Thursday, May 28, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
अपडेट/ : हमीरपुर जिला में कोरोना संक्रमित के पांच नए मामले, अबतक ज़िले में कुल 20 मामले , 15 एक्टिव , 4 ठीक हुए , एक मौत ब्रेकिंग : हमीरपुर ज़िला में एक साथ कोरोना के पाँच मामले आए सामने, संक्रमितों में एक महिला भी शामिल ,ब्रेकिंग : हमीरपुर के नादौन उपमंडल की ग्वाल पत्थर पंचायत में दो व्यक्तियों के कोविड-19 संक्रमित होने की पुष्टिब्रेकिंग: मड़ावग में नेपाली मूल के युवक ने फंदा लगाकर दी जान सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल ,ख़ास ख़बर : ग़ाज़ियाबाद का एक ऐसा स्कूल जिसने लॉकडाउन में तीन माह की फ़ीस माफ़ की और टीचरों के खाते में डाली सेलरी, हिमाचल के लालची स्कूलों के लिए करारा सबक़चौपाल, नेरवा में कल बंद रहेगी बिजलीहिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर में ऑनलाईन फेसबुक लाइव के माध्यम से अध्ययन केंद्र का विधिवत उद्घाटन
-
राज्य

रामपुर में घर घर से कूड़ा उठाने वाले ठेका कर्मचारियों ने निकाली रैली

June 18, 2018 09:11 PM
 
 रामपुर बुशहर
  नगर परिषद रामपुर के अंदर घर घर कूड़े उठाने का काम करने वाले सभी ठेका मजदूरों  ने श्रम कानूनों को लागू न करने व वेतन न मिलने को लेकर  आज रामपुर मैं रोष रैली निकाली  गई। जिसका सीटू ने भी समर्थन किया । इस रैली को सम्बोधित करते हुए सीटू क्षेत्रीय कमेटी के अध्यक्ष राम दास व सचिव कुलदीप ने मजदूरों को सम्बोधित करते हुए कहा कि रामपुर नगरपरिषद के अंदर जिन मजदूरों को ठेकेदार के माध्यम से कूड़े उठाने के काम के लिये रखा है उन मजदूरों का शोषण ठेकेदार के द्वारा किया जा रहा है जिसमें नगरपरिषद का प्रशासन व श्रम विभाग मूकदर्शक बनकर देख रहा है नगरपरिषद के अंदर काम कर रहे मजदूरों के ऊपर कोई भी श्रम कानून लागू नहीं किया गया है मजदूरों को न तो कोई पहचान  पत्र दिया गया है न ही न्यूनतम वेतन मिल रहा है,महीने की 18 तारीख हो गई है परंतु मजदूरों को अभी तक मई माह का वेतन भी नहीं मिला है, मजदूरों को मास्क और golwes भी नहीं दिए गए है मजदूरों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ किया जा रहा है इतनी गंदगी का काम करने वाले किसी भी मजदूर को उनके स्वास्थ्य के लिए किसी भी प्रकार का टीका भी नहीं लगाया गया है मजदूरों को कोई वेतन स्लिप नहीं मिलती है इससे पहले यूनियन की तरफ से मार्च 2017 को सफाई का काम कर रही मजदूरों की मांगों को लेकर पहले भी नगरपरिषद  प्रबंधन अवगत करवा लिया गया था परंतु नगर परिषद के प्रबंधन व ठेकेदार के द्वारा उस पर कोई सकारात्मक करवाई नहीं की अभी भी मजदूरों को पिछला एरियर भी नहीं दिया गया है उल्टा मजदूरों से मनमाने तरीके से काम करवया जा रहा है कई घरों के अंदर भी झाड़ू का काम करवाया जा रहा यदि सुपरविजन करने वाले व्यक्ति से इस सम्बंध में बात की जाए तो वो निकालने की धमकी देता है  जब मजदूर बीमार होता है या घर पर कोई समस्या की बजह से ड्यूटी पर नहीं जाता है तो उस मजदूर को बिना नोटिस के निकाल दिया  गया है मजदूरों को कोई किसी भी प्रकार की छुट्टी नहीं दी जाती है न ही मजदूरों को कोई जूता बर्दी व मेडिकल सुविधा दी गई है नगरपरिषद के अंदर काम कर रहे मजदूरों के लिए esi को भी लागू नहीं किया गया है पुराने मजदूरों के epf का कोई रिकॉर्ड नहीं दिया गया है यूनियन ने नगरपरिषद प्रबंधन को साफ शब्दों में कहा कि ठेकेदार के द्वारा मजदूरों को 6750 सरकार द्वारा निर्धारित न्यूनतम वेतन को सुनिश्चित किया जाए , मजदूरों को समय पर वेतन दिया जाए  मजदूरों की सेफ्टी का  ध्यान रखा जाए यदि 8 सूत्रीय मांगपत्र पर  नगरपरिषद रामपुर का प्रबंधन ,ठेकेदार व सरकार के द्वारा कोई सकारात्मक कदम नहीं उठाया गया तो आंदोलन की दिशा तेज की जाएगा और नगरपरिषद के खिलाफ मोर्चाबंदी की जाएगी  ।जिसके लिये सरकार व नगरपरिषद प्रबंधन व श्रम विभाग जिमेबार होगा इस धरने को सीटू नेता आशु भारती व नगरपरिषद यूनियन की सचिव ललित ने भी बात रखी उपस्थित रहे इस धरने में रजनी,मनित,मंजू, बन्धेईन, ललित,मीना,जयवंती आदि उपस्थित रहे
 उधर ई ओ  रामपुर ने मजदूरों से मिल कर उन की मांगें सुनी  उन्हें जल्द ही ठोस कारवाही का आस्वासन दिया ।
Have something to say? Post your comment
 
और राज्य खबरें