Wednesday, January 20, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदानसाहित्य संगम संस्थान नई दिल्ली द्वारा हुआ हिमाचल इकाई का भव्य उद्घाटनबारीं पंचायत में उपप्रधानी के लिए पांच के बीच फंसा जीत का पंजा बारीं की 95 वर्षीय बोहरी देवी इस बार भी मतदान को तैयार, पिछले 60 वर्षों से हर चुनाव में किया मतदानबमसन पंचायत समिति के लिए दो दिनों में भरे 90 नामांकन, ग्राम पंचायत बारीं में प्रधान पद के लिए जबरदस्त मुकाबलाBreaking : 37.9 किलोग्राम नशीले पदार्थ का फरार आरोपी हमीरपुर पुलिस ने दबोचा अफसोस रहेगा
-
राजनैतिक

केंद्र सरकार की गलत नीतियों की वजह से पूरे भारत के किसान सड़कों पर इकट्ठा होने को मजबूर; एस. एस.जोगटा

November 29, 2020 04:09 PM

देश के बाशिंदे है उन्हीं को रोका जाए?ये कहां का न्याय है?

" अगर सड़कें खामोश हो जाएं तो संसद अवारा हो जाएगी!"

शिमला,

आम आदमी पार्टी हिमाचल प्रदेश ने केंद्र की मोदी सरकार पर पंजाब और हरियाणा के है नहीं बल्कि पूरे भारत वर्ष के किसान मोदी सरकार के खिलाफ उसकी गलत नीतियां अपनाने और उनके साथ इस महासरद मौसम के दौरान उन्हें खुली सड़कों में सरकार के खिलाफ इक्कठे होने को फिजूल में मजबुर किया जा रहा है।

सरकार का उनके साथ इस कदर निरंकुश रवैया अपनाने के लिए आम आदमी मोदी मोदी सरकार का विरोध करती है।पार्टी साथ में मांग भी करती है कि किसानों कि ईछा के विरूद्ध जो तीन कानून हाल ही में मोदी सरकार ने बनाए है, उन्हें तत्काल प्रभाव से रद करें और निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए जल्दी किसानों से भारत सरकार बात करें।ताकि हमारे देश के अन दाता खुशी से अपने घर जाए और वो अपनी खेती बाड़ी का काम जारी रखें।

मोदी सरकार की तरफ से किसानों के साथ जो कहा सुनी,पुलिस का बर्ताव ओर ठंड के मौसम ने उनके उपर ठंडे पानी की बोछारे करना इत्यादि ये बिल्कुल अच्छा नहीं लगा।क्योंकि किसान हमारे लिए पूजनीय है।जो हमे थली में परोस के खिलाते है।

उनके साथ सरकार ऐसा बर्ताव अमल में लाए वाह?अफसोस।यहां तक कि हमारे देश के इन हीरो रूपी किसानों को दिल्ली जाने के लिए भी जगह जगह रोका जाने लगा?जो इसी

देश के बाशिंदे है उन्हीं को रोका जाए?ये कहां का न्याय है?

जब की 1987 में राजीव गांधी सरकार थी और बाबा महेंद्रसिंह टिकैत के नेतृत्व में 10 लाख किसान जंतर-मंतर से लेकर वोट-क्लब तक खचाखच भरे हुए थे। किसी भी किसान को दिल्ली आने से नहीं रोका गया था।

2014 से पहले कितनी ही बुरी सरकारें रही हो मगर किसानों को दिल्ली में आने से नहीं रोका गया था।2014 के बाद यह सिलसिला शुरू हुआ है।जब से 2गुजराती राजनेताओं ने अपने 2 व्यापारी मित्रों के सहयोग से दिल्ली की सत्ता पर कब्जा किया तब से किसान दिल्ली की सत्ता के लिए आतंकी सरीखे बन गए!

किसी भी लोकतांत्रिक देश मे शांतिपूर्वक विरोध-प्रदर्शन का दमन करना तानाशाही रवैया होता है।किसानों के रास्ते को रोकना,बैरिकेड लगाना,सड़के खोदना आदि साबित करता है कि तानाशाहों को अपनी जनता से ही खतरा नजर आता है।

धार्मिक भावनाओं को भड़काकर हासिल की गई सत्ता जनता के बुनियादी मुद्दों के उठने से घबराती है और घबराहट में क्रूर व दमनकारी तरीके पर उतर आती है।

डॉ लोहिया ने कहा था " अगर सड़कें खामोश हो जाएं तो संसद अवारा हो जाएगी!"संसद में कानून पास करने के तरीके पिछले कई सालों से हम देख रहे है।आवारागर्दी की सीमाएं लांघी जा चुकी है।ऐसे में सड़कों का आबाद होना सुकून भरा अहसास दिलाता है।

हर आंदोलन को शुरू में तोड़कर गर्व महसूस कर रहे तानाशाहों को पहली बार किसानों ने सशक्त चुनौती दी है।ऐसे में हम सभी लोगों का दायित्व बनता है निरंकुशता पर लगाम लगाने के लिए इस किसान आंदोलन का जमकर समर्थन करें।

देश के लेखकों,कवियों,शायरों ने भले ही खामोशी धारण कर ली हो मगर हम किसान पुत्रों को लिखना-बोलना चाहिए।जो भी टूटा फूटा लिख सको जरूर लिखो।अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए भाषाई पकड़ या अलंकरणों की जरूरत नहीं होती।

 
Have something to say? Post your comment
और राजनैतिक खबरें
ग्राम पंचायत बम्म से प्रधान पद के उम्मीदवार अमृत शर्मा को मिला ताला और चाबी चुनाव चिन्ह ! प्रदेश की सरकारों ने बुना ऐसा मकड़जाल, रिटेंशन पॉलिसी बनी लोगों के जी का जंजाल: जोगटा हिमाचल कैबिनेट : बड़ा फेरबदल, बिक्रम ठाकुर को मिला उद्योग के साथ परिवहन मंत्रालय कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष के आरोप निराधार, कुमारसैन भाजपा ने किया खंडन राठ़ौर ने किया कुमारसेन अस्पताल और बाज़ार का दौरा, कमी होने पर सरकार से की ये मांग विधायक अपनी पीठ थपथपाने की बजाए जनता से माफी मांगे : राजेश धर्माणी इन्दु गोस्वामी ने आज यहां विधानसभा परिसर में विधानसभा सचिव के समक्ष राज्य सभा के लिए अपना नामांकन भरा। इंदु गोस्वामी ने भरा राज्यसभा का नामांकन कुमारसैन में भाजपा ने की बजट की सराहना खेल नीति पर विचार करे सरकार, राजनेताओं के कब्जे से मुक्त हों खेल संघ : राजेंद्र राणा