Monday, April 19, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/OQPehgHx4H8 शहरी विकास मंत्री ने किया कोविड डेडिकेटेड हॉस्पिटल डीडीयू का दौरा, बोले टेस्टिंग के बाद जल्द शुरू होगा ऑक्सीजन प्लांट,मुख्य सचिव ने सूखे जैसी स्थिति से निपटने के लिए कृषि व बागवानी विभागों को कार्य योजना तैयार करने के निर्देश दिएहिमाचल में फ़र्ज़ी गाड़ियों के पंजीकरण को लेकर सीबीआई करे जाँच, मुख्यमंत्री कांग्रेस के नेताओं को धमकाना करें बन्द :अग्निहोत्री।प्रदेश में करोड़ो रूपये की गाड़ियों की रजिस्ट्रेशन मामले पर कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप राठौर ने मुख्यमंत्री से मांगा श्वेतपत्र।हिमालयन अपडेट साहित्य सृजन की झारखंड इकाई के सफल नेतृत्व में विराट काव्य आयोजन हर्ष और उल्लास के साथ संपन्न आने वाले समय में नाइट कर्फ्यू और लॉक डाउन की संभावनाएं; मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर https://youtu.be/DuPN5b7gdiQ नीजी स्कूलों की मनमानी के खिलाफ अभिभावक मंच ने जिला प्रशाशन को सौंपा ज्ञापन,कार्यवाही की की मांग https://youtu.be/_2J8oLo8-jo कोरोना महामारी के चलते प्रदेश में सादगी से मनाया गया 73वा हिमाचल दिवस ।
-
धर्म संस्कृति

देवठन के बाद शिरगुल देवता मंदिर के कपाट पाँच माह के लिए बंद।

बालम गोगटा, जिला ब्यूरो प्रमुख , हिमालयन अपडेट | November 27, 2020 02:43 PM

चौपाल,

गुरूवार को देवठन पर्व पर भारी बर्फवारी के मध्य क्षेत्र के लोगों के आराध्य बिजट महाराज अपने बड़े भाई शिरगुल महाराज से मिलने चूड़धार पंहुचे ! चूड़धार पंहुचने पर बिजट महाराज का स्नान के बाद उनके बड़े भाई शिरगुल महाराज के साथ मिलन करवाया गया ! दोनों देव भ्राताओं के मिलन के उपरान्त शिरगुल देवता मंदिर के कपाट अगले पांच माह के लिए बंद कर दिए गए ! प्रति वर्ष आयोजित होने वाले इस देव कार्यक्रम में आम तौर पर पांच से छह हजार के बीच श्रद्धालु पंहुचते थे,परन्तु इस वर्ष कोरोना महामारी के कारण करीब पांच सौ श्रद्धालु ही चूड़धार पंहुच पाए ! चूड़ेश्वर सेवा समिति के प्रबंधक बाबू राम शर्मा ने बताया कि देवठन पर्व पर चूड़धार में भारी बर्फवारी के बाद मंदिर के पुजारी,चूड़ेश्वर सेवा समिति के समस्त पदाधिकारी और सदस्य,मंदिर कमेटी के सदस्य एवं सभी होटल ढाबे वाले चूड़धार से चले गए है ! बर्फवारी के बाद चूड़धार में खाने पीने और ठहरने की कोई भी व्यवस्था नहीं है ! उन्होंने श्रद्धालुओं और ट्रैकिंग के शौक़ीन युवाओं से आग्रह किया है कि बर्फ के बीच चूड़धार की यात्रा अथवा ट्रैकिंग का जोखिम ना उठायें ! बाबू राम शर्मा ने बताया कि यूं तो प्रशासनिक तौर पर हर साल मंदिर के कपाट तीस नवंबर से 30 अप्रैल तक बंद रहते हैं,परन्तु इस बार नवंबर माह में ही चूड़धार में भारी बर्फवारी के चलते मंदिर के कपाट देवठन पर्व के साथ 26 नवंबर को ही बंद करने का निर्णय लिया गया है ! उन्हों ने बताया कि प्रशासनिक तौर पर भले ही मंदिर के कपाट 30 नवंबर से 30 अप्रैल तक बंद रहते है,परन्तु देव परम्परा के अनुसार हिंदी महीने पौष की सक्रांति पर देवता शिरगुल की सहमति जिसे स्थानीय भाषा में पौल लगाना कहते है से उसी दिन से बैसाख माह की सक्रांति तक कपाट बंद रखने की सदियों पुरानी परम्परा है ! दिसंबर माह में सक्रांति वाले दिन दिन चार माह की पौल लगने के बाद बैसाख यानी अप्रैल माह की सक्रांति को मंदिर के कपाट खोल कर देवता की विधिवत विशेष पूजा की रस्म आज भी निभाई जाती है !

Have something to say? Post your comment
और धर्म संस्कृति खबरें
https://youtu.be/-5T6PJJk18wशिमला के राम मंदिर से निकली भगवान राम की शोभा यात्रा https://youtu.be/wGibqbyPgzo स्वर्ण आयोग के गठन की मांग को लेकर कल सचिवालय के बाहर महाधरना मंजीत शर्मा की अध्यक्षता में जाखू में मंदिर न्यास सदस्य समिति की बैठक का आयोजन किया गया https://youtu.be/qA4yu0-24Yc हिमाचल कला संस्कृति भाषा अकादमी एवं हिमाचल प्रदेश शिक्षक महासंघ द्वारा काव्य सम्मेलन आयोजित https://youtu.be/g3eAQpGciUg शिवरात्रि पर शिवालयों में दिखी भक्तों की लंबी कतारें, शिमला में शिव जी की निकाली गई बारात शिवरात्रि पर शिवालयों में दिखी भक्तों की लंबी कतारें, शिमला में शिव जी की निकाली गई बारात लोगों की आकांक्षाओं पर खरा उतरें जनप्रतिनिधिः राज्यपाल 15 दिनों के स्वर्ग प्रवास के बाद देवालय लौटे देवता, मंदिरों में पूजा अर्चना शुरू चिंतपूर्णी नव वर्ष मेला के दौरान जिला में 31 दिसंबर, 2020 व 1 जनवरी, 2021 को लागू रहेगी धारा 144 -डीसी अकादमी के मंच पर निर्गुण पद, गणगौर एवं निमाड़ी लोकगीतों का गायन