Monday, March 01, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआहमीरपुर जिला में हर्षोल्लास से मनाया गया 72वां गणतंत्र दिवस समारोह, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने की जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता, राष्ट्रध्वज फहराकर मार्चपास्ट की सलामी लीसमीक्षा : वार्ड पंच से लेकर जिला परिषद तक पटक डाले जनता ने , हेकड़ी , घमंड व बड़े नेताओं की धौंस हुईं जमींदोज पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदान
-
लेख

गुरु नानक देव जी के संदेश

प्रीति शर्मा "असीम" | November 30, 2020 03:19 PM

गुरु नानक देव जी के दस संदेश : इक ओंकार , लोभ का त्याग एवम् स्व अर्जन ,मेहनत व ईमानदारी , धन का प्रलोभन न करना ,स्त्री जाति का आदर , तनाव मुक्त एवं प्रसन्नता , आत्मानुशासन, अहंकार का त्याग एवं विनम्र भाव , संपूर्ण संसार एक घर , प्रेम , एकता एवम् भाईचारा . निसंदेह , समाज देश और विश्व की समस्त वर्तमान ज्वलंत समस्याओं यथा स्वा र्थ , वैमनस्य , जातिगत उन्माद , गरीबी , असमानता , रंगभेद , नस्लभेद इत्यादि को दूर करने हेतु गुरु के यह रामबाण संदेश हैं ।

    श्री गुरु नानक देव जी की अमर वाणी की शास्वत ता एवम् प्रासंगिकता :- श्री गुरु नानक देव जी की शिक्षाएं एवं वाणी अजर - अमर हैं . देश परिस्थितियों एवं काल खंडों की सीमाओं से ऊपर हैं , एवं पृथ्वी एवं मानव - जाति के अस्तित्व तक प्रासंगिक एवं उपयोगी हैं ।

           व्यक्ति विश्व की इकाई है एवं विश्व का निर्माण व्यक्तियों के समूह से होता है . दोनों का कल्याण अन्यान् योश्रीत है एवं गुरु जी के संदेश मनुष्य के आत्म - कल्याण द्वारा एक ऐसे विश्व की रचना करने का संदेश देते हैं जो समता पर आधारित , समभाव को प्रोत्साहित करने वाली एवं प्राणी मात्र के कल्याण की भावना पर आधारित हो . वर्तमान समय में मानव एवं विश्व जिन विकृतियों से ग्रसित है उनसे उबरने के लिए गुरु जी की वाणी मार्गदर्शन प्रदान करती है जैसा कि सुखमणि साहिब में उल्लेखित है : -

" नानक नाम चढ़दी कला ,तेरे भाने सरवत का भला " l 

       अर्थात नानक जी की शिक्षाओं रूपी सागर द्वारा भवसागर की वैतरणी पार की जा सकती है. दूसरे शब्दों में स्वीकार किया गया है कि , " नानक नाम जहाज है , जो चढ़े सो उतरे पार , जो श्रद्धा कर सेव दे , गुरु पा र उ तारन हार" ( श्री गुरु ग्रंथ साहिब ) . इस प्रकार , गुरु नानक देव जी की सास्वत वाणी सदैव प्रासंगिक हो कर मानव एवं विश्व के कल्याण , समृद्धि एवं विकास का मार्ग सदैव प्रशस्त करती रहेगी . ( 30 नवंबर 20- श्री गुरु नानक जनमोत्सव )। + डॉक्टर अमिताभ शुक्ल

 
Have something to say? Post your comment