउन की संभावनाएं; मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर https://youtu.be/DuPN5b7gdiQ नीजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ अभिभावक मंच ने जिला प्रशाशन को सौंपा ज्ञापन,कार्यवाही की की मांग https://youtu.be/_2J8oLo8-jo कोरोना महामारी के चलते प्रदेश में सादगी से मनाया गया 73वा हिमाचल दिवस ।हि.प्र. स्कूल शिक्षा बोर्ड और विश्वविद्यालय स्नातक स्तर की परीक्षाएं स्थगित
-
कविता

लोकतंत्र......... है

प्रीति शर्मा असीम | November 26, 2020 09:21 PM

झूठ ही चलन में है।

और हो क्या रहा है.....भारत में ।

भारतीय समाज में...व्यवहार में ।

यही तो हो रहा है ।

झूठ सब जगह
स्वीकार ,
अंगीकार ।

सच की तो मृत्यु हो चुकी है ।

और हो रही है..

.होती रहती है । ।

इस लिए तो......
उसका पता ही कहा है अब ....?

ऐसे ही मारा जाता है ।

बहुत सारे उपाय हैं ,

अलग - अलग संविधानों में ,

सत्ताओ में , और तंत्रों में .

जरूरी नहीं कि,

गैस- चैंबर ही सर्वोत्तम उपाय हो ,

या , फांसी ,या फिर , काला पानी ,

या आजीवन कारावास की सजा ही ,

दी जाए क़ाल कोठरी में . निर्भर करता है , विधान पर ,

और आपके इस्तेमाल पर ।। ।

कौन सा उपाय सही रहेगा ,

व्यवस्था तय कर लेती है ।।

पूंजीवाद है , तो आप उपभोक्ता हैं,

आपको मारने के तरीके अलग होंगे ,

जो आपकी जेब के अनुसार तय होंगे ।।

महगाई , फीस वृद्धि , बेरोजगारी ,

व्यापार में घाटा ,भूख , भुखमरी ,

गरीबी , इलाज न होना ,

फसलों का बर्बाद होना ,

ऐसा कोई भी कारण,
हो सकता है....

जरूरी नहीं कि,

आपको बताया ही जाए ।

या फिर ,आपको पता चल जाए ।

अचानक ही कारण बन जाते हैं ।

जो मरते नहीं ,
मार डाले जाते हैं ।

और अनेकों आत्महत्या से,

स्वर्ग को सिधार जाते हैं ।।

लोकतंत्र है ,

तब फिर दूसरे उपाय अपनाए जायेंगे , जल्दबाजी बिल्कुल नहीं होगी ,

आप वोटर हैं ,

काफी छूटो के हकदार होंगे ,

आपकी आर्थिक क्षमता और व्यवहार के अनुसार ,

मौत स्वयं तय हो जाएगी ।।

किसी गैस कांड में , या फिर अग्नि दुर्घटना में , अस्पताल में ,

बीमारी से, या फिर लाचारी से , दंगे में या फिर कर्फ्यू में हाथरस में ,

या फिर भागलपुर में , भोपाल में , या फिर जालंधर में ,

कोई न कोई तरीका बन जाएगा ,

आपका क्रिया - कर्म हो जाएगा.

इस लिए ,मृत्यु नही जीवन समस्या है।

पर इस की नहीं कोई व्यवस्था है ।

किसी भी तंत्र में , संविधान में , या फिर ,

विश्व में या विश्व स्वास्थ संगठन के विधान में , इस हैवानियत भरे दौर,

राज और संसार में ।।।।।

Have something to say? Post your comment