Wednesday, February 24, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआहमीरपुर जिला में हर्षोल्लास से मनाया गया 72वां गणतंत्र दिवस समारोह, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने की जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता, राष्ट्रध्वज फहराकर मार्चपास्ट की सलामी लीसमीक्षा : वार्ड पंच से लेकर जिला परिषद तक पटक डाले जनता ने , हेकड़ी , घमंड व बड़े नेताओं की धौंस हुईं जमींदोज पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदान
-
हेल्थ और लाइफस्टाइल

कोरोना पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं की सुरक्षित डिलीवरी के मामलों में नेरचौक अस्पताल का शानदार रिकॉर्ड

हिमालयन अपडेट ब्यूरो | November 28, 2020 05:28 PM

प्रदेश का इकलौता अस्पताल जहां कोविड-19 से पीड़ित महिलाओं की डिलीवरी करवाई गई
मंडी,

कोरोना पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं की सुरक्षित डिलीवरी के मामले में श्री लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल नेरचौक ने शानदार काम किया है । यह अस्पताल हिमाचल का इकलौता अस्पताल है जहां कोरोनाकाल में 52 कोरोना पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं की सुरक्षित डिलीवरी हुई है। बता दें, कोरोना के चलते अप्रैल महीने में इस अस्पताल को डेडिकेटिड कोविड अस्पताल में तब्दील कर दिया गया था ।
श्री लाल बहादुर शास्त्री मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल नेरचौक के वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डॉ. जीवानंद चौहान ने यह जानकारी देते हुए बताया कि कोरोना पॉजिटिव गर्भवती महिलाओं के मामले में अस्पताल ने शानदार काम किया है। यह प्रदेश का इकलौता अस्पताल है जहां कोविड-19 से पीड़ित महिलाओं की डिलीवरी करवाई गई हैं।
उन्होंने बताया कि इस अस्पताल में 52 डलीवरी हुई हैं उनमें 20 कोरोना पॉजिटिव महिलाओं की डिलीवरी नार्मल और 32 महिलाओं की सिजेरियन डिलीवरी हुई है। सभी मामलों में जच्चा-बच्चा बिल्कुल सुरक्षित हैं। हालांकि डिलीवरी के बाद 2 नवजात बच्चों में भी कोरोना के लक्षण मिले थे, जो बाद में ठीक हो गए। उन्होंने कहा कि इस काम में अस्पताल के विशेषज्ञ डॉक्टरों व अन्य सभी सहयोगियों ने बेहतरीन काम किया है।
डॉ. जीवानंद चौहान ने कहा कि कोरोनाकाल में प्रदेश के किसी भी अस्पताल में से नेरचौक अस्पताल में कोरोना के सबसे ज्यादा मरीज भर्ती हुए हैं और सबसे ज्यादा कोविड मरीज इस अस्पताल से ठीक भी हुए हैं।
उन्होंने कहा कि इसमें खास बात ये है कि लोगांे ने समय पर कोरोना जांच करवाई और वे समय रहते अस्पताल पहुंचे। रोग का जल्द पता लगने से उनका ईलाज हो सका, जिससे उन्होंने कोरोना की जंग जीती है।
डॉ. जीवानंद चौहान ने कहा कि नेरचौक अस्पताल मंडी के साथ साथ कुल्लू, बिलासपुर, हमीरपुर, कांगड़ा और लाहुल-स्पिति के अलावा चंबा के पांगी क्षेत्र के मरीजों को सेवाएं दे रहा है।

 
Have something to say? Post your comment
और हेल्थ और लाइफस्टाइल खबरें
28 दिन का अंतरात पूर्ण करने वाले हैल्थकेयर स्टाफ को लगाई जा रही टीकाकरण की दूसरा खुराक कुंभ मेले में जाने वाले श्रद्धालुओं के लिए एसओपी जारी, कोविड टेस्ट जरूरीः डीसी  नाथपा झाकड़ी हाइड्रो पावर स्टेशन में 181 लोगों ने किया रक्तदान सोलन जिला में 19186 बच्चों को घर-घर जाकर पिलाई गई पोलियो दवा स्वास्थ्य विभाग और आयुर्वेद विभाग द्वारा लगाए गए शिविरों में 325 लोगों के स्वास्थ्य की जांच  0 से 05 वर्ष तक के बच्चों को पिलाई गई पोलियो दवा ’रिवालसर में नौनिहालों को पिलाई पोलियो ड्राप्स’ कुष्ठ रोग के सम्बन्ध में जागरूकता शिविर आयोजित टीबी रोगियों को चिन्हित करने के लिए जिला ऊना में 8 फरवरी से सर्वेः डीसी  14 फरवरी को जिले में चलेगा पल्स पोलियो अभियान