Wednesday, February 24, 2021
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
https://youtu.be/XtZXmzukedcनगर निगम के चुनाव पार्टी चिन्ह पर करवाए जाने का कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष राठौर ने किया स्वागतशराब और भांग का नशा ऐसा छाया की साधु ने तोड़े गाड़ी के शीशे,https://youtu.be/j8Ck3V67CNAफिर लोगों ने की जमकर पिटाईसुबह सुबह अवैध रूप से बिजली का प्रयोग करते विद्युत विभाग ने एक आरोपी दबोचा बड़ी खबर :एसजेवीएन अंतर्राष्ट्रीय सौर एलाईंस में शामिल हुआहमीरपुर जिला में हर्षोल्लास से मनाया गया 72वां गणतंत्र दिवस समारोह, शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह ठाकुर ने की जिला स्तरीय समारोह की अध्यक्षता, राष्ट्रध्वज फहराकर मार्चपास्ट की सलामी लीसमीक्षा : वार्ड पंच से लेकर जिला परिषद तक पटक डाले जनता ने , हेकड़ी , घमंड व बड़े नेताओं की धौंस हुईं जमींदोज पंचायत चुनाव : भीतरघात का ऑडियो वायरल, खूब हो रही चर्चाप्रथम चरण में हमीरपुर जिला में दिग्गजों ने किया मतदान, धूमल अनुराग ने समीरपुर , राजेंद्र राणा व अभिषेक राणा ने पटलांदर में किया मतदान
-
राज्य

आनी में सरेओलसर की ओर बढे सौलानियो के कदम

June 18, 2018 09:45 PM



नीचले क्षेत्रों में त्वचा को झुलसा देने वाली गर्मी से निजात पाने को हजारों देशी व विदेशी सैलानियों ने इन दिनों हिमाचल प्रदेश के ठंडे पर्यटन स्थलों की ओर अपना रूख किया हुआ है।प्राकृतिक सुंदरता और ठंडी ठंडी शीतल हवाओं से सराभोर कुल्लू के मनाली,रोहतांग बशिष्ठ,कसोल तथा मनीकरण जैसे स्थल पर्यटन के लिहाज से राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय मानचित्र में उभरने से इन स्थलों की प्राकृतिक सुंदरता और ठंडी बादियों का लुत्फ उठाने को इन दिनों देश व विदेश के लाखों सैलानियों का तांता लगा हुआ है,जिससे कुल्लू मनाली के पर्यटन को चार चांद लगे हुए हैं।हालांकि जिला कुल्लू में मनलुभावने स्थलों की कोई कमी नहीं,मगर जिला के बाहय व भीतरी की सीमा पर लगभग 10280 फीट की उॅंचाई पर स्थित प्रमुख जलोडी दर्रे पर भी इन दिनों सैंकडांें सैलानियों का हुजुम देखा जा सकता है।जलोडी दर्रे के टाॅप से दोनो ओर दिखाई पडती खूबसूरत वादियांऔर ठंडी ठंडी फिजाएं सैलानियों को शहर की भागमभाग जिंदगी से हटकर एक परम सुख की अनुभुति करा रही हैं। यहां के ढावों में मिलने वाले शक्कपारे का स्वाद सैलानियों और अन्य आगन्तुकों बेहद पसंद है।जलोडी दर्रे पर आदिशक्ति मां काली जोगणी और पवनसुत हनुमान के मंदिर में माथा टेककर सैलानियों के कदम आगे बढते हैं,यहां से लगभग तीन कि.मी. दूर स्थित सरेओलसर झील की ओर।प्रकृति की आभा मंें स्थित यह पवित्र एवं सौम्य झील अपनी अदभुत प्राकृतिक छटा से हर आंगतुक को अचंभित करती है।लगभग एक कि.मी. की परीधि से घीरी यह झील यहां स्थित माता बुढी नागिनकी गोद में स्थित है। समुद्रतल से लगभग साढे नौ हजार फीट की उॅंचाई पर स्थित सरेओलसर झील तक पहुॅचने के लिए सैलानियों तथा भक्तों को जलोडी दर्रे से आगे लगभग तीन कि.मी. की सरपीली पैदल पंगडंडी को पार करना पडता है।मार्ग में पीने के लिए किसी प्रकार के पेयजल की सुविधा ने होने से सैलानियों को जलोडी दर्रे से ही अपने साथ बोतल में पानी भरकर ले जाना पडता है।इस झील का सम्बन्ध पांडवों से भी जोडा गया हैं।किवदंति है आदिकाल में पांडव बनवास के दिनों में जब हिमालय की ओर आए थे,तो सरेओलसर में भी उन्होंने एक रात्रि को विश्राम किया था और प्रातः झील में स्नानआदि कर माता बुढी नागिन की पूजा अर्चना की थी।"कहते हैं कि पांडवों ने उस दौरान झील के किनारे धान भी लगाया था,जो समय अनुसार आज भी लगता है"रेओसर झील के बारे में एक अदभुत बात यह भी है कि झील की परीधी के ईर्द गिर्द कई तरह के जंगली पेड पौधे विद्यमान में हैं,तेज हवा चलने पर इनके पत्तों की गूंज से समुचा वातावरण गंूजायमान हो उठता है।इसी दौरान पेडों से पत्ते हवा के साथ उडकर झील में आ गिरते हैं।मगर अंचम्भा कि एक आभी नाम की चिडिया झील में से पत्तों को चुनकर वाहर निकाल देती है और झील का पानी सदैव सौम्य वना रहता है।पर्यावरण की स्वच्छता के लिए आभी एक प्रेरणा और आदर्श है।बतातें चलें कि आभी नाम की इस चिडिया पर आकाशवाणी शिमला द्वारा एक डक्युमेंटरी भी तैयार कर उसे प्रसारित किया गया है और कुछ लेखकों ने इस पर पुस्तकें भी प्रकाशित की हैं।सरेओलसर की विशेषता को जिंतना व्यां किया जाए,उतना कम है।यह झील एक प्रसिद्व पर्यटन स्थल होने के साथ साथ धार्मिक आस्था और शक्ति का प्रमुख स्थल भी है। इस झील और यहां स्थित माता बुढी नागिन के प्रति जिला कुल्लू के इनर और आउटर सराज के लोगों की अगाध श्रद्वा और अटूट धार्मिक आस्था है।ग्रामीण अपने दुधारू पशुओं द्वारा पहली बार दूध दिए जाने के बाद उससे तैयार मक्खन घी को सबसे पहले सरेओलसर पहॅुुकर माता बुढी नागिन और सरेओलर झील को चढाते हैं और घी की धार से झील की परिक्रमा भी करते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने से माता बुढी नागिन प्रसन्न होती हैं और माता के आशिवार्द से उनके घर में घी दूध की कोई कमी नहीं होती।क्षेत्र के देवी देवता भी हर वर्ष यहां आकर झील की परिक्रमा करते हैं और माता बुढी नागिन से अपनी खोई हुई शक्तियों को पुनः प्राप्त करते हैं।इस स्थल के दीदार पाने को इन दिनों यहां देशी व विदेश सैलानियों का तांता लगा हुआ है। जरूरत है तो बस इस स्थल को पर्यटन के मानचित्र पर धार्मिक पर्यटन की दुष्टि से विकसित करने की।

 
Have something to say? Post your comment
और राज्य खबरें
तहसीलदार ने किया विस्फोट वाली जगह का दौरा सड़क सुरक्षा को बनाएं आदत: श्रवण मांटा आदित्य नेगी की अध्यक्षता में राष्ट्रीय बांस मिशन के अंतर्गत जिला शिमला के लिए गठित जिला स्तरीय बांस विकास एजेंसी की बैठक का आयोजन किया गया पंचायती राज संस्थाओं के प्रतिनिधि लोगों को सड़क सुरक्षा नियमों के बारे शिक्षित करे वर्तमान में ऊना विस में हो रहा 1000 करोड़ की परियोजनाओं पर काम: सत्ती एसडीएम माह में कम से कम दो पटवार वृतों का निरीक्षण करें: डीसी ग्रामीण बैंक द्वारा 9वां स्थापना दिवस आयोजित अगले वित्त वर्ष में 96,855 क्विंटल गेहूं बीज उत्पादित करने का लक्ष्य सड़क सुरक्षा जीवन रक्षा में सब बनें भागीदार: वीरेन्द्र कंवर सबस्टेशन चंबा के तहत 16 फरवरी को 11.30 बजे से दोपहर  2 बजे तक बंद रहेगी विद्युत आपूर्ति