Sunday, July 03, 2022
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
राघव पब्लिक स्कूल घैणी और बल्देंया में दसवीं कक्षा का परीक्षा परिणाम शत् प्रतिशत 10th Result : मंडी की प्रिंयका-दिवांगी टॉपर www.hpbose.org हिमालयन अपडेट समाचार- पत्र एवं साहित्य सृजन मंच की 5वीं वर्षगांठ पर 19 जून 2022 को शिमला में 'हिमालयन साहित्य महोत्सव व कवि सम्मेलन' का भव्य आयोजन संपन्न*बिना मीटर लगे दुकानों का उद्घाटन कर गए शहरी विकास मंत्री; संजीव कुठियालाराहत की खबर: कोरोना के मामले घटे, आज 6594 नए मामले, एक्टिव केस 50 हजार पारप्रदेश कांग्रेस कमेटी ने केंद्र की भाजपा सरकार के जांच एजेंसियों के दुरुपयोग के विरोध में केंद्रीय प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष धरना प्रदर्शन जो जमानत पर हैं वे कांग्रेस कार्यकर्ताओं से दिल्ली को घेरने को कह रहे हैं : कश्यप400 फीट गहरी खाई में गिरी कार, युवक की मौत
-
लेख

गुरु नानक देव जी के संदेश

प्रीति शर्मा "असीम" | November 30, 2020 03:19 PM

गुरु नानक देव जी के दस संदेश : इक ओंकार , लोभ का त्याग एवम् स्व अर्जन ,मेहनत व ईमानदारी , धन का प्रलोभन न करना ,स्त्री जाति का आदर , तनाव मुक्त एवं प्रसन्नता , आत्मानुशासन, अहंकार का त्याग एवं विनम्र भाव , संपूर्ण संसार एक घर , प्रेम , एकता एवम् भाईचारा . निसंदेह , समाज देश और विश्व की समस्त वर्तमान ज्वलंत समस्याओं यथा स्वा र्थ , वैमनस्य , जातिगत उन्माद , गरीबी , असमानता , रंगभेद , नस्लभेद इत्यादि को दूर करने हेतु गुरु के यह रामबाण संदेश हैं ।

    श्री गुरु नानक देव जी की अमर वाणी की शास्वत ता एवम् प्रासंगिकता :- श्री गुरु नानक देव जी की शिक्षाएं एवं वाणी अजर - अमर हैं . देश परिस्थितियों एवं काल खंडों की सीमाओं से ऊपर हैं , एवं पृथ्वी एवं मानव - जाति के अस्तित्व तक प्रासंगिक एवं उपयोगी हैं ।

           व्यक्ति विश्व की इकाई है एवं विश्व का निर्माण व्यक्तियों के समूह से होता है . दोनों का कल्याण अन्यान् योश्रीत है एवं गुरु जी के संदेश मनुष्य के आत्म - कल्याण द्वारा एक ऐसे विश्व की रचना करने का संदेश देते हैं जो समता पर आधारित , समभाव को प्रोत्साहित करने वाली एवं प्राणी मात्र के कल्याण की भावना पर आधारित हो . वर्तमान समय में मानव एवं विश्व जिन विकृतियों से ग्रसित है उनसे उबरने के लिए गुरु जी की वाणी मार्गदर्शन प्रदान करती है जैसा कि सुखमणि साहिब में उल्लेखित है : -

" नानक नाम चढ़दी कला ,तेरे भाने सरवत का भला " l 

       अर्थात नानक जी की शिक्षाओं रूपी सागर द्वारा भवसागर की वैतरणी पार की जा सकती है. दूसरे शब्दों में स्वीकार किया गया है कि , " नानक नाम जहाज है , जो चढ़े सो उतरे पार , जो श्रद्धा कर सेव दे , गुरु पा र उ तारन हार" ( श्री गुरु ग्रंथ साहिब ) . इस प्रकार , गुरु नानक देव जी की सास्वत वाणी सदैव प्रासंगिक हो कर मानव एवं विश्व के कल्याण , समृद्धि एवं विकास का मार्ग सदैव प्रशस्त करती रहेगी . ( 30 नवंबर 20- श्री गुरु नानक जनमोत्सव )। + डॉक्टर अमिताभ शुक्ल

Have something to say? Post your comment
Total Visitor : 1,28,05395
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy