Monday, May 25, 2020
Follow us on
ब्रेकिंग न्यूज़
अपडेट/ : हमीरपुर जिला में कोरोना संक्रमित के पांच नए मामले, अबतक ज़िले में कुल 20 मामले , 15 एक्टिव , 4 ठीक हुए , एक मौत ब्रेकिंग : हमीरपुर ज़िला में एक साथ कोरोना के पाँच मामले आए सामने, संक्रमितों में एक महिला भी शामिल ,ब्रेकिंग : हमीरपुर के नादौन उपमंडल की ग्वाल पत्थर पंचायत में दो व्यक्तियों के कोविड-19 संक्रमित होने की पुष्टिब्रेकिंग: मड़ावग में नेपाली मूल के युवक ने फंदा लगाकर दी जान सेवा का ईनाम : दूसरी बार डीजीपी डिस्क अवॉर्ड से सम्मानित होंगे हमीरपुर के CID इंचार्ज जगपाल सिंह जसवाल ,ख़ास ख़बर : ग़ाज़ियाबाद का एक ऐसा स्कूल जिसने लॉकडाउन में तीन माह की फ़ीस माफ़ की और टीचरों के खाते में डाली सेलरी, हिमाचल के लालची स्कूलों के लिए करारा सबक़चौपाल, नेरवा में कल बंद रहेगी बिजलीहिमाचल प्रदेश तकनीकी विश्वविद्यालय हमीरपुर में ऑनलाईन फेसबुक लाइव के माध्यम से अध्ययन केंद्र का विधिवत उद्घाटन
-
राज्य

आनी में सरेओलसर की ओर बढे सौलानियो के कदम

June 18, 2018 09:45 PM



नीचले क्षेत्रों में त्वचा को झुलसा देने वाली गर्मी से निजात पाने को हजारों देशी व विदेशी सैलानियों ने इन दिनों हिमाचल प्रदेश के ठंडे पर्यटन स्थलों की ओर अपना रूख किया हुआ है।प्राकृतिक सुंदरता और ठंडी ठंडी शीतल हवाओं से सराभोर कुल्लू के मनाली,रोहतांग बशिष्ठ,कसोल तथा मनीकरण जैसे स्थल पर्यटन के लिहाज से राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय मानचित्र में उभरने से इन स्थलों की प्राकृतिक सुंदरता और ठंडी बादियों का लुत्फ उठाने को इन दिनों देश व विदेश के लाखों सैलानियों का तांता लगा हुआ है,जिससे कुल्लू मनाली के पर्यटन को चार चांद लगे हुए हैं।हालांकि जिला कुल्लू में मनलुभावने स्थलों की कोई कमी नहीं,मगर जिला के बाहय व भीतरी की सीमा पर लगभग 10280 फीट की उॅंचाई पर स्थित प्रमुख जलोडी दर्रे पर भी इन दिनों सैंकडांें सैलानियों का हुजुम देखा जा सकता है।जलोडी दर्रे के टाॅप से दोनो ओर दिखाई पडती खूबसूरत वादियांऔर ठंडी ठंडी फिजाएं सैलानियों को शहर की भागमभाग जिंदगी से हटकर एक परम सुख की अनुभुति करा रही हैं। यहां के ढावों में मिलने वाले शक्कपारे का स्वाद सैलानियों और अन्य आगन्तुकों बेहद पसंद है।जलोडी दर्रे पर आदिशक्ति मां काली जोगणी और पवनसुत हनुमान के मंदिर में माथा टेककर सैलानियों के कदम आगे बढते हैं,यहां से लगभग तीन कि.मी. दूर स्थित सरेओलसर झील की ओर।प्रकृति की आभा मंें स्थित यह पवित्र एवं सौम्य झील अपनी अदभुत प्राकृतिक छटा से हर आंगतुक को अचंभित करती है।लगभग एक कि.मी. की परीधि से घीरी यह झील यहां स्थित माता बुढी नागिनकी गोद में स्थित है। समुद्रतल से लगभग साढे नौ हजार फीट की उॅंचाई पर स्थित सरेओलसर झील तक पहुॅचने के लिए सैलानियों तथा भक्तों को जलोडी दर्रे से आगे लगभग तीन कि.मी. की सरपीली पैदल पंगडंडी को पार करना पडता है।मार्ग में पीने के लिए किसी प्रकार के पेयजल की सुविधा ने होने से सैलानियों को जलोडी दर्रे से ही अपने साथ बोतल में पानी भरकर ले जाना पडता है।इस झील का सम्बन्ध पांडवों से भी जोडा गया हैं।किवदंति है आदिकाल में पांडव बनवास के दिनों में जब हिमालय की ओर आए थे,तो सरेओलसर में भी उन्होंने एक रात्रि को विश्राम किया था और प्रातः झील में स्नानआदि कर माता बुढी नागिन की पूजा अर्चना की थी।"कहते हैं कि पांडवों ने उस दौरान झील के किनारे धान भी लगाया था,जो समय अनुसार आज भी लगता है"रेओसर झील के बारे में एक अदभुत बात यह भी है कि झील की परीधी के ईर्द गिर्द कई तरह के जंगली पेड पौधे विद्यमान में हैं,तेज हवा चलने पर इनके पत्तों की गूंज से समुचा वातावरण गंूजायमान हो उठता है।इसी दौरान पेडों से पत्ते हवा के साथ उडकर झील में आ गिरते हैं।मगर अंचम्भा कि एक आभी नाम की चिडिया झील में से पत्तों को चुनकर वाहर निकाल देती है और झील का पानी सदैव सौम्य वना रहता है।पर्यावरण की स्वच्छता के लिए आभी एक प्रेरणा और आदर्श है।बतातें चलें कि आभी नाम की इस चिडिया पर आकाशवाणी शिमला द्वारा एक डक्युमेंटरी भी तैयार कर उसे प्रसारित किया गया है और कुछ लेखकों ने इस पर पुस्तकें भी प्रकाशित की हैं।सरेओलसर की विशेषता को जिंतना व्यां किया जाए,उतना कम है।यह झील एक प्रसिद्व पर्यटन स्थल होने के साथ साथ धार्मिक आस्था और शक्ति का प्रमुख स्थल भी है। इस झील और यहां स्थित माता बुढी नागिन के प्रति जिला कुल्लू के इनर और आउटर सराज के लोगों की अगाध श्रद्वा और अटूट धार्मिक आस्था है।ग्रामीण अपने दुधारू पशुओं द्वारा पहली बार दूध दिए जाने के बाद उससे तैयार मक्खन घी को सबसे पहले सरेओलसर पहॅुुकर माता बुढी नागिन और सरेओलर झील को चढाते हैं और घी की धार से झील की परिक्रमा भी करते हैं। मान्यता है कि ऐसा करने से माता बुढी नागिन प्रसन्न होती हैं और माता के आशिवार्द से उनके घर में घी दूध की कोई कमी नहीं होती।क्षेत्र के देवी देवता भी हर वर्ष यहां आकर झील की परिक्रमा करते हैं और माता बुढी नागिन से अपनी खोई हुई शक्तियों को पुनः प्राप्त करते हैं।इस स्थल के दीदार पाने को इन दिनों यहां देशी व विदेश सैलानियों का तांता लगा हुआ है। जरूरत है तो बस इस स्थल को पर्यटन के मानचित्र पर धार्मिक पर्यटन की दुष्टि से विकसित करने की।

Have something to say? Post your comment
 
और राज्य खबरें
अप्पर पंजावर का वार्ड एक और 2 कन्टेनमेंट जोन घोषित पठानकोट से 4 बसों में लाए गए 94 लोग  मिल्कफेड अध्यक्ष ने दुग्ध उत्पादकों को कहा ‘थैंक्स’ भाजपा ने अनुसूचित जाति मोर्चा व ओ0बी0सी0 मोर्चा के प्रदेश पदाधिकारियों व जिलाध्यक्षो की घोषणा की। जिला दण्डाधिकारी सोलन के.सी. चमन ने आवश्यक आदेश किए जारी कोरोना योद्धाओं की भूमिका में एचआरटीसी के ड्राइवर-कंडक्टर अंतर जिला आवाजाही के लिए कर्यू पास अनिवार्य बाहरी प्रदेशों के श्रमिकों के लिए आत्म निर्भर भारत योजना  लाहुल स्पीति के काजा उपमंडल में गुरुवार को आतंकवाद विरोधी दिवस मनाया गया अनुराग ठाकुर ने कहा केंद्र सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश को 367.84 करोड़ रुपए जारी किए गए हैं