Sunday, July 03, 2022
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
राघव पब्लिक स्कूल घैणी और बल्देंया में दसवीं कक्षा का परीक्षा परिणाम शत् प्रतिशत 10th Result : मंडी की प्रिंयका-दिवांगी टॉपर www.hpbose.org हिमालयन अपडेट समाचार- पत्र एवं साहित्य सृजन मंच की 5वीं वर्षगांठ पर 19 जून 2022 को शिमला में 'हिमालयन साहित्य महोत्सव व कवि सम्मेलन' का भव्य आयोजन संपन्न*बिना मीटर लगे दुकानों का उद्घाटन कर गए शहरी विकास मंत्री; संजीव कुठियालाराहत की खबर: कोरोना के मामले घटे, आज 6594 नए मामले, एक्टिव केस 50 हजार पारप्रदेश कांग्रेस कमेटी ने केंद्र की भाजपा सरकार के जांच एजेंसियों के दुरुपयोग के विरोध में केंद्रीय प्रवर्तन निदेशालय के समक्ष धरना प्रदर्शन जो जमानत पर हैं वे कांग्रेस कार्यकर्ताओं से दिल्ली को घेरने को कह रहे हैं : कश्यप400 फीट गहरी खाई में गिरी कार, युवक की मौत
-
लेख

संवाद का......... अभाव

प्रीति शर्मा" असीम " | December 29, 2020 06:29 PM

संवाद का अभाव और जंगल - समान वातावरण :- संवाद होता है समान धरातल पर , सम - भाव और समान विचारधारा होने पर , या फिर कहने - सुनने की मोहलत होने पर , विश्वास और समाधान की आशा होने पर , पर खो जाता है संवाद प्रश्नों के जंजाल में , कौतूहल , दुविधा , अविश्वास , आशंका , भय या फिर मत - वै भिन्न य में , प्रश्नों के कई - कई दौर , मेरे उत्तर यू प्रतीत होते हैं , कि जैसे कोई दूसरी भाषा में संवाद हो , बातें मुझे भी लगता है , कि किसी और भाषा में हैं , फुसफुसाहट भरी आवाज , शब्दों के उतार-चढ़ाव और भाव भंगिमा ए , समझ नहीं आ पाती हैं मुझे , इन सबके बीच कई कटीली झाड़ियां और जंगल से पैदा हो जाते हैं , हो जाता हूं मैं मौन , फिर जन्म ले लेती है आशंकाएं हमारे मध्य , प्रतीत होता है कि अदृश्य हिमालय आकर खड़ा हो गया है , और वार्तालाप तितर-बितर हो जाता है ।। यह सिलसिला चला आ रहा है कई बरसों से , जब से झंझा वातो में घिरा हूं , अबूझ पहेलियो और रहस्यमय शब्द जालो , व्यवहारों और विचित्र से प्रस्तावों के मध्य ठिठका खड़ा हूं , अपना देश ,अपनी भाषा और अपने लोग , पर अजनबी व्यवहार , विचित्र से प्रस्तावों , और शंकाओं के मध्य , लगता है जंगल बड़ा है , यह अंतराल सोच और अविश्वास का है , विचारो की भिन्नता और असद भाव का है , वरना ऐसा कोई प्रश्न नहीं है , जिसका उत्तर न हो , समस्या नहीं कोई , बस यह एक आशंका है जिनसे हम घिरे हैं, जिंदगी बीत रही तन्हा - तन्हा , जबकि ,मानव तन और मन मिला है , सारी भावनाएं और विचार हैं , बाकी सब खुराफात हैं , जिनका न आदि है और न अंत , अंत के पहले मिल जाएं , हल कर जाएं , उन सारे प्रश्नों को , जिनसे रुका सारा सिलसिला है ।।। + अमिताभ शुक्ल + + दिनांक - २४ दिसंबर २० +

Have something to say? Post your comment
Total Visitor : 1,28,05545
Copyright © 2017, Himalayan Update, All rights reserved. Terms & Conditions Privacy Policy